सैन्य कूटनीति

वो देश का रक्षा करते है

अन्तरराष्ट्रीय राजनीति में, अपने सैन्य संसाधनों का शान्तिपूर्ण ढंग से उपयोग करके विदेश नीति के लक्ष्यों को प्राप्त करना ही सैन्य कूटनीति (defence diplomacy) कहलाता है। इसकी उत्पत्ति शीत युद्ध के बाद पश्चिमी रक्षा प्रतिष्ठानों में हुई थी।

सैन्य कूटनीति का सम्बन्ध संघर्ष के निवारण तथा रक्षा-क्षेत्र में सुधार से है। यह युद्धपोत राजनय (gunboat diplomacy) की संकल्पना से बिल्कुल भिन्न है जो अपने विरोधियों को डराने के उद्देश्य से प्रेरित होती है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें