मुख्य मेनू खोलें

एक दूजे के लिये

1981 की के बालाचंदर की फ़िल्म

एक दूजे के लिये 1981 में बनी हिन्दी भाषा की दुखान्त प्रेमकहानी फ़िल्म है। इसका निर्देशन के बालाचंदर द्वारा किया गया और मुख्य कलाकार कमल हासन और रति अग्निहोत्री हैं। यह निर्देशक की अपनी ही एक तेलुगू फ़िल्म की रीमेक थी। फिल्म जारी होने पर "सुपर हिट" रही थी।[1] इसे आलोचनात्मक प्रशंसा भी मिली और यह 13 फिल्मफेयर पुरस्कार नामांकन में से अंत में 3 जीतने में सफल रही। ये गायक एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम की भी पहली हिन्दी फिल्म थी और उन्हें इस फिल्म में गायकी के लिये राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला था।

एक दूजे के लिये
एक दूजे के लिये.jpg
एक दूजे के लिये का पोस्टर
निर्देशक के बालाचंदर
निर्माता एल वी प्रसाद
लेखक के बालाचंदर
अभिनेता कमल हासन,
रति अग्निहोत्री,
माधवी
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
प्रदर्शन तिथि(याँ) 5 जून, 1981
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

यह फिल्म एक तमिल आदमी, वासु (कमल हासन) और उत्तर भारतीय महिला सपना (रति अग्निहोत्री) के बीच प्यार के बारे में है, जो गोवा में पड़ोसी हैं। वे पूरी तरह से अलग पृष्ठभूमि से आते हैं और शायद ही कभी दूसरे की भाषा बोल सकते हैं। उनके माता-पिता एक-दूसरे को तुच्छ मानते हैं और उनके साथ नियमित झड़प होती है। जब वासु और सपना अपने प्यार को स्वीकार करते हैं, तो उनके घरों में अराजकता होती है और उनके माता-पिता इस विचार को अस्वीकार करते हैं।

प्रेमी को अलग करने के लिए एक चाल के रूप में, उनके माता-पिता एक शर्त रखते हैं कि वासु और सपना एक वर्ष के लिये एक दूसरे से दूर रहेंगे। इस अवधि के बाद, यदि वे फिर भी एक साथ रहना चाहते हैं, तो वे शादी कर सकते हैं। साल के दौरान उनके बीच कोई संपर्क नहीं होना चाहिए। वासु और सपना अनिच्छुक रूप से इस शर्त से सहमत होते हैं और अलग होने का फैसला करते हैं।

वासु हैदराबाद चला गया और वे दोनों अलग-अलग होने के कारण दुखी थे। वासु तब एक विधवा संध्या (माधवी) से मिलता है जो उसे हिंदी सिखाती है। इस बीच, सपना की मां सपना के दिमाग से वासु का ख्याल निकालने के लिए गोवा में एक परिवार के मित्र के बेटे, चक्रम (राकेश बेदी) को लाती है। लेकिन वह उससे प्रभावित नहीं होती। मैंगलोर में एक मौका मिलने पर, चक्रम वासु से कहता है कि सपना उससे शादी करने के लिए सहमत हो गई है। वासु परेशान होता है और बदले में संध्या से शादी करने का फैसला करता है। हालांकि, संध्या को वासु के असली प्यार के बारे में पता चला और वो गोवा में सही स्थिति जानने और प्रेमियों के बीच गलतफहमी को दूर करने के लिए जाती है।

वासु फिर गोवा लौटता है और सपना के माता-पिता को हिंदी के साथ प्रभावित करता है। जब वासु सपना से मिलने जाता है तो उसे सपना के भाई (रज़ा मुराद) द्वारा किराए पर लिये गए गुंडों के एक समूह द्वारा हमला किया गया। इस बीच, मंदिर में एक पुस्तकालय अध्यक्ष (सुनील थापा) द्वारा सपना के साथ बलात्कार किया जाता है और उसे मरने के लिए छोड़ दिया जाता है। फिल्म त्रासदी से समाप्त होती है जब वासु और सपना चट्टान से कूदकर आत्महत्या कर लेते हैं।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत आनंद बख्शी द्वारा लिखित; सारा संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."हम तुम दोनों जब मिल जाएंगे"लता मंगेश्कर, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम5:36
2."सोलह बरस की बाली उमर"लता मंगेश्कर, अनूप जलोटा6:15
3."सोलह बरस की बाली उमर" (II)लता मंगेश्कर5:36
4."मेरे जीवन साथी"एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम, अनुराधा पौडवाल5:01
5."तेरे मेरे बीच में"लता मंगेश्कर, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम5:37
6."तेरे मेरे बीच में" (II)एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम4:38
7."हम बने तुम बने"लता मंगेश्कर, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम6:07

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1982 एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार - सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार जीत
वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1982 एल वी प्रसाद फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म पुरस्कार नामित
के बालाचंदर फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ निर्देशक पुरस्कार नामित
कमल हासन फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार नामित
रति अग्निहोत्री फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार नामित
माधवी फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री पुरस्कार नामित
असरानि फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता पुरस्कार नामित
के बालाचंदर फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ कथा पुरस्कार नामित
के बालाचंदर फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पटकथा पुरस्कार जीत
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार नामित
आनंद बख्शी ("तेरे मेरे बीच में") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार जीत
आनंद बख्शी ("सोलह बरस की बाली उमर") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार नामित
एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार नामित
फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सम्पादन पुरस्कार जीत

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "कमल हसन की वो फिल्में जिसे हमेशा देखना चाहेंगे आप!". न्यूज़ 18. 7 नवंबर 2016. अभिगमन तिथि 19 अगस्त 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें