रसायन शास्त्र में हाइड्राइड (Hydride) हाइड्रोजन तत्व का ऋणायन (ऋणात्मक/निगेटिव आवेश वाला आयन) होता है, जिसे रासायनिक सूत्र H द्वारा दर्शाया जाता है। यह अक्सर धातु तत्वों के साथ बने हाइड्रोजन के रासायनिक यौगिकों (क्म्पाउंड) में पाए जाते है, क्योंकि वह हाइड्रोजन से अधिक विद्युत-घनात्मक (इलेक्ट्रोपोज़िटिव) होते हैं और उनके साथ यौगिक बनाते हुए हाइड्रोजन एक इलेक्ट्रोन ले लेता है और ऋणात्मक आवेश (चार्ज) का आयन बन जाता है। इसका एक उदाहरन बोरोन हाइड्राइड है।[1][2]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Greenwood, N. N.; & Earnshaw, A. (1997). Chemistry of the Elements (2nd Edn.), Oxford:Butterworth-Heinemann. ISBN 0-7506-3365-4.
  2. W. M. Mueller, J. P. Blackledge, G. G. Libowitz, Metal Hydrides, Academic Press, N.Y. and London, (1968)