मुख्य मेनू खोलें

सतनीक द्रौपदी और भीम का पुत्र था। उसने कुरुसेना के बहुत से योद्धाओं को परास्त किया और अपने भाइयों के साथ मिलकर भूरिश्रेवास के बहुत से भाइयों और, दुर्योधन, दु:शासन और अन्य कौरवों के पुत्रों का वध किया।

१८ वें दिन युद्ध समाप्त होने के पश्चात रात्री में सतनीक और उसके अन्य भाइयों का अश्वत्थामा ने सोते समय वध कर दिया।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी सम्पर्कसंपादित करें