हाइपरसॉनिक उड़ान

अतिपराध्वनिक उड़ान (हाइपरसॉनिक उड़ान) वह उड़ान है जो धरती के वातावरण से होकर (90 किलोमीटर से कम ऊँचाई पर) 5 मैक से अधिक वेग से भरी जाती है। इतनी अधिक गति के कारण वायु काफी सीमा तक वियोजित होने लगती है और अत्यधिक ऊष्मा पैदा होती है।[1][2]

वायुयान जिन्होंने उड़ान भरीसंपादित करें

हाइपरसॉनिक वायुयानसंपादित करें

अन्तरिक्ष यानसंपादित करें

निरस्त वायुयानसंपादित करें

हाइपरसॉनिक वायुयानसंपादित करें

अन्तरिक्ष यानसंपादित करें

विकास में तथा प्रस्तावित वायुयानसंपादित करें

हाइपरसॉनिक वायुयानसंपादित करें

क्रूज़ मिसाइल और वॉरहैडसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. White, Robert. "Across the Hypersonic Divide". HistoryNet. HistoryNet LLC. मूल से 17 नवंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 October 2015.
  2. "Hypersonic plane passes latest test - Just In - ABC News (Australian Broadcasting Corporation)". Abc.net.au. 2010-03-22. मूल से 25 मार्च 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2014-02-18.
  3. D. Preller and P. M. Smart, "Abstract: SPARTAN: Scramjet Powered Accelerator for Reusable Technology AdvaNcement," 2014. http://rispace.org/wp-content/uploads/2015/03/33_preller.pdf Archived 2015-10-10 at the Wayback Machine

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें