द्वारपाल (संस्कृत, "दरवाजा रक्षक") द्वार अथवा प्रवेश-स्थान पर खड़े योद्धा अथवा बहादूर व्यक्ति से समझा जाता है, जो सामान्यतः हथियार रखता है जिसमें सबसे सामान्य गदा है।

जावा, इंडोनेशिया में नौवीं सदी के बौद्ध मंदिर के दो द्वारपालों में से एक।

सन्दर्भसंपादित करें