विश्व स्वास्थ्य संगठन की परिभाषा के अनुसार, हिंसा "स्वयं के विरुद्ध, किसी अन्य व्यक्ति या किसी समूह या समुदाय के विरुद्ध शारीरिक बल या शक्ति का साभिप्राय उपयोग है, चाहे धमकीस्वरूप या वास्तविक, जिसका परिणाम या उच्च संभावना है कि जिसका परिणाम चोट, मृत्यु, मनोवैज्ञानिक नुकसान, दुर्बलता, या कुविकास के रूप में होता हैं", हालांकि संगठन यह स्वीकार करता है कि इसकी परिभाषा में "शक्ति का उपयोग" शामिल करना शब्द की पारंपरिक समझ को बढ़ाता है।[2] इस परिभाषा में क्रिया को ही करने की साभिप्रायता शामिल है, चाहे उससे कुछ भी परिणाम उत्पन्न हो। हालांकि, आम तौर पर, जो कुछ भी हानिकारक या क्षतिकारक तरीके से उत्तेजित किया जाता है, वह हिंसा के रूप में वर्णित किया जा सकता है, भले ही वह हिंसा के मतलब से नहीं हो (किसी व्यक्ति द्वारा और किसी व्यक्ति के विरुद्ध)।

शारीरिक हिंसा से विकलांगता-समायोजित जीवन वर्षों के आकलन, प्रति १००,००० निवासी (२००४ में)।[1]
██ no data ██ <200 ██ 200-400 ██ 400-600 ██ 600-800 ██ 800-1000 ██ 1000–1200 ██ 1200–1400 ██ 1400–1600 ██ 1600–1800 ██ 1800–2000 ██ 2000-3000 ██ >3000

प्रकारसंपादित करें

 
हिंसा का प्रकारविज्ञान[2]

हिंसा को तीन व्यापक श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता हैं:[2]

  • स्व-निर्देशित हिंसा
  • अन्तरव्यक्तिगत हिंसा
  • सामूहिक हिंसा

हिंसक क्रियाएँ निम्न हो सकती हैं:

  • शारीरिक
  • यौन
  • मनोवैज्ञानिक
  • भावनात्मक

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Mortality and Burden of Disease Estimates for WHO Member States in 2002" (xls). World Health Organization. 2004. मूल से 16 जनवरी 2013 को पुरालेखित.
  2. Krug et al., "World report on violence and health" Archived 22 अगस्त 2015 at the वेबैक मशीन., विश्व स्वास्थ्य संगठन, २००२.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें