अनेक जन्तु अण्डे देते हैं जिनमें प्रमुख हैं- पक्षी, सरीसृप, उभयचर, स्तनपायी (मम्मल) तथा मछलियाँ। हजारों वर्षों से मानव तथा अन्य जन्तु इन अण्डों को खाता आ रहा है।[1] पक्षियों तथा सरीसृपों के अण्डों के ऊपर एक रक्षा-कवच होता है, उसके अन्दर श्वेतक ( एल्ब्युमेन) तथा अण्ड पीतक (अंडे की जरदी) होते हैं। मुर्गी के अण्डे खाने के लिये सबसे अधिक पसन्द किये जाते हैं। इसके अलावा बतख, तीतर, आदि के अंडे भी खाये जाते हैं।

मुर्गी के दो अण्डे : एक भूरा, दूसरा सफेद
मुर्गी का कचा अण्डा तोड़ने पर

अंडे[2] को स्वास्थ्य के लिए बेहतर माना गया है। यह गोल या अंडाकार होता है, जो विभिन्न प्रकार के मादा प्राणियों से मिलता है। अधिकतर जानवरों के अंडे एक कठोर आवरण के अंदर सुरक्षित रहते हैं। आमतौर पर आहार में मुर्गी का अंडा ही शामिल किया जाता है। इस अंडे में शरीर के लिए जरूरी प्रोटीन और मिनरल्स होते हैं। इस कारण अंडे का सेवन स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना गया है। बस ध्यान रहे कि हमेशा पका हुआ अंडा ही खाने में शामिल किया जाना चाहिए। दरअसल, मुर्गी के अंडे में साल्मोनेला नामक जीवाणु भी होता है, जो कई बीमारियों का कारण बन सकता है। इसलिए, आहार में ठीक से पका हुआ अंडा ही शामिल करना चाहिए।

स्वास्थ्य के लिए अंडे के फायदेसंपादित करें

सेहत के लिए अंडे के फायदे निम्नलिखित हैं :

1. वजन कम करने के लिए

अंडे में प्रोटीन की समृद्ध मात्रा होती है, जो शरीर में लंबे समय तक ऊर्जा को बनाए रखने और पेट को भरे रखने में मदद कर सकता है। अंडा खाने से बार-बार खाने की आदत को नियंत्रित किया जा सकता है। इस वजह से बढ़ते वजन पर काबू पाने में मदद मिल सकती है।

2. मजबूत हड्डियों के लिए

अंडे में मौजूद कैल्शियम, विटामिन-डी और प्रोटीन की मात्रा हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी होती है। इस वजह से आहार में अंडे का सेवन करने से हड्डियों को मजबूत बनाने व हड्डियों से जुड़ी बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

3. आंखों की रोशनी के लिए

अंडे में मौजूद जेक्सैंथिन और ल्यूटिन नामक पोषक तत्व आंखों की पुतली से जुड़ी समस्या (मैक्यूलर डिजनरेशन) की रोकथाम करने में मदद कर सकते हैं। मैक्यूलर डिजनरेशन बढ़ती उम्र से जुड़ी अंधेपन की एक समस्या का कारण बन सकता है।

4. शरीर को ऊर्जावान बनाने के लिए

अंडे में सभी तरह के एसेंशियल विटामिन्स और मिनरल्स मौजूद होते हैं। इस वजह से अंडा खाने से शरीर की सभी कोशिकाओं में ऊर्जा का उत्पादन किया जा सकता है। इससे शरीर को ऊर्जावान बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

5. मांसपेशियों बनाने के लिए

अंडे के सफेद भाग में प्रोटीन और अमीनो एसिड की समृद्ध मात्रा होती है, जो शरीर की मांसपेशियों के निर्माण में मदद कर सकते हैं। साथ ही ये मांसपेशियों को मजबूत बनाए रखने में भी सहायक हो सकते हैं।

6. प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए अंडे में विटामिन-ए, विटामिन-बी12 और सेलेनियम होता है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ बनाए रखने में अहम भूमिका निभा सकते हैं (1)। इस वजह से अंडा खाने से शरीर को कई बीमारियों से बचाव करने में मदद मिल सकती है[3]

7. गर्भावस्था के लिए

खाने में अंडे का उपयोग करने से गर्भवती को पर्याप्त पोषण मिल सकता है। साथ ही होने वाले शिशु को जन्म के बाद स्वस्थ रखने में मदद भी मिल सकती है। अंडे में मौजूद प्रोटीन, विटामिन्स और मिनरल्स भ्रूण के बेहतर विकास में मददगार माने जा सकते हैं।

8. स्वस्थ त्वचा के लिए

अंडे के वाटर सोल्युबल एग मेम्ब्रेन (एग व्हाइट और एगशेल के बीच की परत) त्वचा की झुर्रियों को कम करने में मदद कर सकते हैं। साथ ही यह फ्री रेडिकल्स और डैमेज टिश्यू की समस्या को भी कम कर सकता है, जो बढ़ती उम्र में त्वचा से जुड़ी समस्या को कम करने में मदद कर सकता है।

9. कैंसर से बचाव के लिए

अंडा खाने से कुछ हद तक कैंसर से भी बचा जा सकता है। दरअसल, एग वाइट और योल्क प्रोटीन में एंटी-कैंसर प्रभाव होता है, जो कैंसर सेल्स को पनपने से रोकने में कुछ हद तक मदद कर सकते हैं। इससे कैंसर का जोखिम कम किया जा सकता है।

10. तेज दिमाग के लिए

अंडे की जर्दी में कोलीन (एक तरह का एसेंशियल न्यूट्रिएंट) होता है, जो तंत्रिका तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी माना जा सकता है। इसके अलावा, अंडे में जरूरी मिनरल्स और विटामिन्स होते हैं, जो तंत्रिका तंत्र, मस्तिष्क और याददाश्त बढ़ाने के लिए कोशिकाओं के बेहतर कामकाज में मदद कर सकते हैं[4]

अंडे का प्रयोगसंपादित करें

अंडे को कई तरीकों से डाइट में शामिल किया जा सकता है, जो इस प्रकार है:

  • अंडे को उबालकर खाया जा सकता है।
  • अंडे का इस्तेमाल केक बनाने व अन्य तरह की कुकीज बनाने में किया जा सकता है।
  • अंडे का आमलेट बनाकर उसका प्रयोग खाने में किया जा सकता है।
  • अंडे की भुर्जी बनाकर खाई जा सकती है।
  • ब्रेड के साथ ब्रेड-आमलेट के रूप में अंडा का प्रयोग खाने के लिए किया जा सकता है।
  • एग रोल बनाकर खाया जा सकता है।
  • चावल या रोटी के साथ एग करी खाई जाती है।
  • अंडा बिरयानी बनाकर खाई जा सकती है।
  • इसे एग फ्राइड राइस के रूप में लिया जा सकता है।
  • अंडे को दूध[5]में फेंटकर पिया जा सकता है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Kenneth F. Kiple, A Movable Feast: Ten Millennia of Food Globalization (2007), p. 22.
  2. [1]
  3. [2]
  4. [3]
  5. [4]