भूमध्य द्रोणी - भूमध्य सागर के छोरों पर स्थित वह क्षेत्र जहाँ ज़ैतून उगता है (हरे में)[1]

जैवभूगोल में भूमध्य द्रोणी (Mediterranean Basin) भूमध्य सागर के छोरों पर स्थित वह भूमीय क्षेत्र हैं जहाँ भूमध्य मौसम रहता है, यानि हलकी ठंड व वर्षा वाली शीतऋतु और मध्यम गरमी वाली व शुष्क ग्रीष्मऋतु। इसमें भूमध्यीय वन, वनित क्षेत्र और क्षुप वनस्पति मिलते हैं। कुछ विवरणों के अनुसार यह पूर्वजगत के वह इलाक़ें हैं जहाँ प्राकृतिक रूप से ज़ैतून (ऑलिव) के वृक्ष उगते थे। ध्यान दें कि इस परिभाषा के अनुसार भूमध्य सागर के तटवर्ती सभी क्षेत्र भूमध्य द्रोणी में शामिल नहीं माने जाएँगे।[2]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Oteros Jose (2014) Modelización del ciclo fenológico reproductor del olivo (Tesis Doctoral). Universidad de Córdoba, Córdoba, España Link Archived 27 अगस्त 2016 at the वेबैक मशीन.
  2. Ad Hoc Urban Sprawl in the Mediterranean City: Dispersing a Compact Tradition? at Google Books