भुज

भारत के गुजरात राज्य का एक नगर

भुज (Bhuj) भारत के गुजरात राज्य के कच्छ ज़िले में स्थित एक नगर है। यह ज़िले का मुख्यालय भी है।[1][2][3]

भुज
Bhuj
ભુજ
भुज की गुजरात के मानचित्र पर अवस्थिति
भुज
भुज
गुजरात में स्थिति
निर्देशांक: 23°15′N 69°40′E / 23.25°N 69.67°E / 23.25; 69.67निर्देशांक: 23°15′N 69°40′E / 23.25°N 69.67°E / 23.25; 69.67
ज़िलाकच्छ ज़िला
प्रान्तगुजरात
देशFlag of India.svg भारत
जनसंख्या (2011)
 • कुल2,13,514
भाषा
 • प्रचलित भाषाएँकच्छी, गुजराती
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
हमीरसर झील
छतेड़ी से भुजिया पहाड़
भुज की छतेड़ी
खारी नदी

विवरणसंपादित करें

भुज शहर की स्थापना 1548 में राव खेंगारजी ने की थी। राव लखपतिजी के शासनकाल में निर्मित आइना महल स्थापत्य कला का एक सुंदर नमूना है, जिसे अब संग्रहालय में बदल दिया गया है। २००१ में इस इलाके में भयंकर भूकंप आया था।

जनसंख्यासंपादित करें

1991 की जनगणना के अनुसार भुज शहर की जनसंख्या 1,02,176 है। 2001 की जनगणना के अनुसार भुज की जनसख्या 136,429 है।

भूगोलसंपादित करें

भुज की समुंद्र तल से ऊंचाई ११० मीटर है। भुज के पूर्व दिशा में एक हिल स्टेशन है जिसका नाम भुजियो डूगर् है। यहाँ पर भुजिया का किला भी है जो भुज को मधेपुर कस्बे से अलग करता है। यहाँ पर हमीरसार नामक एक झील भी है। पुराना शहर ५ दरवाज़ो से घिरा हुआ है।

उद्योग और व्यापारसंपादित करें

भुज गेहूँ, कपास, नमक और मवेशियों का व्यापारिक केंद्र है। ठप्पे की छपाई का कपड़ा, बंधेज, चाँदी का सामान और कढ़ाई वाले वस्त्रों के अलावा यह कच्छी हस्तशिल्प के लिए भी प्रसिद्ध है। भुज में देश का पहला बड़े पैमाने का सौर तालाब है।

परिवहनसंपादित करें

भुज शहर सड़क, रेल और हवाई मार्ग द्वारा अन्य शहरों से जुड़ा हुआ है। भुज ट्रेन के द्वारा दिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद जैसे महानगरों से जुड़ा हुआ है। भुज का अपना हवाई अड्डा भी है जहाँ पर रोजाना मुंबई से हवाई जहाज़ आते हैं। बस स्टैंड से राज्य परिवहन निगम की बस भी मिलती है।

शिक्षासंपादित करें

अल्फ़्रेड हाइ स्कूल कॅच में १८७० में स्थापित किया गया था जो यहाँ का पहला स्कूल है। भुज यूनिवर्सिटी के अंतर्गत २८ कॉलेज आते हैं जिनमे से ७ भुज के अंदर ही है। भुज शहर में राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज, रामजी रावजी ललन महाविद्यालय और श्री जे. बी ठक्कर कॉमर्स महाविद्यालय समेत कई महाविद्यालय हैं।

संस्कृतिसंपादित करें

भुज हथकरघा के कामो के लिए जाना जाता है। पास के गांवों के कलाकार अपने हाथों से निर्मत वस्तुए भुज में बेचने के लिए लाते हैं।

भुज तालुकासंपादित करें

मेघपुर, माधापर, कुक्मा, नागोर, धानेती, हजपर, रहा, जम्बूदी, सुखपर, मिर्जापुर, मानकुवा, भारासर, बलदिया, कोडकी आंड खावडा, संतरा, देसलपर, सूरजपुर, नारनपुर, केरा, रामपुर (वेकरा) , डायसरा, मिर्जापुर, मानकुवा आदि गांवों भुज ताल्लुका के अंतर्गत आते हैं।

भुज पर साहित्यसंपादित करें

द भुज स्टोरी - आफ्टर द क्वेक (२००५) यह किताब २००१ के भूकंप से जुड़ी हुई सच्ची घटनाओं और अनुभवों पर आधारित है। इस किताब के लेखक रिशि मोहन सनवाल है, जो भूकंप के समय भारतीय प्रबंधन संस्थान अहमदाबाद में अध्य्यनरत थे। इसे प्रकाशित भारत सरकार के प्रकाशन विभाग ने किया है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Gujarat, Part 3," People of India: State series, Rajendra Behari Lal, Anthropological Survey of India, Popular Prakashan, 2003, ISBN 9788179911068
  2. "Dynamics of Development in Gujarat," Indira Hirway, S. P. Kashyap, Amita Shah, Centre for Development Alternatives, Concept Publishing Company, 2002, ISBN 9788170229681
  3. "India Guide Gujarat," Anjali H. Desai, Vivek Khadpekar, India Guide Publications, 2007, ISBN 9780978951702