किसी कम्प्यूटर प्रणाली पर संचित आंकडे (डेटा) को कम्प्यूटर डेटाबेस (database) कहते हैं। इन आंकडों को किसी विशेष पद्धति का अनुसरण करते हुए संग्रह किया जाता है। इन आंकडों के आधार एक किसी प्रश्न (जिज्ञासा) का समाधान शीघ्रता से प्राप्त किया जा सकता है। प्रश्न पूछने के लिये एक विशेष कम्प्यूटर भाषा का प्रयोग किया जाता है जिसे पृच्छा भाषा (query language) कहते हैं। जिज्ञासा के समाधान के रूप में जो आंकड़े प्राप्त होते हैं, वे सम्यक निर्णय लेने में सहायक होते हैं।

SQL select स्टेटमेन्ट तथा इससे प्राप्त परिणाम

ऐसे कम्प्यूटर प्रोग्राम जो कम्प्यूटर पर आंकडों को संग्रह करने, उनका प्रबन्धन (आंकडे जोड़ना, परिवर्तित करना, परिवर्धित करना आदि) करने एवं आकडों पर आधारित प्रश्न पूछने के काम आते हैं, उन्हे डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली (डी बी एम एस) कहते हैं।

जिज्ञासा (query) का एक उदाहरण: किसी संस्था के कर्मचारियों के डेटाबेस पर यह जिज्ञासा की जा सकती है कि कौन-कौन से कर्मचारी ३० वर्ष से कम उम्र के हैं, तथा जिनकी आय ३ लाख रूपये वार्षिक से अधिक है।

डेटाबेस की सबसे महत्वपूर्ण संकल्पना (कांसेप्ट) यह है कि डेटाबेस रिकॉर्डो (छोटी-छोटी सूचनाओं) का संग्रह है।

डेटाबेस के विभिन्न प्रारूप (माडल)संपादित करें

आंकडों की तार्किक संरचना के लिये भिन्न-भिन्न तकनीके प्रयोग में लायी जाती हैं।

  • Flat model
  • Hierarchical model
  • Network model
  • Relational model
  • Object database models
  • Post-relational database models (उदाहरण : PICK aka MultiValue, and MUMPS.)
  • Fuzzy Database

डेटाबेस की उपयोगितासंपादित करें

आज का युग सूचना का युग है। सूचना आंकडों पर आधारित होती है। इस कारण वर्तमान युग में डेटाबेस बहुत उपयोगी है। बैंक, रेलवे आरक्षण तथा विभिन्न सरकारी विभाग तरह-तरह के आंकडों के आधार पर ही काम करते हैं।

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें