ब्रिटिशकालीन भारत में केन्द्रीय विधान सभा (Central Legislative Assembly), इम्पीरियल लेजिस्लेटिव काउन्सिल का निम्न सदन था। इसका निर्माण भारत सरकार अधिनियम, १९१९ के अधीन किया गया था। कभी-कभी इसे 'इंडियन लेजिस्लेटिव असेम्बली' और इम्पीरियल लेजिस्लेटिव असेम्बली' भी कहते थे।

सेन्ट्रल लेजिस्लेटिव असेम्बली, वर्तमान संसद भवन में हुआ करती थी।

भारत की स्वतन्त्रता के परिणामस्वरूप १४ अगस्त १९४७ को लेजिस्लेटिव असेम्बली को भंग कर दिया गया तथा इसके स्थान पर भारतीय संविधान सभा एवं पाकिस्तानी संविधान सभा बनायी गयीं।