सहारा इंडिया परिवार भारत का बहु-व्यापारिक कंपनी है। इसका कार्य वित्तीय सेवाओं, गृहनिर्माण वित्त (हाउसिंग फाइनेंस), म्युचुअल फंडों, जीवन बीमा, नगर-विकास, रीयल-इस्टेट, अखबार एवं टेलीविजन, फिल्म-निर्माण, खेल, सूचना प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य, पर्यटन, उपभोक्ता सामग्री सहित अनेकों क्षेत्रों में फैला हुआ है।

चित्र:Saharindialogo.PNG
सहारा इंडिया का प्रतीकचिह्न (लोगो)

सहारा समूह की सहकारी समितियों के जमाकर्ताओं की वैध जमा धनराशि के भुगतान संबंधी शिकायतों के समाधान के लिए सहकारिता मंत्रालय के आवेदन पर भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने 29 मार्च 2023 को एक आदेश दिया। इसके तहत माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने सहारा समूह की सहकारी समितियों के वास्तविक जमाकर्ताओं के वैध देयों के भुगतान के लिए सहारा-सेबी रिफंड खाते से 5000 करोड़ रुपये सहकारी समितियों के केंद्रीय रजिस्ट्रार (CRCS) को हस्तांतरित किए जाने का आदेश दिया। केंद्र सरकार ने, 18 जुलाई, 2023 को सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल को लांच कर दिया है। आप इस पोर्टल पर जाकर रिफंड के लिए आवेदन कर सकते हैं।[1]

सन्दर्भ संपादित करें

  1. "सहारा इंडिया रिफंड अप्लाई ऑनलाइन कैसे करें". 29 जुलाई 2023.

सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल लॉन्च

बाहरी कड़ियाँ संपादित करें