तहलका दिल्ली स्थित एक समाचार पत्र समूह है जो अपनी खोजी और तथ्यपरक पत्रकारिता के लिए जाना जाता है। तहलका समूह के प्रधान संपादक तरुण तेजपाल हैं और यह समूह दो पत्रिकाएं प्रकाशित करता है। तहलका की अंग्रेजी पत्रिका की संपादक शोमा चौधरी हैं और हिंदी पत्रिका के संपादक संजय दुबे हैं। तहलका वर्ष 2001 में ऑपरेशन वेस्टएंड के जरिए पहली बार चर्चा में आया जिसमें तहलका ने तब के भाजपा के अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण को रक्षा सौदों में मदद के लिए रिश्वत लेते हुए कैमरे में रंगे हाथों कैद किया था। शुरुआत में तहलका सिर्फ एक समाचार पोर्टल था। इसकी अंग्रेजी पत्रिका की शुरुआत वर्ष 2004 में हुई। तहलका की हिंदी पत्रिका की शुरुआत वर्ष 2008 में हुई थी।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "मेरी दुनिया मेरे सपने, शीर्षक: ऑनलाइन/ऑफलाइन हिन्‍दी मैग्‍ज़ीन का वृहद संग्रह।". मूल से 1 अगस्त 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 जुलाई 2013.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें