मेरा नाम आल्बिन बाबु हे। मे ने वेनप्पारा नामक गाव से आता हे।यह गाव केरळ मे हे। इसकि सबसि प्यारि सविशेश्ता हे कि इस गाव मे हरियालि का निर्त्य हे। बडा बडा मक्कानो वाह नहि हे।यह गाव मे सारि दुनिया स्नेह ओर साहोतर्य से जीता हे।सब लोग मेहनत से पेसा कमाता हे।सारे उत्सवो मे सब जनता के उपस्थिति भि हे।लेकिन बात ये नहि हे। मे अपने बारे मे कह्ते हे। मेरा कहानि ९ मार्च 1997 से शुरु हुआ। उस दिन मे पहले बार मुज्जे सूरज को मिला । मेरा घर उस समय मे बहुत बडा था । मेरी माता ओर पिता दोनो अत्याप्क हे। मुजेको एक छोटी बहन हे । वह पटती हे। उस दिनो मुजे लल्लबि करनेलिए सब परिवार जानता था। मेरा बाल्यकाल गुश कि दिनो था। मे ने पहले बार एल के जि गया,सिर्फ ग्गेलनेकेलिए गया। मे इन्फन्ट जीसस स्कूल मे अपनि सारी शिक्षा करदिया । वह दिनो मेरी जिन्दगी का अच्चा दिनो था। क ई दोस्तो ओर उनकी बीच हुए वार्तालाप सब मेरा दिमाग मे हे। मेरे १० कक्षा मे अपनि स्कूल के लीडर बन गया। १० के बात मेरा शिक्षा एक प्रेश्सत स्कूल मे हुए। मे ने सयन्स माद्य्य्म मे था। वह दो साल मेरा जान के सब्से सुन्दर दिनो था। अपनि स्कूल के सामने से क ई पेडो ओर एक निर्मल भि था । अब मे क्र्यिस्ट यूनिवेरसिट्टी मे पटता हे ।https://commons.wikimedia.org/wiki/Special:UploadWizard

'
चित्र:Https://commons.wikimedia.org/wiki/Special:UploadWizard
जन्म ९ मार्चह १९९७
वेनप्पारा, केर्ल, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय