मुख्य मेनू खोलें
हैमलेट

हैमलेट (Hamlet)[1] शेक्सपियर का एक दु:खांत नाटक है, जिसका अभिनय सर्वप्रथम सन् १६०३ ई. तथा प्रकाशन सन् १६०४ ई. के लगभग हुआ था।

कथानकसंपादित करें

क्लॉडियस अपने बड़े भाई और डेनमार्क के महाराजा हैमलेट की हत्या करता है। उसके इस षडयंत्र में मृत राजा की पत्नी गरट्रूड भी उसका साथ देती हैI वो दोनों ये अफवाह फैला देते हैं कि महाराजा हैमलेट की मौत सांप के काटने से हुई है I महाराजा की मृत्यु के कुछ दिन बाद ही गरट्रूड क्लॉडियस से शादी कर लेती है। इस प्रकार अब क्लॉडियस डेनमार्क का नया महाराजा बन जाता है I

राजकुमार हैमलेट, जो कि महाराजा हैमलेट का पुत्र है, वह इस कहानी का नायक है I जब राजा की मृत्यु होती है तब वह विटेनबर्ग में पढने के लिए गया हुआ था और पिता की अकस्मात मृत्यु की खबर सुनकर डेनमार्क वापिस लौटता है I स्वाभविक रूप से उसे अपनी माँ की इतनी जल्दी दूसरी शादी से बहुत हैरानी होती है I एक रात उसे अपने पिता का भूत ( प्रेतात्मा ) दिखाई देती है जो उसे उसके चाचा और उसकी माँ के षडयंत्र से अवगत करवाती है और उसे अपने चाचा क्लॉडियस से बदला लेने लिए प्रेरित करती है I साथ ही उस से वचन लेती है कि वह अपनी माँ को कोई नुक्सान न पहुचाये I

राज कुमार हैमलेट अपनी बदले की भावनाए छुपा कर अजीब सा व्यवहार करने लगता है I जिससे लोगों के मन में यह धारण होती है कि वह लार्ड चेंबरलेन पोलोनियस की पुत्री ओफीलिया के प्रेम में पागल हो गया है। वह ओफीलिया से प्यार करता है लेकिन उसका अजीब व्यवहार ओफीलिया को भी परेशानी में डाल देता है I

अपने पिता की प्रेतात्मा द्वारा बताए हुई बात की पुष्टि के लिए हैमलेट भरी सभा में एक ऐसे नाटक का आयोजन करता है व उसमे अभिनय करता है जिसमें एक राजा को उसके भाई ने मार कर उसकी रानी से शादी कर ली I क्लाडियस की तीव्र प्रतिक्रिया से हैमलेट के मन में यह निश्चित हो जाता है कि प्रेतात्मा द्वारा बताई हुई बातें सत्य हैं। नाटक के उपरांत वह अपनी माता की भर्त्सना करता है तथा क्लाडियस के धोखे में परदे के पीछे छिपे हुए पोलोनियस को मार डालता है। पोलोनियस ओफीलिया के पिता हैं I अब क्लाडियस हैमलेट की हत्या के लिए व्यवस्था करता है और इसके लिए उसे दो दरबारियों के साथ व एक गुप्त पत्र के साथ इंग्लैंड भेजता है। किसी तरह से हैमलेट बच कर वापिस डेनमार्क आ जाता है और वो दोनों दरबारी मारे जाते हैं I

हैमलेट के पागलपन और अपने पिता की मौत के सदमे के कारण ओफीलिया पागल हो जाती है और उसकी मृत्यु हो जाती है I लेयरटीज पोलोनियस का पुत्र और ओफीलिया का भाई है I क्लॉडियस उसे ये विश्वास दिला देता है कि उन दोनों की मौत का कारण हैमलेट ही है I लेयरटीज हैमलेट को द्वंद युद्ध के लिए चुनौती देता है। लेयरटीज को क्लाडियस का समर्थन प्राप्त है। क्लाडियस लेयरटीज को विष से बुझी हुई तलवार देता है ताकि हैमलेट को मारना आसान हो जाये I क्लाडियस ये भी इंतजाम करता है कि यदि हैमलेट लेयरटीज को मार देता है तो वह उसकी जीत की ख़ुशी में विष मिला हुआ मदिरा का प्याला उसे दे देगा I हैमलेट और लेयरटीज दोनों घायल हो जाते हैं और उनकी तलवारें भी आपस में बदल जाती हैं I लेयरटीज पहले मर जाता है और मरने से पहले हैमलेट से माफ़ी मांगता है और गरट्रूड भी अनजाने में विष मिली हुई मदिरा पीकर मर जाती है। हैमलेट क्लाडियस को मार देता है और मरने से पहले अपने ख़ास मित्र होरेशियो को सम्बोधित करता है और कहता है कि वह डेनमार्क के सम्राज्य को संभाले I

यह कहानी नोर्वे और डेनमार्क के आपसी झगड़े की पृष्ठभूमि को भी बयान करती है I

इस नाटक में अनेक महत्वपूर्ण नैतिक और मनोवैज्ञानिक प्रश्नों का समावेश हुआ है तथा समीक्षकों ने इसमें निबद्ध समस्याओं पर गंभीर विचार प्रकट किए हैं।

  1. "Hamlet", Wikipedia (अंग्रेज़ी में), 2019-08-27, अभिगमन तिथि 2019-09-03