पहेली (1977 फ़िल्म)

1977 में प्रदर्शित हिन्दी चलवित्र

पहेली (अंग्रेजी: riddle) 1977 में ताराचंद बड़जात्या द्वारा निर्मिन चित्र थी| प्रशांत नन्दा के निर्देशन में बनी इस पारिवारिक चित्र में सत्यजीत व नमीता चंद्रा ने मुख्य भूमिका निभाई|

पहेली
निर्देशक प्रशांत नंदा
निर्माता ताराचंद बड़जात्या
राजश्री प्रोडक्शन्स
अभिनेता सत्यजीत,
नमीता चंद्रा
दुर्गा खोटे
अरुण गोविल
ए के हंगल
दीना पाठक
संगीतकार रवींद्र जैन (गीत सहित)
प्रदर्शन तिथि(याँ) १९७७ (१९७७)
देश भारत
भाषा हिंदी

अरुण गोविल, नमीता चंद्रा, पूर्णिमा जयराम, नीना महापात्रा और अनीता सिंह को सुनहरे परदे पर अभिनय के लिए तथा सुरेश वाडेकर को परश्वागायन के लिए परिचय किया गया|

संक्षेपसंपादित करें

चरित्रसंपादित करें

ब्रिजमोहन (नितिन सेठी) गाँव की हवेली में अपनी माँ (दुर्गा खोटे) को छोड़ बंबई चला जाता है| वहां शादी कर बस जाता हैं जहाँ उसकी पत्नी बेटे को जन्म देकर चल बसती है| कुछ वर्ष बाद ब्रिजमोहन एक सफल उद्योगपति व उसका बेटा मोंटू (सत्यजीत) अपनी पढाई समाप्त करने को है| ब्रिजमोहन मोंटू को अपनी दादी से मिलने गाँव भेजता है जहाँ मोंटू अपने दोस्तों के साथ जाता है| गाँव में कुछ कठिनाईयों को झेल मोंटू दोस्तोंके साथ अपने दादी की हवेली पहुँचता है| कुछ समय बाद उसके दोस्त बंबई लौट जाते है| गाँव में मोंटू गौरी (नमीता चंद्रा) से मिलता है और उनकी दोस्ती हो जाती है| गौरी गाँव में अपने चाची व बहनों के साथ रहती है जो उसे बहुत तंग करते है| उसकी भेंट बलराम (अरुण गोविल) से भी होती है जो खेती करता है| बलराम कनक (आभा धुलिया) से शादी करने शहर जाकर कुछ पैसे कमाना चाहता है जिसे उसकी माँ (लीला मिश्रा) मना करती है| इस बीच मोंटू अपनी दादी को अगले साल आने का वादा कर बंबई चला जाता है|

अगले साल वह गाँव में कई परिवर्तन महसूस करता है| बलराम की माँ बीमारी के बाद चल बसी और वह शादी कर शहर चला गया है| गौरी उससे मिलने या बात करने से कतराती है| उसके चाचा उसकी शादी के लिए एक योग्य लडके की तलाश कर रहे है| शहर में पला-बढा मोंटू गाँव की इन परिवर्तनों को समझना ही उसकी 'पहेली' है| अगले साल गाँव में अपनी दादी के पास आना उसके इन परिवर्तनों को समझने पर निर्भर करता है|

मुख्य कलाकारसंपादित करें

  • सत्यजीत - राजा बाबू 'मोंटू'
  • नमीता चंद्रा - गौरी
  • नितिन सेठी - ब्रिजमोहन
  • दुर्गा खोटे - ब्रिजमोहन की माँ
  • अरुण गोविल - बलराम
  • लीला मिश्रा - बलराम की माँ
  • ए के हंगल - मास्टरजी
  • दीना पाठक - मास्टरजी की पत्नी
  • बीरबल - बीरबल, वाहन चालाक
  • आभा धुलिया - कनक
  • शिवराज - वैदजी, कनक के पिता
  • पूर्णिमा जयराम - चंपा
  • नीना महापात्रा - रूपा
  • अनीता सिंह - रेखा
  • आबका चुलिया

दलसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

इसके गीतकार एवं संगीतकार रवींद्र जैन है|

(गीत - गायक - समय) रूप में
  1. "सोना करे कैसे झिलमिल" - सुरेश वाडेकर, हेमलता - 3:20

रोचक तथ्यसंपादित करें

परिणामसंपादित करें

बौक्स ऑफिससंपादित करें

समीक्षाएँसंपादित करें

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें