निर्देशांक: 16°01′09″N 75°52′55″E / 16.019167°N 75.881944°E / 16.019167; 75.881944 ऐहोल (कन्नड़ ಐಹೊಳೆ) कर्नाटक राज्य के बागलकोट जिला में एक प्राचीन मंदिर समूह के लिए प्रसिद्ध स्थल है। यह पत्तदकल के पूर्व में मलयप्रभा नदी के तट पर स्थित है। बादामी इसके पश्चिम में स्थित है। ऐहोल अभिलेख पुलकेशिन 2 से सम्बंधित है पुलकेशिन 2 चालुक्य सम्राट था

ऐहोल
ऐहोल में दुर्गा मंदिर
ऐहोल में दुर्गा मंदिर
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य कर्नाटक
ज़िला बागलकोट

ऐहोल के प्राचीन स्मारकों को राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया हुआ है, एवं इनके युनेस्को विश्व धरोहर स्थल घोषित करने के प्रयास जारी हैं।[1]


पुलकेसि २ के काल के चालुक्य क्षेत्र, ६४० ई.
लाद खान मंदिर
रावण पहाड़ी गुफा
रावण पहाड़ी गुफा के भीतर


(अंग्रेज़ी: Aihole) कर्नाटक के बीजापुर में स्थित, बादामी के निकट, बहुत प्राचीन स्थान है। इसे एहोड़ और आइहोल के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ से चालुक्य नरेश पुलकेशिन द्वितीय का 634 ई. का एक अभिलेख प्राप्त हुआ है। यह प्रशस्ति के रूप में है और संस्कृत काव्य परम्परा में लिखा गया है। इसका रचयिता जैन कवि रविकीर्ति था। इस अभिलेख में पुलकेशी द्वितीय की विजयों का वर्णन है। अभिलेख में पुलकेशी द्वितीय के हाथों हर्षवर्धन की पराजय के बारे में जानकारी मिलती है। यह अनुमान लगाया जा सकता है कि हर्ष - पुलकेशी के मध्य युद्ध 630 और 634ई0 के बीच लड़ा गया था। 

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Relocation move sparks concern". अभिगमन तिथि 2009-04-01.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें