केन यमुना की एक उपनदी या सहायक नदी है जिसका उद्गम विंध्याचल पर्वत से होता है तथा यह बुन्देलखंड क्षेत्र से गुजरते हुए यमुना नदी में मिल जाती है। दरअसल मंदाकिनी तथा केन यमुना की अंतिम उपनदियाँ हैं क्योंकि इस के बाद यमुना गंगा से जा मिलती है। केन नदी कटनी, मध्यप्रदेश से प्रारंभ होती है,[2] पन्ना में इससे कई धारायें आ जुड़ती हैं और फिर बाँदा, उत्तरप्रदेश में इसका यमुना से संगम होता है।

केन नदी
Strong rooted in the middle of violent Ken.JPG
केन नदी
स्थान
देश भारत
राज्य मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश
क्षेत्र बुन्देलखंड
भौतिक लक्षण
नदीशीर्षअहिरावण
 • स्थानकैमुर श्रंखला, कटनी ज़िला, मध्य प्रदेश
 • ऊँचाई550 मी॰ (1,800 फीट)
नदीमुख यमुना नदी
 • स्थान
चिल्ला, फतेहपुर जिला, उत्तर प्रदेश
 • निर्देशांक
25°46′N 80°31′E / 25.767°N 80.517°E / 25.767; 80.517निर्देशांक: 25°46′N 80°31′E / 25.767°N 80.517°E / 25.767; 80.517
लम्बाई 427 कि॰मी॰ (265 मील)
प्रवाह 
 • औसत310 m3/s (11,000 घन फुट/सेकंड)[1]
जलसम्भर लक्षण

इस नदी का "शजर" पत्थर विश्व प्रशिध्द है।[3]

नदी की लम्बाई (किलोमीटर मे)संपादित करें

250 कि॰मी॰

सहायक नदियाँसंपादित करें

  • उर्मिल नदी ,सुनार नदी

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Hydrology" (PDF). nwda.gov.in. National Water Development Authority. मूल (PDF) से 19 जून 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 April 2014.
  2. "Chapter 2 – Physical Features" (PDF). मूल (PDF) से 7 November 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-07-15.
  3. अभा, सेन. "दुर्लभ हैं इस नदी के पत्थर, 4 सौ साल पहले हुई थी खोज". patrika.com (hindi में). पत्रिका समाचार. अभिगमन तिथि 19 अप्रैल 2020.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)