दमोह जिले की पथरिया रेलवे स्टेशन से ७.५ कि.मी. दूर ग्राम सूखा में आचार्य तारण तरण देव जी की विहार स्थली है।यहाँ कांच मंदिर व विशाल धर्मशाला परिसर है।यह पहले एक मुस्लिम की सम्पत्ति थी जिसे समाज ने क्रय किया।

अतिशयसंपादित करें

  • यहाँ पानी की कमी थी संत तारण ने कहा वहाँ खोदो।तत्पश्चात उसे खोदा गया तो वहाँ भरपूर पानी निकला।
  • एक बार यहाँ से एक से एक व्यक्ति ईंट ले गया।उस ईंट को दीवार में जितनी बार लगाया उतनी बार दीवार गिरी।उसने ईंट वहीं रखी और दीवार बनायी वो आज तक बनी हुई है।
  • रात को यहाँ देवगण नृत्य करते हैं।
  • समय के साथ यहां अतिशय होते रहते हैं।

मेला महोत्सवसंपादित करें

यहाँ प्रति वर्ष देव उठनी ग्यारस पर मेला महोत्सव होता है।यहां निम्न परिवारों ने मेला भरवाया-

  • सेठ रामलाल चौरई
  • सेठ दुलीचंद्र पटेरा
  • श्री मंत सेठ प्रकाश चंद्र खुरई
  • साथ ही वर्ष २०२० में १४१ जोडौं का वेदीसूतन मेला महोत्सव सम्पन्न हुआ जो निसईजी के इतिहास में अमर हो गया।

इसे भी देखेंसंपादित करें

इसके अंतर्गत निम्न पृष्ठ आते हैं।

संदर्भसंपादित करें