पुंडलिक या पुंडरीक हिंदू भगवान विट्ठल के उपाख्यानों में एक केंद्रीय पात्र है। विट्ठल वैष्णव देवता है जिन्हे आमतौर पर विष्णु और कृष्ण का रूप माना जाता है। पुंडलिक को विठ्ठल को पंढरपुर लाने का श्रेय दिया जाता है, जहां विठ्ठल का प्रमुख मन्दिर है। पुंडलिक को वारकरी संप्रदाय का ऐतिहासिक संस्थापक भी माना जाता है, जो भगवान विट्ठल की पूजा करते हैं।

पुंडलिक

पंढरपुर में पुंडलिक मन्दिर
जन्म अज्ञात
मृत्यु अज्ञात
दर्शन वारकरी
खिताब/सम्मान भगवान विट्ठल के उपाख्यानों में केंद्रीय पात्र
धर्म [सनातन धर्म (हिन्दू)]
दर्शन वारकरी

ऐतिहासिकतासंपादित करें

पुंडलिक को सामान्यतः एक ऐतिहासिक व्यक्ति माना जाता है, जो कि वारकरी संप्रदाय की स्थापना और प्रचार के साथ जुड़ा हुआ है।[1] इतिहासकार रामकृष्ण गोपाल भांडारकर मानते हैं कि पुंडलिक वारकरी पंथ के संस्थापक और मराठा राज्य में इस पंथ के प्रवर्तक रहे हैं।[2]

आख्यानसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Sand (1990) p. 35
  2. Bhandarkar (1995) pp. 125–26

ग्रन्थसूचीसंपादित करें

  • Bhandarkar, Ramakrishna Gopal (1995) [1913]. Vaiṣṇavism, Śaivism, and Minor Religious Systems. Asian Educational Services. पपृ॰ 124–27. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-206-0122-X.
  • Bakker, Hans (1990). The History of Sacred Places in India as Reflected in Traditional Literature. BRILL. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 90-04-09318-4. अभिगमन तिथि 2008-09-20.
  • Pande, Dr Suruchi (September 2008). "The Vithoba of Pandharpur" (pdf). Prabuddha Bharata. Advaita Ashrama: the Ramakrishna Order started by Swami Vivekananda. 113 (9): 504–8. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0032-6178. अभिगमन तिथि 2008-10-29.
  • Raeside, I. M. P. (1965). "The "Pāṇḍuranga-Māhātmya" of Śrīdhar". Bulletin of the School of Oriental and African Studies. Cambridge University Press on behalf of School of Oriental and African Studies, University of London. 28 (1): 81–100. JSTOR 611710. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0041-977X. डीओआइ:10.1017/S0041977X00056779.
  • Ranade, Ramchandra Dattatraya (1933). INDIAN MYSTICISM: Mysticism in Maharashtra (PDF). History of Indian Philosophy. 7. Aryabhushan Press.
  • Sand, Erick Reenberg (1990). "The Legend of Puṇḍarīka: The Founder of Pandharpur". प्रकाशित Bakker, Hans (संपा॰). The History of Sacred Places in India as Reflected in Traditional Literature. Leiden: E. J. Brill. पपृ॰ 33–61. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 90-04-09318-4.
  • Stevenson, Rev. J (1843). "On the Intermixture of Buddhism with Brahmanism in the religion of the Hindus of the Dekhan". The Journal of the Royal Asiatic Society of Great Britain and Ireland. London: periodical Royal Asiatic Society of Great Britain and Ireland. 7: 1–8. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 1356-1863. डीओआइ:10.1017/s0035869x00155625. अभिगमन तिथि 2008-11-04.