दिगारो भाषाएँ या दिगारू भाषाएँ या उत्तरी मिश्मी भाषाएँ भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य और तिब्बत में मिश्मी समुदाय द्वारा बोली जाने वाली कुछ भाषाओं का एक छोटा भाषा-परिवार है। इस बात पर विवाद है कि यह तिब्बती-बर्मी भाषा-परिवार की एक शाखा है या स्वयं एक स्वतंत्र भाषा-परिवार है। मिलते-जुलते नाम के बावजूद इनका दक्षिणी मिश्मी भाषाओं (मिडज़ू भाषाओं) से कोई समीपी सम्बन्ध नहीं है।[1][2]

दिगारो भाषाएँ
उत्तरी मिश्मी
भौगोलिक
विस्तार:
अरुणाचल प्रदेश, तिब्बत
भाषा श्रेणीकरण: तिब्बती-बर्मी या स्वतंत्र भाषा-परिवार
  • दिगारो भाषाएँ
उपश्रेणियाँ:
इडू मिश्मी
दिगारो मिश्मी (तराओन)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. George van Driem (2001) Languages of the Himalayas: An Ethnolinguistic Handbook of the Greater Himalayan Region. Brill.
  2. Blench, Roger; Post, Mark (2011), (De)classifying Arunachal languages: Reconstructing the evidence (PDF), मूल (PDF) से 26 मई 2013 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 17 अप्रैल 2017