पॉप अप विज्ञापन इंटरनेट उपयोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए बनाये गए ऑनलाइन विज्ञापन का एक तरीका है। कई बार उपयोक्ताओं के द्वारा वांछित जालस्थल खुलने के साथ ही एक विज्ञापन विंडो भी खुलती है, उसे ही पॉपअप कहते हैं।[2] कई बार विज्ञापनों के अलावा वेबपेज पर माउस के कहीं और क्लिक करने से भी पॉपअप आ जाते हैं।[3] इंटरनेट पर इन विज्ञापनों की प्रोग्रामिंग जावास्क्रिप्ट के द्वारा की जाती है।[4] कई बार किसी वेबसाइट पर जाते हुए इतने अधिक पॉप अप्स खुल जाते हैं, कि काम करना मुश्किल हो जाता है।[1] कुछ पॉप-अप काम के होते हैं, जैसे यदि किसी चित्र पर क्लिक करते हैं उसका बड़ा रूप देखने के लिए, तो वह पॉप-अप विंडो में खुल सकता है, या कोई सूचना प्रारूप भी किसी दूसरी पॉप अप विंडो में खुल सकता है। वहीं कुछ पॉप-अप विंडो में अनुपयुक्त सामग्री भी हो सकती है या अनचाहे ही कंप्यूटर पर कुछ खतरनाक सॉफ़्टवेयरों (जिन्हे स्पाईवेयर या ऐडवेयर कहा जाता है) को डाउनलोड करने के लिए मार्ग बन सकती हैं।[5] ये पॉपअप विंडो कई प्रकार की होती हैं।

  • जनरल ब्राउजर पॉप-अप
चित्र:Pop-up ads.jpg
कई बार दर्जनों पॉप अप विंडोज़ डेस्कटॉप को घेर कर गति धीमी कर देती हैं[1]

जनरल ब्राउजर पॉप-अप साधारण पॉप-अप होते हैं, जो किसी जालस्थल के खुलने के साथ ही खुल जाते हैं और कई बार तो इनकी संख्या इतनी अधिक हो जाती है कि साइट पर कुछ पढ़ना भी मुश्किल हो जाता है। साथ ही रैम पर भी अतिरिक्त स्थान घेरते हैं।

  • स्पाइवेयर पॉपअप

स्पाइवेयर पॉपअप खतरनाक पॉप अप होते हैं, जो किसी सीडी या इंटरनेट आदि द्वारा कोई सॉफ्टवेयर स्थापित करते समय कंप्यूटर में आ जाते हैं। ये स्पाईवेयर वायरस इतने खतरनाक होते हैं कि कभी-कभी इनके माध्यम से कंप्यूटर के आवश्यक डाटा तक चुरा लिए जा सकते हैं। इसके साथ ही इनके माध्यम से किसी कंप्यूटर की इंटरनेट प्रयोग पर भी नजर रखी जा सकती है। इसके अलावा यह कंप्यूटर की हार्ड ड्राइव की काफी जगह भी घेरते हैं। इस तरह ये कंप्यूटर की गति भी धीमी कर देते हैं।[3]

कई वेब ब्राउजर होते हैं जिनमें पॉपअप विंडोज़ को ब्लॉक करने का विकल्प दिया होता है।[6] फायरफॉक्स एक्स्प्लोरर में जनरल ब्राउजर पॉपअप को ब्लॉक करने के लिए, टूल मेन्यु खोलने करने के बाद ऑप्शन में जाकर, कंटेंट में ब्लॉक अप विंडोज कर सकते हैं। माइक्रोसॉफ्ट विंडोज इंटरनेट एक्सप्लोरर में टूल मेन्यु में पॉप ब्लॉकर में टर्न ऑन पॉपअप ब्लॉकर पर क्लिक करें। ओपेरा पहला ब्राउजर था, जिसने पॉपअप ब्लॉक करने का विकल्प दिया था।[3]

इसके अलावा गूगल टूलबार स्थापित होने पर उसमें भी पॉप ब्लॉकर उपलब्ध होता है।[7]

सन्दर्भ

  1. टाइम्ज़ ऑफ इंडिया के पॉप-अप Archived 2010-11-25 at the Wayback Machine। इधर उधर की।(हिन्दी)१२ मई, २००९। रमण कौल
  2. आउटलुक लाइव में पॉप-अप अवरोधक Archived 2016-03-08 at the Wayback Machine। माइक्रोसॉफ्ट।(हिन्दी)
  3. पॉप अप विज्ञापन Archived 2015-05-09 at the Wayback Machine। हिन्दुस्तान लाइव।(हिन्दी)१८ अक्टूबर, २००९
  4. अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर पॉप अप ऐड लेख
  5. SP2 सुविधाओं का कैसे उपयोग करें। माइक्रोसॉफ्ट सपोर्ट।(हिन्दी)
  6. इंटरनेट के विविध जोखिम टालने के टिप्‍स्..[मृत कड़ियाँ]। इन्फॉर्मेशन सिक्योरिटी अवेअरनेस।(हिन्दी)
  7. टूलबार सुविधाएँ: पॉप-अप अवरोधक की मूल बातें। गूगल टूलबार वेबसाइट

बाहरी कड़ियाँ