परिचयसंपादित करें

मैं अंकुर आनन्द मिश्र आप सभी को वचन देता हूँ कि मै ज्ञानकोष का सबसे बडा सहयोगी बनुंगा।

व्यक्तिगतसंपादित करें

मूलतः मैं उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती जनपद के उदईपुर गाँव से सम्बन्धित हूँ। जहाँ तक वर्तमान का सम्बन्ध है मैं लखनऊ विश्वविद्यालय से स्नातक स्तरीय छात्र हूँ। मैंनें माध्यमिक स्तर तक अपनी मात्‌भूमि पर ही रहते हुये ही की हैं।मेरा माध्यमिक स्तर विज्ञान माध्यम तथा गणित वर्गीय था। परन्तु ये भी प्रासंगिक तथ्य है कि आज भी मेरी रुचि सर्वाधिक जीवविज्ञान में है।

मेरा परिवारसंपादित करें

बाबा-आजी

स्वर्गीय शान्ति देवी

सर्वश्री आनन्द स्वरुप मिश्र

माता-पिता

श्रीमती ममता मिश्रा

श्री विष्णु स्वरुप मिश्र

बडे माता-पिता

स्वर्गीय चन्दा मिश्रा

श्री क्‌ष्ण स्वरुप मिश्र

दीदी-जीजा

श्रीमती सरिता मिश्रा

श्रीजय प्रकाश त्रिपाठी

भैया-भाभी

श्रीमती रीता मिश्रा

श्री रवि स्वरुप मिश्र

अनुज

विक्रम आनन्द मिश्र

अन्य नामः विक्रम बैताल, छोटा डॉन, विकी।

अनुजा

कुमारी साक्षी मिश्रा

दीदी

कुमारी सविता मिश्रा

मेरे आदर्श

श्री श्रवण कुमार मिश्र

जिला खाद्य निरीक्षक (मऊ)

मेरे हमउम्र

वेद प्रकाश त्रिपाठी

शैक्षिक विवरणसंपादित करें

ज्ञातव्य है कि मैँ स्नातक स्तरीय का छात्र हूँ तथा प्राचीन भारतीय भारतीय इतिहास,राजनीति विज्ञान तथा भूगोल मेरे स्वनिर्वाचित विषय हैँ। इनमें भूगोल अतिप्रासँगिक हैँ क्योँकि भूगोल एकमात्र ऐसा विषय है जिसका अनुप्रयोगिक स्तरीय महत्व प्रत्येक विषय में सार्वभौम्य रुप से बरकरार है। भूगोल एक अन्तरानुशासक(inner desciplinary) शास्त्र है। भूगोल सम्पूर्ण विश्व की समग्रता का अध्ययन है। किसी निश्चित भूभाग के प्रत्येक पहलू का अध्ययन भूगोल के अन्तर्गत किया जाता है। भूगोल का मौलिक गुण इसका क्षेत्रीय उपागम है। यही कारण है कि कुछ विद्वान भूगोल को क्षेत्रीय विज्ञान (Regional science) की संज्ञा देते हैँ। मैँ भी इसे एक व्यापक क्षेत्रीय उपागम वाला शास्त्र मानता हूँ।

 ०८:०९, ३ दिसंबर २०१० (UTC)~अंकुर आनन्द मिश्र