मुख्य मेनू खोलें

प्रकाश झा (जन्म : २७ फ़रवरी १९५२, चंपारण बिहार, भारत) एक हिन्दी फ़िल्मकार है।[1] फ़िल्में : बन्दिश, मृत्युदंड, राजनीति, अपहरण, दामूल, गंगाजल, टर्निंग 30 आदि (सभी हिन्दी) एक भारतीय हिंदी फिल्म के निर्माता निर्देशक, चलचित्र के कथा लिखनेवाला, प्रकाश झा ऐसे फिल्मकार हैं, जो फिल्मों के माध्यम से सामाजिक-राजनीतिक बदलाव की उम्मीदें लेकर हर बार बॉक्स ऑफिस पर हाजिर होते हैं। उनके साहस और प्रयासों की इस मायने में प्रशंसा की जाना चाहिए कि सिनेमा की ताकत का वे सही इस्तेमाल करते हैं अपनी ‍पहली फिल्म ‘दामुल’ के जरिये गाँव की पंचायत, जमींदारी, स्वर्ण तथा दलित संघर्ष की नब्ज को उन्होंने छुआ है। इसके बाद सामाजिक सरोकार की फिल्में बनाईं। बाद में मृत्युदण्ड, गंगाजल, अपहरण और अब राजनीति (2010 फ़िल्म) लेकर मैदान में उतरे हैं। अपने बलबूते पर उन्होंने आम चुनाव में उम्मीदवार बनकर हिस्सा लिया है। ये बात और है कि वे हर बार हार गए। भ्रष्ट व्यवस्था तथा राजनीति की सड़ांध का वे अपने स्तर पर विरोध करते हैं। यही विरोध उनकी फिल्मों में जीता-जागता सामने आता है। मृत्युदंड से लेकर अपहरण तक उनकी फिल्मों को दर्शकों ने दिलचस्पी के साथ देखा और सराहा है।

प्रकाश झा
Prakash Jha at the special screening of 'Bol Bachchan' 08.jpg
जन्म 27 फ़रवरी 1952 (1952-02-27) (आयु 67)
चंपारण बिहार, भारत
व्यवसाय निर्देशक, पटकथा लेखक

व्यक्तिगत जीवनसंपादित करें

प्रमुख फिल्मेंसंपादित करें

बतौर लेखकसंपादित करें

वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
2003 गंगाजल

बतौर अभिनेतासंपादित करें

वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
2016 जय गंगाजल

बतौर निर्देशकसंपादित करें

वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
2011 आरक्षण
2010 राजनीति
2005 अपहरण
2003 गंगाजल
1999 दिल क्या करे
1997 मृत्युदंड
1996 बंदिश
2013 सत्याग्रह

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. रेखा ख़ान (२५ अक्टूबर २०१२). "प्रकाश झा को 100 करोड़ कमाने की चाहत". बीबीसी हिन्दी. अभिगमन तिथि ९ मार्च २०१३.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें