निर्वात नलिका डायोड का योजनामूलक चित्र
डायोड आकार-प्रकार में भिन्न दिख सकते हैं। यहाँ चार डायोड दिखाये गये हैं जो सभी अर्धचालक डायोड हैं। सबसे नीचे वाला एक ब्रिज-रेक्टिफायर है जो चार डायोडों से बना होता है।

डायोड (diode) यह एक ऐसी युक्ति है । जिसमे विधुत धारा एक दिशा मे बहती है । द्विअग्र / द्वयाग्र एक वैद्युत युक्ति है। अधिकांशत: डायोड दो सिरों (अग्र) वाले होते हैं किन्तु ताप-आयनिक डायोड में दो अतिरिक्त सिरे भी होते हैं जिनसे हीटर जुड़ा होता है। डायोड कई तरह के होते हैं किन्तु इन सबकी प्रमुख विशेषता यह है कि यह एक दिशा में धारा को बहुत कम प्रतिरोध के बहने देते हैं जबकि दूसरी दिशा में धारा के विरुद्ध बहुत प्रतिरोध लगाते हैं। इनकी इसी विशेषता के कारण ये अन्य कार्यों के अलावा प्रत्यावर्ती धारा को दिष्ट धारा के रूप में बदलने के लिये दिष्टकारी परिपथों में प्रयोग किये जाते हैं। आजकल के परिपथों में अर्धचालक डायोड, अन्य डायोडों की तुलना में बहुत अधिक प्रयोग किये जाते हैं।

अर्धचालक डायोडसंपादित करें

प्रतीकसंपादित करें

धारा-वोल्टता वैशिष्ट्यसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

 
डायोड जब अग्रदिशिक बायस (फॉरवर्ड बायस) होता है तो उसमें धारा बह सकती है, किन्तु पश्चदिशिक बायस की दशा में लगभग शून्य धारा बहती है।
 
ये 'प्रेसपैक डायोड' हैं जो हीटसिंक के बीच दबाकर लगाये गये हैं। ये हजारों अम्पीयर धारा ले सकते हैं।

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

एनिमेशनसंपादित करें