कल आज और कल (फ़िल्म)

1971 की रणधीर कपूर की फ़िल्म

कल आज और कल 1971 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसका निर्माण राज कपूर ने और निर्देशन उनके पुत्र रणधीर कपूर ने किया। फिल्म की यूएसपी थी कपूर परिवार की तीन पीढ़ियों की उपस्थिति: पृथ्वीराज कपूर, उनके बेटे राज कपूर, राज कपूर के बेटे रणधीर कपूर (अपनी पहली फिल्म में)। साथ में रणधीर की वास्तविक जीवन की होने वाली पत्नी बबीता भी इसमें हैं।

कल आज और कल
कल आज और कल.jpg
कल आज और कल का पोस्टर
निर्देशक रणधीर कपूर
निर्माता राज कपूर
अभिनेता राज कपूर,
पृथ्वीराज कपूर,
बबीता,
रणधीर कपूर
संगीतकार शंकर-जयकिशन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1 जुलाई, 1971
देश भारत
भाषा हिन्दी

यह राजकपूर की अंतिम फिल्म रही जिसमें शंकर जयकिशन का संगीत था; इसमें "आप यहाँ आये किस लिये" और "भँवरे की गुंजन" जैसे सुपरहिट गाने शामिल हैं। यह फिल्म मेरा नाम जोकर के भारी घाटे के बाद आई। यह फिल्म पृथ्वीराज कपूर की अंतिम फिल्मों में से है, क्योंकि 1972 में फिल्म की रिलीज के अगले साल उनकी मृत्यु हो गई थी।

संक्षेपसंपादित करें

दीवान बहादुर कपूर (पृथ्वीराज कपूर) राम बहादुर कपूर (राज कपूर) के पिता हैं। राम के पुत्र राजेश (रणधीर कपूर), जिन्हें उच्च अध्ययन के लिए लंदन भेजा गया था, भारत लौट आए। बहादुर ने अपने बचपन के दोस्त से वादा किया है कि राजेश की शादी बाद की पोती के साथ की जाएगी।

हालांकि, राजेश अपनी प्रेमिका मोनिका (बबीता) के साथ प्यार करता है और शादी के लिए तैयार है। दादा और पोता दोनों अपनी बंदूकों से चिपके रहते हैं, थोड़ा सा एहसास होता है कि झड़प में राम ही असली पीड़ित हैं। राम ने अपना घर छोड़ दिया, जिससे दादा पोते की जोड़ी एक दूसरे पर दोषारोपण कर रही थी। अब, यह राम पर निर्भर है कि वे इस मामले को अपने हाथ में लें।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी शंकर-जयकिशन द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."आप यहाँ आये किस लिये"नीरजआशा भोंसले, किशोर कुमार6:52
2."भँवरे की गुंजन है मेरा दिल"हसरत जयपुरीकिशोर कुमार4:25
3."हम जब होंगे साठ साल के"शैली शैलेन्द्रकिशोर कुमार, आशा भोंसले4:56
4."टिक टिक टिक चलती जाये"नीरजकिशोर कुमार, आशा भोंसले, मुकेश6:15
5."एक पाँव चल रहा अलग अलग"नीरजमन्ना डे4:34
6."किसी के दिल को सनम"हसरत जयपुरीशारदा3:41

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें