अहमदनगर

भारताच्या महाराष्ट्र राज्यातील शहर

अहमदनगर (Ahmednagar) भारत के महाराष्ट्र राज्य के अहमदनगर ज़िले में स्थित एक नगर है। यह ज़िले का मुख्यालय भी है।[1][2]

अहमदनगर
Ahmednagar
अहमदनगर रेलवे स्टेशन
अहमदनगर रेलवे स्टेशन
अहमदनगर is located in महाराष्ट्र
अहमदनगर
अहमदनगर
महाराष्ट्र में स्थिति
निर्देशांक: 19°05′N 74°44′E / 19.08°N 74.73°E / 19.08; 74.73निर्देशांक: 19°05′N 74°44′E / 19.08°N 74.73°E / 19.08; 74.73
देश भारत
प्रान्तमहाराष्ट्र
ज़िलाअहमदनगर ज़िला
जनसंख्या (2011)
 • कुल3,50,905
भाषा
 • प्रचलितमराठी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
केदारेश्वर मंदिर

इतिहाससंपादित करें

 
मेहेर बाबा की समाधी

अहमदनगर निज़ामशाही सुल्तानों की राजधानी थी, जिन्होंने 1490 ई. में दक्खिन में बहमनी सल्तनत की एक नई शाखा की स्थापना की। अहमदनगर की स्थापना इस वंश के पहले सुल्तान अहमद निज़ामशाह ने की। अहमदनगर का इतिहास, वहाँ की शहज़ादी और बीजापुर के अली आदिलशाह की विधवा चाँदबीबी द्वारा 1595-1596 में अकबर के पुत्र युवराज मुराद का वीरतापूर्ण प्रतिरोध तथा मलिक अम्बर की सैनिक एवं प्रशासनिक कुशलता के कारण अधिक रोचक एवं महत्वपूर्ण है। अकबर ने जब इस पर हमला किया तो, चाँदबीबी ने उसकी सेनाओं का डट कर मुकाबला किया, परन्तु अंत में अकबर की विजय हुई। 1637 ई. में बादशाह शाहजहाँ ने अहमदनगर को मुग़ल साम्राज्य में मिला लिया और उसके बाद इस नगर का महत्त्व घट गया। यह अब भी एक बड़ा नगर है और इसी नाम के ज़िले का मुख्यालय है।

मलिक अम्बर की नीतिसंपादित करें

अहमदनगर की स्वतंत्रता बनाये रखने में मलिक अम्बर का योगदान था। यह अबीसीनियाई दास था, जो बाद में अपनी योग्यता के बल पर अहमदनगर का प्रमुख वज़ीर बना। इसने युद्ध की छापामार पद्धति को अपनाया तथा भूमि व्यवस्था में ठेकेदारी प्रथा को समाप्त कर रैयतवाड़ी व्यवस्था (जब्त प्रणाली) को लागू किया।

निज़ामशाही वंश के शासक बुरहान निज़ामशाह द्वितीय के शासन काल का प्रसिद्ध लेखक 'शाह ताहिर' हुआ। वह फ़ारसी भाषा का उत्कृष्ट विद्वान था। उसने 'फ़तहनामा', 'इन्सा-ए-ताहिर', 'तोहफा-ए-शाही' एवं 'रिशाल-ए-पाल' नामक ग्रंथो की रचना की। अहमदनगर के निज़ामशाही राज्य में 'सैय्यद अली तबतबाई' सर्वश्रेष्ठ इतिहासकार हुआ। उसने ‘बुरहान-ए-मासीर’ नाम से निज़ामशाही वंश के सुल्तानो का इतिहास लिखा। इस पुस्तक को 'तबतबाई' ने तत्कालीन सुल्तान 'बुरहान निजामशाह द्वितीय' को समर्पित किया।

अन्य इतिहाससंपादित करें

 
चांद बीबी, सलाबत खान का मकबरा

अहमदनगर शहर का नाम प्रथम शासक अहमद निजाम शाह से प्रचलित हुआ है , जिन्होंने युद्ध के मैदान पर 1494 में शहर की स्थापना की ।जहां उन्होंने शक्तिशाली बहामनी बलों के खिलाफ लड़ाई जीती। यह भिंगार गांव की साइट के करीब था। बहमनी सल्तनत के टूटने के साथ, अहमद ने अहमदनगर में एक नया सल्तनत स्थापित किया, जिसे निजाम शाही राजवंश भी कहा जाता है।राजवंश.[4]

अहमदनगर में निजाम शाही कालीन अनेक दर्जन इमारतें और स्थल उपलब्ध हैं। अहमदनगर किला, जिसे एक बार लगभग अपाराजित माना जाता था जिसे अंग्रेजों ने जीतकर उसमें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सहभागी जवाहरलाल नेहरू (भारत के पहले प्रधान मंत्री) और अन्य भारतीय राष्ट्रवादियों स्थानबद्ध करके इस किले में रखा था। कुछ कमरे एक संग्रहालय में परिवर्तित कर दिए गए हैं। 1 9 44 में अहमदनगर किले में अंग्रेजों द्वारा दिए गए कारावास के दौरान, नेहरू ने प्रसिद्ध पुस्तक द डिस्कवरी ऑफ इंडिया लिखा था। अहमदनगर शहर में देश के सुप्रसिध्द रक्षा विभाग के कोर सेंटर एंड स्कूल (एसीसी एंड एस), मैकेनाइज्ड इन्फैंट्री रेजिमेंटल सेंटर (एमआईआरसी), वाहन अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान (वीआरडीई) और गुणवत्ता आश्वासन वाहन (सीक्यूएवी) के नियंत्रक कार्यालय है। भारतीय सेना में आर्मड़ कोर के लिए रक्षा विभाग का प्रशिक्षण और भर्ती एसीसी और एस में होती है।

अहमदनगर अपेक्षाकृत छोटा शहर है और मुंबई और पुणे के आसपास के पश्चिमी महाराष्ट्र शहरों की तुलना में यहाँ कम विकास दिखायी देता है। अहमदनगर 1 9 चीनी कारखानों का घर है और सहकारी आंदोलन का जन्मस्थान भी है। बहुत कम बारिश के कारण अहमदनगर अक्सर सूखे से ग्रस्त हैं। दैनिक जीवन संचार के लिए मराठी प्राथमिक भाषा है। अहमदनगर ने हाल ही में 2031 तक शहर के विकास की योजना प्रकाशित की है।*अहमदनगर जिल्हा कसा आहे तुम्हाला सांगून पटेल काय? एकेकाळी अहमदनगरची तुलना, कैरो आणि बगदाद सारख्या शहरांसोबत व्हायची पण हे खरं आहे सर्वात समृद्ध शहर म्हणजे अहमदनगर होतं इथल्या मातीत काहीही टाकलं तरी उगवून येण्याची ताकद आहे. लोकांनी इथे सहकार टाकला उगवून आला, इथे डावे टाकले उगवून आले, इथे संघ टाकला उगवून आला. असणारं अस हे अहमदरनगर.*

महाराष्ट्रातला सर्वात मोठ्ठा जिल्हा म्हणून अहमदनगरचा उल्लेख करण्यात येतो. याच जिल्ह्यात दुष्काळ देखील आणि आणि सुकाळ देखील. दुष्काळामुळे विस्थापित होणारा समुदाय एकीकडे आहे आणि बागायदार लोक देखील आहेत. सर्वाधिंक वेगवेगळी फळ घेणारा हा जिल्हा ओळखला जातो. १) महाराष्ट्रातली पहिली मानवी वसाहत या जिल्ह्यात होती. प्रवरा नदीच्या काठी दायमाबाद आणि नेवासे येथील उत्खननातून या जोर्वे या संस्कृतीचा शोध लागला. महाराष्ट्रातल्या संस्कृतीचा हा सर्वात प्राचीन ठेवा समजला जातो. २) इस पूर्व ९०० ते ३०० या दरम्यान इथे आंधभृत्य, इस ४०० पर्यन्त राष्ट्रकुट चालुक्य, ११७० ते १३१० देवगिरीचे यादव,  पंधराशेव्या शतकात बहामनी, बहामनीतून बाहेर पडलेल्या मलिक अहमदशॉ बहिरी यांची सत्ता या भागात होती.निझामशाही नंतर मराठेशाही व त्यानंतर मुगलशाहीची सत्ता या परिसरात होती . त्यानंतरच्या काळात म्हणजे १७५९ मध्ये इथे पेशव्यांचा अंमल सुरू झाला. १८०३ मध्ये नगर इंग्रजांच्या ताब्यात गेलं. याच मलिक अहमदशॉ बहिरी सीना नदीकाठी नगर शहराची स्थापना केल्याची सांगण्यात येत. त्याच्याच नावावरून या शहराचं नाव अहमदनगर अस करण्यात आलं. १८२२ साली इंग्रजांनी अहमदनगर जिल्हा जन्माला घातला. ३) इथे मलिक अहमदशॉ बहिरी यांच्यासोबत आध्रांतून आलेला पद्मशाली समाज आहे, राजस्थानातून आलेला तांब्याची भांडी बनवणारा समाज आहे, ब्रिटीशांसोबत व्यापार करण्यासाठी आलेला पारशी आणि मारवाडी समाज देखील आहे. ४) आम्ही सुरवातीलाच नगर जिल्हात दोन्ही टोकाच्या गोष्टी असल्याचं सांगितंल, त्यातलच वैशिष्टे म्हणजे या जिल्ह्यात ज्ञानेश्वरी लिहण्यात आली आणि याच जिल्ह्यात शिव्यांच युद्ध देखील रंगत.ज्ञानेश्वरांनी नेवासे येथील मुक्कामात ज्ञानेश्वरी रचली, चक्रधरस्वामींनी इथेच लीळाचरित्र लिहला तर, याच जिल्ह्यात नगरजवळ असणाऱ्या शेंडी पोखर्डीला शिव्यांच युद्ध होतं. समोरासमोर येवून एकमेकांना शिव्या दिल्या जातात. ५) नगरचा उल्लेख करायचा आणि सुरवातीलाच सहकाराबद्दल सांगायच नाही अस होणार नाही. सहकार इथल्या मातीत घट्ट रुजला. पद्मश्री विखे पाटील व धनंजयराव गाडगीळांनी इथे आशिया खंडातील पहिला सहकारी साखर कारखाना उभारला. लोकांना एकत्रितपणे घेवून काम करण्याची परंपरा राळेगणसिद्धी आण्णा हजारे, हिवरेबजारला पोपटाराव पवार यांच्या रुपाने तर स्नेहालयच्या माध्यमातून शरिरविक्री करणाऱ्या महिलांच्या मुलांना शिक्षण देण्याच काम गिरीष कुलकर्णी व सुवालाल गांधी यांच्यामार्फत केले जाते. जामखेड तालुक्यात डॉ. रजनिकांत व मेबल आरोळे यांनी विद्यकिय क्षेत्रात आदर्शवत काम केले. मॅगसेसे पुरस्कार मिळालेली ही माणसं. संगमनेरचे संतोष पवार, सिस्टर डॅफनी सिक्केरा, भाऊकाका एड्सग्रस्तांसाठी काम करतात तर फादर बाखर जलसंवर्धनाचे काम करतात. ६) नगर जिल्ह्यातील राजकारण्यांची नावं सगळे नेते मुख्यमंत्रीपदाच्या रेसमधले.अच्युतराव पटवर्धन, रावसाहेब पटवर्धन, बाळासाहेब भारदे हे सुरवातीच्या काळातले नेते. विठ्ठलराव विखे पाटील, शंकरराव काळे, शंकरराव कोल्हे, भाऊसाहेब थोरात, गोविंदराव आदिक, बाळासाहेब विखे, बाबुराव तनपुरे, मारूतराव घुले, आबासाहेब निंबाळकर, अण्णासाहेब शिंदे, यशवंतराव गडाख अशा नेत्यांची भलीमोठ्ठी यादी. इथलं राजकारण अस आहे की चुकून एखादा नेत्याचा मान चुकला तर नगरकर चालत पुण्याला मोर्चा घेवून येवू शकतात. त्यामुळे आपल्या नेत्यांची नावे कमेंटमध्ये सुचवा आणि त्यांना स्थान देत राहू. ७) नगरचं खाणं ही गोष्ट सर्वात भारी. काळा मसाला ही खासियत. नगरमध्ये शिरताच संदिप, परखला काहीतरी ढकलून पुढे जाण्याचा शिरस्ता. पण इतक्यावर इथली खाद्यसंस्कृती संपत नाही. स्वत: खाण आणि दूसऱ्याला खावू घालणं इथल्या लोकांची खासियत. प्रत्येक गावात भंडारा ठेवला जातो. पूर्वी गुळाची लापशी, हरभऱ्याच्या घुगऱ्या आणि आत्ता बुंदी, डाळभात, मसाले भात, पुरीभाजी, बालुशाही, जिलेबी असा थाट अशतो.गंगागिरी महाराजांचा हरिनाम सप्ताह हा त्याच्या भव्यपणामुळे प्रसिद्ध आहे. कुठलीही भाजी काळ्या मसाल्यात घालून खळगुट केलं जातं. रस्यात चुरून खाण्याच्या पद्धतीनेच इथे नवरदेवाच्या ताटाखाली वटकन लावायची प्रथा आहे. बाजरीची भाकरी काळ्या मसाल्यात. झालं की इथं बास होतं.सोबत कर्जतची शिपी आमटी प्रसिद्ध आहे. उत्तर भागात पेंडवडी, संगमनेरला बिबडी, पाथर्डीच्या रेवड्या आणि गोडी शेव, लाह्याचे धपाटे इत्यादी गोष्टी प्रसिद्ध आहेत. ८) मनोजकुमारच्या पिक्चरमधले शिर्डीचे साईबाबा आणि गुलशनकुमारच्या गाण्यातले शनीशिंगणापुर हे नगर जिल्ह्यातली सर्वाधिंक गर्दी असणारी ठिकाणं.कोपरगांव येथील दैत्यगुरू शुक्राचार्य व ब्रम्हदेवाचे पुञ कचेश्वर मंदिर,संजीवनी मंञाचे उत्पत्ती स्थान, रिध्दी सिध्दी प्राप्त श्री संत जनार्दन स्वामीची समाधीस्थळ याचशिवाय भगवानगड,देवगड, सराला, साकुरीचे आश्रम, अवतार मेहरबाबा, महानुभव पंथीयाचं डोमेग्राम, नेवासे अशी धार्मिक, अध्यात्मिक ठिकाणे आहेत. ९) महाराष्ट्रातल एकमेव असावी अशी मढीची जत्रा इथे भरते. या जत्रेचं वैशिष्ट म्हणजे ही जत्रा म्हणजे इथे गाढवांचा बजार भरतो. १०) तमाशा, बारी, जत्रा, यात्रेत रमणारा हा जिल्हा. इथले इंदुरीकर महाराज जसे फेमस आहेत तशीच तमाशा मंडळी पण फेमस आहेत. संवत्सराचे गोफनगुंड्याचे युद्ध, निघोजला मळगंगा देवीच्या यात्रेत पाण्यातून वर निघणारी घागर, बारागाव नांदुरला जावयाची गाढवावरून निघणारी धिंड, नगर शहरात पद्मशाली समाजाचा बांगलू पंडग उत्सव, कर्जतची रडाटयात्रा, श्रीरामपूरची रामनवमी, सयद्दबाबा ऊरुस, नागपंचमीला जामखेडमधील नृत्यपंचमी व पंचमी मंडळ. रात्रभर जामखेडमध्ये चालणारा कला केंद्र व संगीतबारी हे नगरच वैशिष्टे. ११) नगर जिल्हा कलाकारांचा जिल्हा आहे. साहित्य व कला क्षेत्रात दिग्गज माणसं देण्याचं काम या जिल्ह्यानं केलं. कवी ना.वा टिळक, बालकवी ठोंबरे, कवी दत्त, वि.द. घाटे. मनोरमा रानडे, रामदास फुटाणे, डॉ. गंगाधर मोरजे, विलास गिते, खल्लीज मुज्जफ्फर, लक्ष्मण हर्दवाणी, डॉ. अरुण मांडे, रावसाहेब कसबे, रंगनाथ पठारे, शंकरराव दिघे, प्रकाशिका सुमती लांडे, समीक्षक र.बा. मंचरकर, सु.प्र. कुलकर्णी,  शाहू मोडक, राम नगरकर, सदाशिव आमरापुरकर, मधुकर तोरडमल,  मिलिंद शिंदे, र.बा. केळकर. द.गो कांबळे, अंबादास मुदिगंटी, प्रमोद कांबळे, प्रकाश कांबळे, श्रीधर अंभोरे अशी दिग्गज माणसे इथे होवून गेली, आहेत. १२) स्वतंत्र उल्लेख करावा लागतो तो दोन क्रिकेटरचा एक झहीर खान. ज्याचा स्वॅग अस्सल नगरी म्हणून ओळखला जातो. तसाच मुंबईचा अजिंक्य रहाणे. नगर जिल्ह्यातील त्याच्या मामांच्या गावामुळे तो देखील चर्चेत असतो. १३) इथल्या मातीत तयार झालेली ग्रॅंथसंपदा पाहिलीत तरी नगरच्या मातीत काहीही उगवून येवू शकतो यावरचा विश्वास दृढ होत जातो. ज्ञानेश्वरांनी ज्ञानेश्वरी, चक्रधरांनी लिळाचरित्र, पंडित नेहरूंनी डिस्कवरी ऑफ इंडिया, सी.पी. घोष यांनी हिस्ट्री ऑफ एन्शन्ट इंडियन सिव्हिलायझेशन, डॉ. बाबासाहेबांनी थॉटस् ऑन पाकिस्तान, मौलाना आझादांनी गुबार-ए-खातिर असे ग्रॅंथ याच जिल्ह्यात लिहण्यात आलेत. १४) नगरचं रणगाडा संग्रहालय आशियातलं एकमेव संग्रहालय असून इंग्लड, अमेरिका,  रशिया, जर्मनी, फ्रान्स, इ देशांनी युद्धात वापरलेले ४० हून अधिक रणगाडे सर्वात जूना १९१७ चा रोल्सराईस रणगाडा या संग्रहालयात आहे. १५) पंजाब पोलीसांना अतिरेक्यांपासून लढण्यासाठी जे वाहन तयार केलं जात ते नगरमध्ये तयार होतं याची माहीती तुम्हाला आश्चर्यात टाकेल. व्हेइकल रिसर्च  ॲंण्ड डेव्हलपमेंट एस्टॅब्लिशमेंट येथे लष्करी वाहनांबद्दल संशोधन केले जाते. या केंद्रातून बुलेटफ्रुप कार तयार करण्यात आली. १६) आज जगभर च्या रिक्षा दिसतात त्याचा शोध लावण्याच काम देखील नगरचं. फिरोदिया यांनी तिनचाकी ऑटोरिक्षाची निर्मीती केली. १७) फिरोदिया यांच्याप्रमाणेच व्हिडीओकॉन ही कंपनी देखील नगरची मुळ असणारी. याचशिवाय पारस उद्योग, L&T, इंडियन सीमलेल, कमिन्स, दिपक आर्टस असे महत्वाचे उद्योग नगरची शान आहेत.


१८) स्वराज्य हा माझा जन्मसिद्ध हक्क आहे ही ऐतिहासिक घोषणा टिळकांनी दिली ती देखील नगरमध्येच मुंबईबाह्य मुंबई राज्यातील पहिली सहकारी गृहरचना नगर शहरात २ फेब्रुवारी १८९१ साली स्थापन करण्यात आली. कंपनी लिमिटेड या संस्थेच्या आवारात ही ऐतिहासिक घोषणा सर्वात प्रथम ३१ मे १९१६ रोजी देण्यात आली. १९) सुनील राम गोसावी यांचा नगरच्या साहित्यिक योगदानात वाटा राहिला असुन त्यांनी शब्दगंध साहित्यिक परिषद,महाराष्ट्र राज्य ची स्थापन केली आहे. २०) थोर स्वातंत्र्य सेनानी रावसाहेब पटवर्धन आणि अच्युतराव पटवर्धन हे बंधू तसेच  भारताचे माजी अर्थमंत्री व रेल्वेमंत्री मधु दंडवते ही राजकारणातील आदर्श अशी त्रिमूर्ती मूळची नगरची आहे. २१) देशातील पहिली महिला शासक रजिया सुलतान दिल्लीची तर चांद बिबी ही अहमदनगरच्या निजामाची कन्या. देशातील दुसरी महिला शासक (सन १५५० ते सन १५९९) तिने मुघल शासक अकबराविरुद्ध निकराचा लढा दिला, तिची कबर नगर पाथर्डी रस्त्यावर बारादरी गावात नजीक आहे २२) श्री सद्गुरु भारती मठ मेहेकरी गावाचा नदी किनारे असनारे हे मंदीर न्यानेश्वर महाराज एक मुक्काम करुण ह्या मठामधे राहिले , महापुरुषाचा भंडारा आमटी बाजरीची भाकरी संपूर्ण महाराष्ट्रभर प्रसिद्ध आहे , सहजण भारती महाराज यांना रिद्धि सिद्धि प्राप्त होती ते नदी च्या पान्यावर जल समाधि लाउन ग्रंथ वाचत होते व पुढे खुशाल भारती बाबा हे शिष्य झाले,

सैन्य बेससंपादित करें

अहमदनगर में भारतीय रक्षा विभाग का सुप्रसिध्द कोर सेंटर एंड स्कूल (एसीसी एंड एस), मैकेनाइज्ड इन्फैंट्री रेजिमेंटल सेंटर (एमआईआरसी), वाहन अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान (वीआरडीई) और गुणवत्ता आश्वासन वाहन (सीक्यूएवी) के नियंत्रक कार्यालय है। भारतीय सेना में आर्मड़ कोर के लिए रक्षा विभाग का प्रशिक्षण और भर्ती एसीसी और एस में होती है।। इतिहास में इस शहर में अन्य सेना के साथ ब्रिटिश सेना के रॉयल टैंक कोर / इंडियन आर्मड़ कोर का आधारभूत सैन्य बल का केंद्र था । इस शहर में दुनिया में सैन्य टैंकों का दूसरा सबसे बड़ा संग्राहालय और एशिया में सबसे बड़ा टैंक संग्राहालय है।

जलवायुसंपादित करें

पश्चिमी घाट के बारिश-छाया क्षेत्र में स्थित अहमदनगर में नवंबर से मध्य जून तक मुख्य रूप से गर्म और शुष्क जलवायु का मौसम रहता है।

व्यक्तिसंपादित करें

  • मराठी संत संत ज्ञानेश्वर ने भगवत गीता पर एक सटिक भावार्थ दीपिका नामक ज्ञानेश्वरी ग्रंथ लिखा था।
  • शिरडी के साईं बाबा,
  • आध्यात्मिक जैन गुरु आनंद ऋषिजी,
  • आध्यात्मिक नेता संत मेहर बाबा,
  • चांद बीबी, निजामशाही राजकुमारी ने सम्राट अकबर की मुगल सेनाओं के खिलाफ युद्ध करके किले का बचाव किया था।
  • अन्ना हजारे, गांधीवादी और सामाजिक कार्यकर्ता
  • शाहू मोडक, फिल्म अभिनेता
  • सदाशिव अमरापुरकर, प्रसिद्ध फिल्म और रंगमंच अभिनेता
  • माइकल जे एस डीवर, सैद्धांतिक रसायनज्ञ
  • इंग्लिश गवर्नेस एट सियामिज कोर्ट ‍‍‍‍(1870) के लेखक अन्ना लियोनोवेन्स, शिक्षक, नारीवादी,
  • लेखक प्रमोद कांबले, चित्रकार और मूर्तिकार
  • जहीर खान, क्रिकेट खिलाड़ी
  • अजिंक्य रहाणे, क्रिकेटर
  • किरण बेरड ,प्रसिद्ध लेेखक, संंवाद दाता
  • स्पाइक मिलिगन, 1 918-2002, हास्य अभिनेता और लेखक
  • सिंथिया फरार, अमेरिकी मिशनरी
  • अमोल बागुल,सर्वाधिक मात्रा मे पुरस्कार विजेता

उल्लेखनीय स्थलसंपादित करें

 
हरिशचंदेश्वर मंदिर
 
फराह बाग, १८८० के दशक में
 
रतनगड किला

अहमदनगर के प्रमुख ऐतिहासिक स्थलों में मुग़ल महल, बाग़ व चांद बिबी का मकबरा व अहमद निज़ाम शाह का क़िला है, जहाँ 1940 में पंडित नेहरु नज़रबंद रहे। पर्यटकों के देखने के लिए यहां अनेक विरासतें हैं। अहमदनगर के अनेक क़िले, मंदिर आदि सैलानियों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। संत कवि महिपति महाराज, सोलाहवीं सदी के संत कवि जिन्होंने भारतीय संतों का पद्यमय परिचय संत लीलामृत, भक्ति विजय आदि ग्रंथों के द्वारा दिया है। उनका समाधि स्थल ताहराबाद, ता.राहूरी जि.अहमदनगर स्थित है। उनका कुलनाम कांबळे है जो कर्नाटक की सीमा से राहूरी आए थे। देशस्थ ऋवेदी ब्राह्मण जो कुलकर्णी का काम देखते थें। उनकी रचनाओं का अँग्रेजी अनुवाद राहूरी के ईसाई धर्मगुरु ने किया था जिसका प्रकाशन अमरिका में किया गया था।

  • चांद बीबी पैलेस - यह असल में सलाबत खान का मकबरा है, यह अहमदनगर शहर से 13 किमी बारदरी गाव मे एक पहाड़ी (शहाडोंगर) की चोटी पर स्थित एक ठोस तीन मंजिला पत्थर से बनी इमारत है इसे चांदबीबी महाल भी कहते है
  • मेहेराबाद, जहां आध्यात्मिक गुरु मेहर बाबा की समाधि (मकबरा) जो एक तीर्थयात्रा का एक स्थान है, हर साल हजारों लोगों द्वारा खासकर उनकी मृत्यु की सालगिरह, अमरतीथि पर दर्शन हेतु पधारते है। उनका बाद का निवास अहमदनगर के उत्तर में लगभग 9 मील उत्तर में मेहेराज़ाद (पिंपलगाँव गांव के पास) था।
  • अहमदनगर किला (भूईकोट किला) - 14 9 0 में अहमद निजाम शाह द्वारा निर्मित, यह भारत में सबसे अच्छी तरह से डिजाइन और सबसे अजेय किलों में से एक है। 2013 तक, यह भारत के रक्षा विभाग के नियंत्रण में है। आकार में ओवल, 18 मीटर ऊंची दीवारों और 24 सीटडेल के साथ, इसकी रक्षा प्रणाली में 30 मीटर चौड़ा और 4 से 6 मीटर गहराई शामिल है। किले के लिए दो प्रवेश द्वार ड्रब्रिज द्वारा उपयोग किए जाते हैं। अनगिनत हमलों के बाद भी अहमदनगर किला अभेद्य और सुरक्षित रहा है। मुगल शासन के समय से कई बार अनेक राजाओं के नियंत्रण में यह किला आ गया हैं, और कई बार शाही जेल के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। 1 9 42 के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान पूरी कांग्रेस कार्यकारिणी को हिरासत में लिया गया था। जवाहरलाल नेहरू, जो भारत के पहले प्रधान मंत्री बने, उन्होंने अपनी पुस्तक द डिस्कवरी ऑफ इंडिया 1 9 42-19 45 के कारावास के दौरान लिखा था। किले के कुछ कमरों को नेहरू और अन्य स्वतंत्रता सेनानियों की याद में एक संग्रहालय में परिवर्तित कर दिया गया है।
  • कैवेलरी टैंक संग्रहालय -आर्मड़ कोर सेंटर और स्कूल ने 20 वीं शताब्दी के लष्करी युद्ध वाहनों के व्यापक संग्रह के साथ एक संग्रहालय बनाया है।
  • विशाल गणपति मंदिर - अहमदनगर शहर के मालिवाड़ा इलाके में गणेशजी की भव्य प्रतिमा का मंदिर।
  • रेणुका / दुर्गा देवी मंदिर - यह मंदिर केडगांव में स्थित है (अहमदनगर रेलवे स्टेशन से लगभग 3 किमी, अहमदनगर एसटी बस स्टैंड से 5 किमी) जो नगर-पुणे राजमार्ग के पास है। नवरात्रि (नौ रातों) त्यौहार देवी दुर्गा और राक्षस राजा महिषासुर के बीच युद्ध की नौ रातों का उत्सव है। आखिर में देवी दुर्गा ने नौवीं रात महिषासुर की हत्या कर दी और इस प्रकार त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।
  • रेहेकुरी ब्लैकबक अभयारण्य: यह अहमदनगर जिले के कर्जत तालुका में स्थित है। अभयारण्य का क्षेत्र 2.17 किमी 2 है।
  • सिद्धायक सिद्धिविनायक - भगवान गणेश का मंदिर।
  • शिरडी - सम्मानित संत साईं बाबा द्वारा आशीर्वादित गांव, हिंदुओं और मुसलमानों द्वारा सम्मानित, अहमदनगर शहर से लगभग 83 किमी दूर।
  • रालेगण सिद्धी - एक गांव जो पर्यावरण संरक्षण के लिए एक मॉडल है। सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे रालेगण सिद्धी से हैं।
  • पिंपरी गवली- अहमदनगर जिले के पार्नेर तालुका में एक गांव है। यह अहमदनगर से लगभग 25 किमी दूर स्थित है और यह वाटरशेड विकास और कृषि व्यवसाय गतिविधियों के लिए जाना जाता है। इस गांव ने डीप सीसीटी संरचनाओं और भूजल विनियमन और प्रबंधन के माध्यम से वर्षा जल संचयन में बहुत ही बुनियादी कार्य किया है। गांवों के किसान स्वयं सहायता समूहों ने अपनी कृषि वस्तु के मूल्यवर्धन के लिए निर्माता कंपनी का गठन किया। इस गांव में भागीदारी दृष्टिकोण के माध्यम से पर्यावरण संरक्षित है।
  • शिंगणापुर - एक गांव जिसमें एक शनि (ग्रह शनि) मंदिर है और जहां सभी घरों पर दरवाजा नहीं हैं-शायद दुनिया का एकमात्र गांव जहां ताले अनावश्यक हैं।
  • हरिश्चंद्रगढ़ - एक पहाड़ी किला।
  • आव्हाणे , शेवगांव - गणेश का मंदिर (निद्रिस्त गणेश जी की प्रतिमा )।
  • श्री मुंजोबा मंदिर, उक्कडगांव- अहमदनगर मुख्य शहर से 60 किमी दूर श्रिगोंडा तालुका में गणपति, महादेव (शंकर), विष्णु और हनुमान मंदिर की चार बड़ी मूर्तियों के साथ यह बहुत खूबसूरत मंदिर है और हजारों भक्त इस स्थान पर जाते हैं।
  • जामगांव- महादाजी शिंदे द्वारा निर्मित ऐतिहासिक 18 वीं शताब्दी का महल पारनेर तालुका में स्थित है ।
  • श्री खंडोबा के श्री क्षेत्र कोरठाण खंडोबा देवस्थान मंदिर।
  • महात्मा फुले कृषि विद्यापीठ, राहुरी महात्मा फुले कृषि विद्यापीठ राहुरी में एक कृषि विश्वविद्यालय है, जिसका नाम 1 9वीं शताब्दी के कार्यकर्ता और सामाजिक सुधारक के नाम पर रखा गया है- राज्य के चार कृषि विश्वविद्यालयों में से एक।

परिवहनसंपादित करें

वायुसंपादित करें

अहमदनगर शहर में सेप्लेन सेवा द्वारा हवाई कनेक्टिविटी है। सेप्लेन के लिए बंदरगाह मुला बांध जल जलाशय में स्थित है, अहमदनगर शहर से 30 मिनट दूर है। मेरिटाइम एनर्जी हेली एयर सर्विसेज प्राइवेट द्वारा दी जाने वाली सेवा (MEHAIR)। 22 सितंबर 2014 से कार्यरत। जुहू, मुंबई से मुला बांध तक उपलब्ध है। यह सेवा अब बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों को मेहराबाद, शिरडी और शनि शिंगनपुर की पवित्र स्थलों पर यात्रा करने में सक्षम बनाती है ताकि वे अपने गंतव्य तक जल्दी और आसानी से यात्रा कर सकें।

रेलसंपादित करें

अहमदनगर रेलवे स्टेशन (स्टेशन कोड: एएनजी) भारतीय रेलवे के केंद्रीय रेलवे क्षेत्र के सोलापुर डिवीजन से संबंधित है। अहमदनगर में पुणे, मनमाड, कोपरगांव, शिरडी, दौंड, गोवा, नासिक और नई दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, बैंगलोर, अहमदाबाद जैसे अन्य मेट्रो शहरों के साथ रेल कनेक्टिविटी है। इस स्टेशन पर 41 एक्सप्रेस ट्रेनें रुकती हैं। भारत के अन्य प्रमुख शहरों में सीधी रेल कनेक्टिविटी की मांग अभी भी है।

सड़कसंपादित करें

अहमदनगर महाराष्ट्र और अन्य राज्यों के प्रमुख शहरों के साथ सड़कों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। अहमदनगर में औरंगाबाद, परभणी, नांदेड़, पुणे, नासिक, बीड, सोलापुर, उस्मानाबाद के लिए 4 लेन सड़क कनेक्टिविटी है। तेलंगाना में आदिलाबाद के पास कल्याण से निर्मल तक राष्ट्रीय राजमार्ग 222 शहर से गुजरता है। महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (एमएसआरटीसी) और विभिन्न निजी परिवहन ऑपरेटर राज्य के सभी हिस्सों में शहर को जोड़ने वाली बस सेवा प्रदान करते हैं।

अहमदनगर 3 मुख्य बस सेवाएं उपलब्ध है:

  • एमएसआरटीसी तारकपुर बस स्टैंड - अहमदनगर के माध्यम से जाने वाली सभी बसें, यहां रुकती है।
  • मालिवाडा बस स्टैंड - औरंगाबाद / जलगांव / अकोला जाने वाली बसें यहां रुकती हैं।
  • पुणे बस स्टैंड - पुणे / मुंबई जाने वाली बसें यहां रुकती हैं।

राजनीतिसंपादित करें

अहमदनगर नगर परिषद को 2003 में महानगर निगम की स्थिति में अपग्रेड कर दिया गया था।

कृषि और खनिजसंपादित करें

आसपास के क्षेत्रों का मुख्य पेशा कृषि है, लेकिन वर्षा की स्थिति अत्यन्त अविश्वसनीय होने के कारण खाद्यान्न की कमी एक चिरस्थायी समस्या है। बाजरा, गेहूँ और कपास इस क्षेत्र की प्रमुख शुष्क फ़सलें हैं, जबकि गन्ना सबसे महत्त्वपूर्ण सिचिंत फ़सल है। उद्योगों में चीनी प्रसंस्करण तथा कपास ओटाई व गांठ बनाने का काम प्रमुख है।

अर्थतंत्रसंपादित करें

यहाँ मुख्यतः सूती वस्त्र और चर्म-परिशोधन का उद्योग होता है। यह एक व्यावसायिक केन्द्र भी है। अहमदनगर जिला में सबसे जादा चीनी के कारखाने हैं। अहमदनगर में सबसे पहेला चीनी कारखाना बना। यहा काइनेटिक जैसी कंपनियों के संयंत्र हैं। शहर में नागापुर एक बड़ा औद्योगिक क्ष्रेत्र हैं। शहर में (VRDE) जेसे केंद्र स्थापित क्ष्रेत्र है।

अहमदनगर शहर व्यापार और अर्थव्यवस्था के सामने एक बहुत ही उज्ज्वल भविष्य रखता है। आखिरकार, यह एक प्रसिद्ध तथ्य है कि शहर में आर्थिक विकास के लिए अत्यधिक अप्रत्याशित क्षमता है। अहमदनगर जिले में पहले से ही महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा चीनी सहकारी कारखानों की संख्या है, जो अहमदनगर जिले के अहमदनगर शहर के साथ-साथ कई कस्बों और गांवों के आर्थिक विकास का मुख्य चालक भी है।

अहमदनगर के विनिर्माण क्षेत्रसंपादित करें

यह विनिर्माण और सेवा क्षेत्र है कि अहमदनगर आने वाले दशकों में अपनी आर्थिक वृद्धि को लेकर उत्सुकता से देख रहे हैं। महाराष्ट्र सरकार और अहमदनगर के स्थानीय प्रशासकों को पूरी तरह से पता है कि अहमदनगर को आर्थिक रूप से शक्तिशाली खिलाड़ी बनाने और कम कृषि क्षेत्र द्वारा उत्पन्न कम आर्थिक विकास की भरपाई करने के लिए इन दोनों क्षेत्रों का विकास बहुत महत्वपूर्ण है।

विनिर्माण पक्ष पर, अहमदनगर पहले ही एक बड़ी प्रगति कर चुका है। अहमदनगर शहर के बाहरी इलाके में स्थित विशाल एमआईडीसी (महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम) क्षेत्र पहले से ही 42 बड़े पैमाने पर उद्योग समेत 200 से अधिक उद्योगों का घर है। सन फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड, लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड, क्रॉम्प्टन ग्रीव्स लिमिटेड और काइनेटिक इंजीनियरिंग जैसी प्रशंसित भारतीय कंपनियां लिमिटेड एमआईडीसी क्षेत्र में अपने कारखानों है। इसके अलावा, वीडियोकॉन और किर्लोस्कर जैसी अन्य प्रशंसित भारतीय कंपनियों में अहमदनगर शहर के अन्य हिस्सों में भी उनकी कारखानियां हैं।

कहने की जरूरत नहीं है, आज ये उद्योग अहमदनगर की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं, क्योंकि वे स्थानीय लोगों के लिए भारी रोजगार पैदा करते हैं। अनुमान है कि अहमदनगर शहर के 1 लाख से अधिक लोग एमआईडीसी और अहमदनगर शहर के अन्य क्षेत्रों में स्थित विभिन्न उद्योगों में कार्यरत हैं। हालांकि, अहमदागर की औद्योगिक क्षेत्र में सभ्य सफलता सेवा क्षेत्र में इसके कम प्रदर्शन से काफी बाधित है। वास्तव में, कुछ बैंकों के अलावा, वित्त कंपनियों और सॉफ्टवेयर कंपनियों अहमदनगर के पास सेवा क्षेत्र के सामने दिखाने के लिए कुछ भी नहीं है। सेवा क्षेत्र में बहुत जरूरी उछाल देने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने एमआईडीसी क्षेत्र में एक आईटी पार्क का निर्माण किया है, लेकिन किसी भी प्रमुख भारतीय आईटी कंपनियों या अंतरराष्ट्रीय आईटी कंपनियों ने अभी तक एक शाखा खोलना नहीं है। सेवा क्षेत्र में अहमदनगर की विफलता मुख्य रूप से आवश्यक कौशल की कमी और प्रशासन की उदासीनता के कारण भी हो सकती है।

अहमदनगर में कृषिसंपादित करें

अहमदनगर का कृषि क्षेत्र हमेशा लाभदायक रहा है। यह इस तथ्य के कारण है कि पूरे अहमदनगर जिले सूखे क्षेत्र में आता है। और इसलिए सभी कृषि भूमि, जो मुख्य रूप से अहमदनगर के आस-पास के कस्बों / गांवों में केंद्रित हैं, आज भी दुर्लभ खाद्य अनाज उत्पादन का उत्पादन जारी रखते हैं। कृषि क्षेत्र से बहुत कम या कोई मदद नहीं, यह निष्कर्ष निकालना पर्याप्त है कि अहमदनगर की आर्थिक किस्मत आने में दशकों अपने सेवा क्षेत्र के पुनरुद्धार और विनिर्माण क्षेत्र के आगे विकास पर काफी निर्भर हैं।

मीडिया और संचारसंपादित करें

  • समाचार पत्र: लोकमत, सकाळ, पुण्यनगरी, सामना, लोकसत्ता, नव मराठा, नगर टाइम्स, दिव्य मराठी, महाराष्ट्र टाइम्स, समाचार, सावेडी मित्र
  • टीवी चैनल: सीएमएन चैनल
  • रेडियो: 104 मेरा एफएम, एयर नगर एफएम, रेडियो सिटी, धामाल 24, रेडियो नगर एफएम
  • इंटरनेट: कई सुविधाएं आपूर्तिकर्ताओं द्वारा प्रदान की जाती हैं

संस्थायेंसंपादित करें

अहमदनगर की शिक्षा संस्थाओं में विद्यार्थी राज्य के सभी भागों से आते हैं। यहां कई सरकारी एवं प्राइवेट सन्स्थान हैं जो कला, विज्ञान, प्रोद्योगिकी, आयुर्विज्ञान, कानून और मैनेजमेंट की शिक्षा प्रदान करते हैं। अहमदनगर कॉलेज की स्थापना 1947 में हुई थी। जिले के कुछ प्रमुख कॉलेज निम्न हैं:

  • संजीवनी रुरल एज्युकेशन सोसायटीज् अभियांत्रिकी महाविद्यालय, कोपरगाव.
  • दादा चौधरी विद्यालय
  • सरकारी पॉलिटेक्निक कॉलेज
  • भाऊसाहेब फिरोदिया हायस्कूल
  • न्यु आर्ट्स कॉलेज
  • अहमदनगर कॉलेज
  • पेमराज सारडा कॉलेज
  • गंगाधर शास्त्री गुणे आयुर्वेद कॉलेज
  • विखे पाटिल मेडिकल कॉलेज
  • विखे पाटील अभियांत्रिकी कॉलेज
  • विश्वभारती अभियांत्रिकी कॉलेज
  • अश्विन रूरल आयुर्वेद कॉलेज एंड हॉस्पिटल
  • काकासाहेब म्हस्के होमियोपैथिक मेडिकल कॉलेज, हॉस्पिटल एंड पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट
  • श्री यशवंतराव चव्हाण मेमोरियल मेडिकल एंड रूरल डेवलपमेंट फाउंडेशन डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल
  • प्रवर इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस: रूरल डेंटल कॉलेज
  • पद्मश्री डॉ विट्ठलराव पाटिल फाउंडेशन मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल
  • नेशनल मेडिकल कॉलेज ऑफ़ मेडिकल साइंस

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "RBS Visitors Guide India: Maharashtra Travel Guide Archived 2019-07-03 at the Wayback Machine," Ashutosh Goyal, Data and Expo India Pvt. Ltd., 2015, ISBN 9789380844831
  2. "Mystical, Magical Maharashtra Archived 2019-06-30 at the Wayback Machine," Milind Gunaji, Popular Prakashan, 2010, ISBN 9788179914458