पावुलूरी मल्लन भारत के ११वीं शताब्दी के एक तेलुगु कवि एवं गणितज्ञ थे। महावीराचार्य द्वारा संस्कृत में रचित गणितसारसंग्रह का उन्होने 'सार संग्रह गणितमु' नाम से तेलुगु कविता में अनुवाद किया।

पावुलूरी मल्लन राजराजा नरेन्द्र (1022–1063 AD) के समकालीन थे। उन्होने 'भद्राद्रि राम शतकमु' नामक एक अन्य ग्रन्थ की भी रचना की। पावुलूरु ग्राम आजकल प्रकाशम जिला के परचुरु मण्डल में है।

सारसंग्रहगणितमुसंपादित करें

मल्लन के सारसंग्रहगणितमु में १० अधिकरण हैं, जबकि महावीर के गणितसारसंग्रह में केवल ८ अधिकरण हैं। इसका पहला अधिकरण, जिसका नाम 'पवुलुरि गणितमु' है, बहुत प्रसिद्ध है। अन्य अधिकरणों के नाम ये हैं-

  • भागहर गणितमु
  • सुवर्ग गणितमु
  • मिश्र गणितमु
  • भिन्न गणितमु
  • क्षेत्र गणितमु
  • खाट गणितमु
  • छाया गणितमु
  • सूत्र गणितमु
  • प्रकीर्ण गणितमु