मुख्य मेनू खोलें

निर्देशांक: 25°56′N 86°15′E / 25.93°N 86.25°E / 25.93; 86.25 सुपौल बिहार का एक शहर है, जो इसी नाम के ज़िले का मुख्यालय है। सुपौल जिला वर्तमान सहरसा जिले से 14 मार्च 1991 में विभाजित होकर अस्तित्व में आया।सहरसा फारबिसगंज रेलखंड पर सुपौल स्थित है। सांस्कृतिक रूप से यह काफी समृद्ध जिला है नेपाल से करीब होने के कारण यह सामरिक रूप से काफी महत्त्वपूर्ण है। क्षेत्रफल के अनुसार यह कोसी प्रमंडल का सबसे बड़ा जिला है, वीरपुर,त्रिवेणीगंज,निर्मली,सुपौल आदि इसके अनुमंडल है। पर्यटन स्थलों में गणपतगंज का विष्णु मंदिर,धरहारा का महादेव मंदिर,वीरपुर में कोसी बैराज,हुलास का दुर्गा महादेव मंदिर तिनटोलिया का दुर्गा स्थान,प्रतापगंज दुर्गा स्थान आदि प्रमुख हैं। धान,गेहूं,मूंग,पटसन आदि की पैदावार ज्यादा की जाती है। लोकगायिका शारदा सिन्हा महान अर्थशास्त्री व भूतपूर्व मुख्यमंत्री डॉ जगन्नाथ मिश्र एवं स्व.पंडित ललित नारायण मिश्र विशिष्ट व्यक्तित्व के रूप में मशहूर हैं। इनके पिता श्री राजेन्द्र मिश्र भी स्वतंत्रता सेनानी तथा बिहार कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में प्रशिद्ध हुए। यहीं के बायसी ग्राम में जन्मे उदित नारायण झा वाँलीवुड के संगित जगत में छाए हुए हैं।[1][2]

सुपौल
—  जिला  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य बिहार
जिलाधीक्षक
पुलिस अधीक्षक
जनसंख्या
घनत्व
22,28,397 (आशा जनगणना पंजी) (2011 के अनुसार )
• 920/वर्ग कि.मी.
क्षेत्रफल 2410 वर्ग कि.मी. कि.मी²

इतिहाससंपादित करें

सुपौल प्राचीन काल में मिथिला राज्य का हिस्सा था। बाद में मगध तथा मुगल सम्राटों ने भी राज किया। ब्रिटिश काल में सुपौल के प्रशासनिक और सामरिक महत्व देखते हुए 1870 में इसे अनुमंडल का दर्जा दिया गया। अनुमंडल बनने के करीब 121 वर्षों के बाद सुपौल को 1991 में जिला बनाया गया। यह जिला अब विकाश की नई नई बुलंदीयों को छुता जा रहा है।यहाँ का litrecy rate तेजी से बढता जा रहा है।यह जिला खुले में सौच से मुक्त हो चुका है।सुपौल का सबसे विकसित गाँव सिरीपुर है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Bihar Tourism: Retrospect and Prospect," Udai Prakash Sinha and Swargesh Kumar, Concept Publishing Company, 2012, ISBN 9788180697999
  2. "Revenue Administration in India: A Case Study of Bihar," G. P. Singh, Mittal Publications, 1993, ISBN 9788170993810