स्रोङ्चन गम्पो

तिब्बत के पूर्व नरेश एवं तिब्बती साम्राज्य के संस्थापक

स्रोंचन गम्पो (སྲོང་བཙན་སྒམ་པོ།, Wylie: Srong btsan sgam po), के बाद से 617-698 ई० के समय में [1] तिब्बती सम्राट थे। लिच्छबी शासक अंशुवर्मा के बाद बेटी भृकुटी के साथ नेपाल के संबंधों के साथ बंधे। स्रोंचन गम्पो का शासनकाल के दौरान सम्भोट लिपि केआविष्कार के बाद किया गया है करने के लिए भारत और नेपाल के बाद बौद्ध पाठ करने के लिए एस का तिब्बती भाषा में अनुवाद और लिपयन्तरण करने के लिए कार्रवाई भी शुरू हो जाएगा स्रोंचन गम्पो तीन तिब्बती धर्मराज से पहेला धर्मराज माना जाता है।

स्रोंचन गम्पो
तिब्बती सम्राट
Songstengampo.jpg
तिब्बती सम्राट स्रोंचन गम्पो का मूर्ति
शासनावधिसन् ६२९-६५० तक (२१ वर्ष)
राज्याभिषेकसन् ६३०
पूर्ववर्तीनम्री स्रोंचन
उत्तरवर्तीमाङस्रों मांचन
जन्मसन् ६१७ तीसरा तिब्बती महिना
मल्ड्रो गुंकर जों, दरबार ज्यम्पा मिग्युर
निधनसन् ६५० (३४ वर्ष)
सल्मो गं फुन्युल ?
समाधिसन् ६५०
मुरी मुग्पो
संगिनीभृकुटी
ग्यजा कोंजो
जीवनसंगीभृकुटी
ग्यजा कोंजो
मि ञग रु योंजा
शंशुंजा लिथिग मन
मोंजा ठ्री ञेन् दों
संतानगुंस्रों गुंचन
पूरा नाम
छोस्ग्यल स्रोंचन गम्पो (धर्म सम्राट स्रोंचन गम्पो)
दरबारपोटाला दरबार
राजवंशस्रोंचन
पितानम्री स्रोंचन
माताड्रीजा थोद्करमा
धर्मबौद्ध धर्म

प्रारंभिक जीवन और सांस्कृतिक पृष्ठभूमिसंपादित करें

परिवारसंपादित करें

सांस्कृतिक गतिविधियोंसंपादित करें

स्रोंचनका शासनकाल के दौरान बौद्ध धर्म की शुरूआतसंपादित करें

शांशुङ पर पारजितसंपादित करें

टिप्पणीसंपादित करें

की सामग्री के बारे मेंसंपादित करें

  1. गिरोहों कर सकते हैं-बोड चेन पो ' i rGyal rabs 'Dus-gsal du bKod-pa sNgon-med Dwang-shel 'Phrul gyi me long | तिब्बत के राजनीतिक इतिहास, पृष्ठ हैं.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें