हिन्दू पुराणों में समुद्र को देवता माना गया है। 'समुद्र' का शाब्दिक अर्थ 'जलराशि का एकत्र रूप' है। समुद्र शब्द संस्कृत से प्रभावित विभिन्न भाषाओं में मिलता है। ऋग्वेद में 'समुद्र' १३३ बार आया है।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें