धृति

धृति का मतलब धृढ संकल्प, सब्र और धैर्य के साथ बर्ताना।

धृति का शाब्दिक अर्थ है : मन की द्दढ़ता, चित्त की अविचलता, धैर्य, धीरता, धीरज।

हिन्दू दर्शन
पर एक श्रेणी का एक भाग

ॐ
शाखाएं

सांख्य · योग · न्याय · वैशेषिक · पूर्व मीमांसा · वेदांत (अद्वैत · विशिष्ट अद्वैत · द्वैत · अचिंत्य भेद अभेद)

व्यक्ति

प्राचीन

गौतम · जैमिनी · कनाद · कपिल · मार्कण्डेय · पतंजलि · वाल्मीकि · व्यास

मध्य काल
आदि शंकर · चैतन्य महाप्रभु · कबीर · मधुसूदन · माधव · नामदेव  · निम्बार्क  · रामानुज · तुकाराम · तुलसीदास · वल्लभ

आधुनिक
कुमारस्वामी · गाँधी · नारायण गुरु · प्रभुपाद · रामकृष्ण परमहंस · रमण महाऋषि · राधाकृष्णन · स्वामिनारायण · श्री औरोबिन्दो · शिवानन्द · विवेकानन्द


इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन

योग के सभी ग्रन्थों ने धृति को एक प्रमुख यम माना है। मनु ने धर्म के दस लक्षणों में धृति को भी स्थान दिया है। साहित्यपदर्पण के अनुसार यह व्यभिचारी भावों में से एक है।

अन्य अर्थ-

१. धारण । धरने या पकड़ने की क्रिया ।

२. स्थिर रहने की क्रिया या भाव । ठहराव ।

३. मन की द्दढ़ता चित्त की अविचलता । धैर्य । धीरता ।

४. सोलह मातृकाओं में से एक ।

५. अठारह अक्षरों के वृत्तों की संज्ञा ।

६. दक्ष की एक कन्या और धर्म की पत्नी ।

७. अश्वमेध की एक आहुति का नाम ।

८. फलित ज्योतिष में एक योग ।

९. चंद्रमा की सोलह कलाओं में से एक ।

१०. सन्तोष । आनन्द (को॰) ।

११. विचार । सावधानता (को॰) ।

१२. अठारह (१८) की संख्या (को॰) ।

१३. यज्ञ (को॰) ।

धृति ^२ संज्ञा पु॰

१. जयद्रथ राजा का पौत्र ।
२. एक विश्वदेव का नाम ।
३. यदुवंशीय वभु का पुत्र ।

सन्दर्भसंपादित करें