कुलशेखर (तमिल : कुलचेकर[1]) (जीवनकाल : ९वीं शताब्दी ईसवी[2]), दक्षिण भारत के मध्यकाल के एक सन्त कवि तथा भक्ति के प्रवर्तक थे। विद्वानों का मत है कि शाही नाटककार कुलशेखर वर्मा और कुलशेखर आलवार एक ही व्यक्ति हैं। विद्वानों का यह भी मत है कि स्थाणु रवि कुलशेखर जो चेर राजवंश के आरम्भिक शासकों में से एक थे, वे ही कुलशेखर आलवार ही हैं। [2][3]

कुलशेखर
Kulasekhara Alwar.png
कुलशेखर का आधुनिक चित्रण (१९वीं शताब्दी)
जन्म वांची (कोडुनगल्लुर)
मृत्यु मन्नारकोविल

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "South Asian Arts". Encyclopedia Britannica (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2018-11-23.
  2. Noburu Karashmia (ed.), A Concise History of South India: Issues and Interpretations. New Delhi: Oxford University Press, 2014. 143.
  3. Narayanan, M. G. S. Perumāḷs of Kerala. Thrissur (Kerala): CosmoBooks, 2013. 65-66, 95-96, 383-5, 436.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें