सावर्णि मनु

सातवें मनु

हिंदू पौराणिक कथाओं में 14 मनुओं का उल्लेख है। हिंदू ग्रंथों के अनुसार वर्तमान में मन्वंतर सातवें मनु वैवस्वत के नाम पर चल रहा है। अगले मनु यानि आठवें मनु का नाम सावर्णि मनु या सूर्य सावर्णिका मनु है। सूर्य सावर्णिका का अर्थ है सूर्य के सदृश होना। वह सूर्यदेव और उनकी छाया नामक पत्नी से जन्मे पुत्र हैं। सावर्नी के पुत्र निर्मोका के नेतृत्व में होंगे, और इन देवताओं में सुताप भी शामिल हैं। विरोचन के पुत्र बाली, इंद्र हैं और गालव और परशुराम सात संतों में से हैं। मनु के इस युग में, देवत्व के सर्वोच्च व्यक्तित्व का अवतार देवगुह्य के पुत्र सर्वभूमा और सरस्वती के रूप में प्रकट होते हैं। इस मनु का नाम एकमात्र आश्रम एस. एस. एम. आश्रमम यानी सूर्य सावर्णिका मानवु आश्रम की स्थापना भारत में तेलंगाना राज्य के खम्मम जिले के गरलोवोद गांव में की गई है।[1]

संदर्भसंपादित करें

  1. S, Knapp. "The Avataras of God". www.stephen-knapp.com. मूल से 27 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2009-04-16.


साँचा:Hindu-theo-stub