हंतावाइरस एक विषाणु है। हंटवायरस, बुन्याविरीडे परिवार में आरएनए वायरस हैं जो मनुष्य को मार सकते हैं। वे आम तौर पर कृन्तकों को संक्रमित करते हैं और इन मेजबानों में रोग का कारण नहीं बनते हैं। मानव कृन्तकों के मूत्र, लार, या मल के संपर्क के माध्यम से हांटावायरस से संक्रमित हो सकते हैं।[1]

लक्षणसंपादित करें

हंता वायरस के लक्षण निम्नलिखित है।

  • सिर दर्द,
  • बुखार,उल्‍टी
  • शरीर में दर्द
  • डायरिया और पेट में दर्द

यदि समय पर हंतावायरस का इलाज नहीं होता है तो इसके कारण संक्रमित इंसान के फेफड़े में पानी भी भर सकता है, जिससे सांस लेने में परेशानी हो सकती है और अंततः मौत भी हो सकती है।[2]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "हंता वायरस: क्या हैं लक्षण, कैसे करता है संक्रमित?". BBC HINDI.
  2. "हन्ता वायरस के लक्ष्ण क्या हैं?". जागरण जोश.