दुश्शला दुर्योधन की बहन थी और १०० कौरवों की अकेली बहन। इनके पिता धृतराष्ट्र व माता गांधारी थी।[1] दुुश्शला का विवाह सिन्धु एवं सौविरा नरेश जयद्रथ से हुआ, जिसका वध अर्जुन द्वारा कुरुक्षेत्र में महाभारत में किया गया। दुःशला के पुत्र का नाम सुरथ था। जब अर्जुन कुरुक्षेत्र युद्ध के बाद युधिष्ठिर द्वारा आयोजित अश्वमेध यज्ञ के परिणाम स्वरुप दुश्शला से आशीर्वाद प्राप्त करने हेतु सिन्धु पहुचे तो दुश्शला के पौत्र से उनका युद्ध हुआ अर्जुन ने सदा दुर्योधन की बहन को अपनी बहन माना और अपनी बहन के पौत्र और सुरथ के पुत्र को जीवन दान दे कर सिन्धु को छोड़ आगे बढ़ गए।

दुःशला
175px
हिंदू पौराणिक कथाओं के पात्र
नाम:दुःशला
अन्य नाम:{{{अन्य नाम}}}
संदर्भ ग्रंथ:{{{संदर्भ ग्रंथ}}}
जन्म स्थल:{{{उत्त्पति स्थल}}}
मुख्य शस्त्र:{{{मुख्य शस्त्र}}}
राजवंश:{{{राजवंश}}}
माता-पिता:{{{माता और पिता}}}
भाई-बहन:{{{भाई-बहन}}}
जीवनसाथी:{{{जीवनसाथी}}}
संतान:{{{संतान}}}

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Unveiling the secret of Duhsala, the only sister of 100 Kaurava Brothers". Detechter (अंग्रेज़ी में). 2017-10-24. अभिगमन तिथि 2020-08-26.