दक्षिणी भाई द्वीप

दक्षिणी भाई द्वीप भारत के अण्डमान व निकोबार द्वीपसमूह के अण्डमान द्वीपसमूह भाग में रटलैण्ड द्वीप और छोटे अण्डमान के बीच डंकन जलसन्धि में स्थित एक छोटा-सा टापू है। यह एक निर्जन द्वीप है (यहाँ कोई नहीं रहता)। यह महात्मा गांधी समुद्री राष्ट्रीय उद्यान का हिस्सा है। यह छोटे अण्डमान द्वीप से ९.५ किमी पूर्वोत्तर पर स्थित है।[1]

दक्षिणी भाई द्वीप
South Brother Island
दक्षिणी भाई द्वीप डंकन जलसन्धि में रटलैण्ड द्वीप और छोटे अण्डमान के बीच स्थित है
दक्षिणी भाई द्वीप डंकन जलसन्धि में रटलैण्ड द्वीप और छोटे अण्डमान के बीच स्थित है
देश भारत
राज्यअण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह
ज़िलादक्षिण अण्डमान
समय मण्डलआइएसटी (यूटीसी+5:30)

भूगोलसंपादित करें

द्वीप का आकार एक राजमा के दाने की तरह है। इसका आकार १८०० मीटर लम्बा और ६३० मीटर चौड़ा है और उत्तर की ओर एक चौड़ी खाड़ी है। इसके मध्य भाग में वन है और पूरी धरती समतल है। वन के इर्द-गिर्द एक रेतीला तट है और द्वीप को एक कोरल रीफ़ पूरी तरह घेरे हुए है। द्वीप के बिलकुल मध्य का भाग थोड़ा धंसा हुआ है और वर्षा के मौसम में यहाँ एक तालाब बन जाता है। १९८७ में पूरा द्वीप एक प्राकृतिक संरक्षित क्षेत्र घोषित कर दिया गया।

इतिहाससंपादित करें

१९वीं शताब्दी के अंत तक छोटे अण्डमान से ओन्गी लोग यहाँ समुद्री कछुए पकड़ने आया करते थे। उस काल में आये एक यात्री ने यहाँ ३० लोगों तक के रहने वाली कुटिया पाई जिसमें बम्बू(बांस)की चारपाईयाँ थीं। समझा जाता है कि इसी द्वीप के मार्ग से १८९०-१९३० काल में ओन्गी समुदाय बृहत अण्डमान क्षेत्र में प्रवेश कर गया।[2]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Human Geography: The Land," Pradeep Sharma, Discovery Publishing House, 2007, ISBN 9788183562904
  2. George Weber (~2009), The Tribes Archived 2009-03-02 at the Wayback Machine. Chapter 8 in The Andamanese Archived 2013-07-24 at the Wayback Machine. Accessed on 2012-07-03.