कीर्तन

भागवत संप्रदाय की प्रमुख लक्षण जिसमें पौराणिक कथा गाकर सुनाई जाती है

हिन्दू धर्म में ईश्वर या देवता की भक्ति के लिये उनके नामों को भांति-भांति रूप में उच्चारना कीर्तन कहलाता है। यह भक्ति के अनेक मार्गों में से एक है। अन्य हैं - श्रवण, स्मरण, अर्चन आदि।

1960 के दशक में केन्या में पारम्परिक वाद्य यंत्रों के साथ कीर्तन करते सिख श्रद्धालु।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें