"आप अपने कुशल नेतृत्व क्षमता के कारण एक अच्छे वक्ता और संघर्षशील शिक्षक के रूप में जाने जाते रहे हैं। वर्तमान में आप भारतिये रेलवे में कार्यरत हैं"।
     
          "कुंवर विकास सिंह"
      _____________________

" जीवन सिर्फ एक बार मिलता है मृत्यु भी एक ही बार मिलेगी। पर हमारे द्वारा किया गया कार्य हमेशा अमर होगा"।।

        कृषक  परिवार में जन्मे कुंवर विकास सिंह बाल्यकाल से ही गणित विषय के अच्छे विद्यार्थी रहे हैं  जिसके कारण बचपन से ही इनका लगाव गणित विषय को पढ़ने और पढ़ाने में लगा रहा है।
           
             शिक्षा-
            ______
         सुबिधा सम्पन्न क्षेत्र होने के कारण प्राथमिक से स्नातक तक की शिक्षा ग्रामीणांचल से तहसील मुख्यालय तक के सरकारी व अर्धसरकारी विद्यालयों से सम्पन्न हुई।
      सामाजिक कार्य
    _______________
आप हमेशा सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर भाग लेते रहें हैं वर्तमान में आपके द्वारा गरीब बच्चों को निशुल्क शिक्षा की व्यवस्था कराई जा रही है जहां खुद भी आप अध्यापन का कार्य करते हैं कभी-कभी बच्चों की बौद्धिक विकास के लिए प्रतियोगिताओं का भी आयोजन कराते रहें हैं वर्तमान में आप भारतीय रेलवे के मेंस यूनियन संगठन में रहकर साथी कर्मचारियों के हितों के लिए कार्य कर रहे हैं।
 
  राजशाही तन्त्र से सम्बन्ध-       _______________________
         कुंवर विकास सिंह  चौहान वंशी ठाकुर है,  इनका गोत्र वत्स हैं, अंतिम हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान के चाचा साम्भर नरेश कान्हराय के वंशज है, जनपद अमेठी का वर्तमान परगना आसल इनके पूर्वज महाराज आशलदेव की रियासत रही जँहा इनका मूल निवास भी है।

इनके पूर्वजो का इतिहास सुल्तानपुर जनपद के दियरा रियासत, हसनपुर रियासत,व रजवाड़ क्षत्रियों के गाराब कुड़वार रियासत के जागीरदारों व क्षत्रियों से मिलती है, यह सभी रियासते राजा बरियारशाह के वंशजो की रही जो राजा आशलदेव के पिता श्री थे।

                         धन्यवाद।
                                   Kunwar Vikash Singh