मुख्य मेनू खोलें

डॉ अनुराधा पौडवाल (जन्म 27 अक्टूबर 1954) हिन्दी सिनेमा की एक प्रमुख पार्श्वगायिका हैं। वे १९९० के दशक में अत्यन्त लोकप्रिय रहीं।

अनुराधा पौडवाल
पृष्ठभूमि की जानकारी
जन्मनाम अलका नादकर्णी
जन्म 27 अक्टूबर 1952 (1952-10-27) (आयु 67)
कंवर , उत्तराखंड, कर्नाटक
शैली पार्श्वगायक, भजन
व्यवसाय गायन
वाद्य यन्त्र गायक
सक्रिय वर्ष 1973–वर्तमान
रिकॉर्ड लेबल टी-सीरीज़, टिप्स म्यूजिक, वीनस रिकॉर्ड्स
सन २०१७ में अनुराधा पौडवाल को पद्मश्री से अलंकृत करते हुए तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी

इन्होंने फिल्म कैरियर की शुरुआत की फ़िल्म अभिमान से, जिसमें इन्होंने जया भादुड़ी के लिए एक श्लोक गाया। यह श्लोक उन्होंने संगीतकार सचिन देव वर्मन के निर्देशन में गाया था। उसके बाद उन्होंने 1974 में अपने पति संगीतकार अरुण पौडवाल के संगीत निर्देशन में 'भगवान समाये संसार में' फ़िल्म में मुकेश ओर महेंद्र कपूर के साथ गाया।

अनुराधा पौडवाल का जन्म 27 अक्टूबर 1954 को कर्नाटक के उत्तर कन्नड जिले के करवार में एक कोंकणी परिवार में हुआ था। किन्तु उनका पालन-पोषण मुंबई में हुआ था। उनका विवाह अरुण पौडवाल से हुई थी जो प्रसिद्ध संगीतकार एसडी बर्मन के सहायक थे। अरुण स्वयं एक संगीतकार थे। नब्बे के दशक में अनुराधा पौडवाल अपने करियर के शिखर पर थीं, उसी समय उनके पति अरुण की एक दुर्घटना में मृत्यु हो गई। उनके एक बेटा आदित्य पौडवाल और बेटी कविता पौडवाल है।

अनुराधा ने 1973 में आई अमिताभ और जया की फिल्म 'अभिमान' से अपना करियर शुरू किया था जिसमे उन्होने एक श्लोक गीत गया था। एक समय लगभग हर फिल्म में अनुराधा का गाना होता था। लेकिन अब लंबे समय से गायन से दूर हैं। आखिरी बार उन्होंने 2006 में आई फिल्म 'जाने होगा क्या' में गाने गाए थे। अनुराधा ने कभी शास्त्रीय संगीत का प्रशिक्षण नही लिया, ये कहते हुए कि उन्होने कई बार कोशिश की पर बात नही बनी। उन्होने लताजी को सुनते सुनते और खुद घंटो अभ्यास करते करते ही अपने सुर बनाए। लता मंगेशकर अनुराधा पौडवाल के लिए भगवान से कम नहीं है, क्योंकि वह अपनी सभी सफलताओं का श्रेय लता जी को ही देती हैं। उनका कहना है कि “मैंने कई गुरुओं के सानिध्य में संगीत सीखा। लेकिन, लता जी की आवाज़ मेरे लिए एक प्रेरणा स्त्रोत थी जिसने एक संस्थान के रूप में मेरा मार्गदर्शन किया।” उन्होने अन्य संगीतकारों (राजेश रोशन, जे देव, कल्याणजी आनन्दजी) के साथ भी अच्छी जोड़ी बनाई।

अनुराधा को फिल्म 'हीरो' के गानो की सफलता के बाद लोकप्रियता मिली और उनकी गिनती शीर्ष गायिकाओं में की जाने लगी| इस फिल्म मे उन्होने लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल के साथ जोड़ी बनाई। हीरो की सफलता के बाद इस जोड़ी ने कई और फिल्मों मे सफल गाने दिए जैसे, 'मेरी जंग', 'बटवारा', 'राम लखन' और आखरी में 'तेज़ाब'। इसके बाद उन्होने टी-सीरीज़ के गुलशन कुमार के साथ हाथ मिलाया और कई नये चेहरों को बॉलीवुड में दाखिला दिलाया। इनमे से कुछ हैं उदित नारायण, सोनू निगम, कुमार सानू, अभिजीत, अनु मलिक और नदीम श्रवण

अपनी सफलता के चरम पर उन्होने केवल टी-सीरीज़ के साथ काम करने की घोषणा कर दी, जिसका लाभ अल्का याग्निक को मिला। अनुराधा पौडवाल ने फिल्मों से हटकर भक्ति गीतों पर ध्यान देना शुरू किया और इस क्षेत्र में बहुत से सफल भजन गाए। कुछ समय तक काम करने के बाद उन्होने एक विश्राम ले लिया और 5 साल बाद फिर पार्श्व गायन में आ गयीं हालाँकि उनका लौटना उनके लिए बहुत सफल साबित नही रहा।

पुरस्कारसंपादित करें

अनुराधा पौडवाल को संगीत के क्षेत्र में किये उनके श्रेष्ठ योगदान के लिये कई पुरस्‍कारों से सम्‍मानित किया जा चुका है। उन्‍हें भारत सरकार की तरफ से साल 2017 में पद्मश्री से सम्‍मानित किया गया है। इसके अलावा उन्‍हें 4 बार फिल्‍म फेयर पुरस्‍कार से और एक बार राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कार से भी सम्‍मानित किया जा चुका है।

फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कारसंपादित करें

वर्ष गीत फिल्म संगीत निर्देशक गीतकार
1986 "मेरे मन बाजा मृदंग" उत्सव लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल वसंत देव
1991 "नज़र के सामने" आशिकी नदीम-श्रवण समीर
1992 "दिल है के मानता नहीं" दिल है के मानता नहीं नदीम-श्रवण फैज़ अनवर
1993 "धक धक करने लगा" बेटा आनंद-मिलिंद समीर

राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कारसंपादित करें

वर्ष गीत फिल्म संगीत निर्देशक गीतकार
1989 "हे एक रेशमी" कलत नकलत आनंद मोदक सुधीर मोघे

सन्दर्भसंपादित करें