भूमध्य सागर (Mediterranean sea) अटलांटिक महासागर से संयोजित एक सागर है, भूमध्य बेसिन से घिरा हुआ है और लगभग पूरी तरह से ज़मीन से घिरा: उत्तर में पश्चिमी यूरोप, दक्षिणी यूरोप और अनातोलिया, दक्षिण में उत्तरी अफ्रीका और पूर्व में लेवंट द्वारा। है। इसका क्षेत्रफल लगभग 2,500,000 km2 (970,000 वर्ग मिल) है, जो भारत के क्षेत्रफल का लगभग 75 फ़ीसदी है। भूमध्य सागर वैश्विक महासागरीय सतह के 0.7% का प्रतिनिधित्व करता है, लेकिन इसका संबंध जिब्राल्टर जलडमरूमध्य के माध्यम से अटलांटिक महासागर के साथ होता है। जिब्राल्टर जलडमरूमध्य संकीर्ण जलडमरूमध्य जो अटलांटिक महासागर को भूमध्य सागर से जोड़ता है और यूरोप के देश स्पेन को अफ्रीका के देश मोरक्को से अलग करता है जो केवल 14 किमी (9 मील) चौड़ा है।

भूमध्य सागर
Mediterranee 02 EN.jpg
भूमध्य सागर का नक्शा
स्थानपश्चिमी यूरोप, दक्षिणी यूरोप, उत्तरी अफ्रीका and पश्चिमी एशिया
निर्देशांक35°N 18°E / 35°N 18°E / 35; 18निर्देशांक: 35°N 18°E / 35°N 18°E / 35; 18
प्रकारसमुद्र
मुख्य अन्तर्वाहअटलांटिक महासागर, मरमरा सागर, नील नदी, एब्रो नदी, रोन नदी, शल्फ नदी, पो नदी
द्रोणी देश
सतही क्षेत्रफल2,500,000 कि॰मी2 (970,000 वर्ग मील)
औसत गहराई1,500 मी॰ (4,900 फीट)
अधिकतम गहराई5,267 मी॰ (17,280 फीट)
जल आयतन3,750,000 कि॰मी3 (900,000 घन मील)
अस्तित्व काल80–100 years[1]
द्वीप3300+
बस्तियाँसिकन्दरिया, बार्सिलोना, अल्जीयर्स, इज़मिर, रोम, एथेंस, बेयरूत, त्रिपोली (लेबनान), तूनिस, तन्जा, तेल अविव

परिचयसंपादित करें

इस सागर में अनेक द्वीप हैं, जिनमें पूर्व से पश्चिम साइप्रस, रोड्ज, क्रीट, कार्फू, मॉल्टा, सिसिली, सार्डिनिया, कॉर्सिका और बैलिएरिक द्वीप प्रमुख हैं। इसमें द्वीपों एवं प्रायद्वीपों के मध्य भिन्न भिन्न नाम के सागर साथ हैं जैसे सार्डिनिया और इटली के मध्य टिरहेनियन सागर, इटली एवं बॉल्कन प्रायद्वीप के मध्य ऐड्रिऐटिक सागर एवं यूनान तथा तुर्की के मध्य इजिऐन सागर। इसी प्रकार इसमें कई खड़ियाँ भी हैं।

इस सागर की उत्पत्ति तृतीय महाकल्प (Tertiary era) में हुई थी, जबकि दक्षिण यूरोप की नवीन पर्वतश्रेणियों का निर्माण हुआ। इस कारण समुद्रतटीय भागों में भूकंप आया करते हैं। ज्वालामुखी पर्वतों की पेटी पूर्व से पश्चिम को चली गई है। सागर के पश्चिम का जल पूर्व के जल से कुछ ठंडा तथा स्वच्छ रहता है, एवं पूर्व का जल पश्चिम की अपेक्षा अधिक क्षारीय है। पश्चिमी भाग के जल की सतह का ऊपरी ताप लगभग ११.७ डिग्री सें० तथा पूर्वी भाग के जल की सतह का ताप फरवरी में १७ डिग्री सें० से अगस्त में लगभग २७ डिग्री सें० के बीच रहता हैं। काला सागर के मीठे पानी के कारण निकटवर्ती समुद्र का खारापन कम है। इसमें गिरने वाली नदियों में एब्रों, रोन, सोन, डूरांस, आर्नो, टाइबर, बेल्टूर्नी, पो, वारडार, स्ट्रूमा एवं नील आदि प्रमुख हैं। इसके समीपवर्ती भागों में लंब, गरम, शुष्क तथा स्वच्छ गरमियाँ एवं छोटी, ठंडी तथा नम सर्दियाँ रहती हैं। यद्यपि भूमध्यसागर प्राचीन काल से ही व्यापारिक महत्व का रहा है, तथापि १८६८ ई० में स्वेज नहर के खुल जाने के कारण यह एक महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय व्यापारिक मार्ग बन गया है।

नामकरणसंपादित करें

 
वदज-उर, या वदज-वेर, भूमध्य सागर के प्राचीन मिस्री नाम थे।
 
अपनी अत्यधिक टेढ़े मेढ़े दांतेदार समुद्र तट और बड़ी संख्या में द्वीपों के साथ, यूनान सबसे लंबी भूमध्यसागरीय तट रेखा बनाता है।

प्राचीन मिस्रवासी भूमध्यसागरीय को वदज-वर/वदज-वेर/वदज-उर कहते हैं। यह शब्द (शाब्दिक रूप से "बहुत हरा") प्राचीन मिस्रवासियों द्वारा अर्ध-ठोस, अर्ध-जलीय क्षेत्र को दिया गया नाम था, जो कि नील नदी के डेल्टा के उत्तर में पपीरस जंगलों विस्तार से समुद्र से परे होने वाले क्षेत्र की विशेषता थी। [2]

प्राचीन यूनानियों ने भूमध्यसागरीय को केवल ἡ ασσα (hē thálassa; "सागर") या कभी-कभी μεγάλη ασσα (hē megalē thálassa; "महान सागर"), μετέρα θάλασσα (hē hēmetérā thálassa; "हमारा सागर") या ασσα. αθ'ἡμᾶς (hē thálass hē kath'hēmâs; "हमारे चारों ओर का समुद्र") कहा था।

रोमनों ने इसे मारे मैग्नम ("ग्रेट सी") या मारे इंटर्नम ("आंतरिक सागर") कहा, और रोमन साम्राज्य के प्रारंभिक काल में इसे मारे नोस्ट्रम ("हमारा सागर") कहा गया। शब्द मारे मेडिटेरेनियम बाद में प्रकट होता है: सोलिनस ने जाहिरी तौर पर तीसरी शताब्दी में इसका इस्तेमाल किया था, लेकिन इसका सबसे पुराना गवाह 6 वीं शताब्दी में सेविले के इसिडोर में है।[3][4]

लैटिन में इसका अर्थ है 'भूमि के बीच में या अंतर्देशीय' , medius ("मध्य"), terra ("भूमि, पृथ्वी"), और -āneus ("की प्रकृति वाले") वाला एक क्षेत्र।यह लैटिन शब्द यूनानी शब्दावली से लिए गए μεσόγειος (mesógeios; "अंतर्देशीय"), μcal (mésos, "बीच में") और γήινος (gḗinos, "पृथ्वी का"), (gê, "भूमि, पृथ्वी" से) शब्द हैं जिनका मूल अर्थ 'पृथ्वी के बीच में समुद्र' हो सकता है, न कि 'भूमि से घिरा समुद्र'।

प्राचीन ईरानियों ने इसे "रोमन सागर" कहा, क्लासिक फ़ारसी ग्रंथों में दरिया-ए-रुम (دریای روم) कहा जाता था, जो मध्य फ़ारसी से बना ज़रिह ए हरम (𐭦𐭫𐭩𐭤 ) का रूप एक हो सकता है।[5]

आधुनिक अरबी भाषा में, इसे 'अल-बैर [अल-अबैद] अल-मुतवासी' ([श्वेत] मध्य सागर) के रूप में जाना जाता है। इस्लामी और पुराने अरबी साहित्य में, यह बैर अल-रूम(ई) (बहर अल-रम या बह्र अल-रूमी) 'रोमनों का सागर' या 'रोमन सागर' था।[6][4]

इतिहाससंपादित करें

प्राचीन सभ्यताएँसंपादित करें

 
ग्रीक (लाल) और फोनीशियन (पीला) प्राचीन काल में उपनिवेश,समय छठी शताब्दी ई.पू
 
रोमन साम्राज्य 117 ई. में अपनी सबसे दूरतम सीमा पर

कई प्राचीन सभ्यताएँ भूमध्यसागरीय तटों के आसपास स्थित थीं और समुद्र से उनकी निकटता से बहुत प्रभावित थीं। भूमध्य सागर ने व्यापार, उपनिवेश और युद्ध के लिए मार्ग प्रदान किए साथ ही भूमध्य सागर ने पूरे सभ्यता काल में कई समुदायों के लिए भोजन (मछली पकड़ने और अन्य समुद्री भोजन के संग्रह) प्रदान किया।[7]

एक ही जलवायु, भूविज्ञान और समुद्र तक पहुंच के कारण, भूमध्यसागरीय पर केंद्रित संस्कृतियों में कुछ हद तक आपस में जुड़ी संस्कृति और इतिहास की प्रवृत्ति मिली झूली थी।

शास्त्रीय पुरातनता में सबसे उल्लेखनीय भूमध्यसागरीय सभ्यताओं में से दो यूनान के नगर-राज्य और फ़ोनीशिया थे, जिनमें से दोनों ने भूमध्यसागरीय तटरेखाओं को बड़े पैमाने पर उपनिवेशित किया था। बाद में, जब ऑगस्टस ने रोमन साम्राज्य की स्थापना की तब रोमनों ने भूमध्य सागर को मारे नोस्ट्रम ("हमारा सागर") के रूप में संदर्भित किया। अगले 400 वर्षों के लिए, रोमन साम्राज्य ने भूमध्य सागर और जिब्राल्टर से लेवेंट तक के लगभग सभी तटीय क्षेत्रों को पूरी तरह से नियंत्रित किया।

प्राचीन मिस्र पर विजय प्राप्त करने वाले फारस के डेरियस प्रथम ने भूमध्य सागर को लाल सागर से जोड़ने वाली एक नहर का निर्माण किया। डेरियस की नहर इतनी चौड़ी थी कि दो पतवार नौकाऐं एक-दूसरे को चप्पूओं के साथ पार कर सकते थे, और इसे पार करने के लिए चार दिनों की आवश्यकता होती थी।[8]

मध्य युग और उसके साम्राज्यसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Pinet, Paul R. (2008). Invitation to Oceanography. Paleoceanography. 30. Jones & Barlett Learning. पृ॰ 220. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7637-5993-3.
  2. Golvin, Jean-Claude (1991). L'Égypte restituée, Tome 3. Paris: Éditions Errance. पृ॰ 273. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 2-87772-148-5.
  3. Geoffrey Rickman, "The creation of Mare Nostrum: 300 BC – 500 AD", in David Abulafia, ed., The Mediterranean in History, साँचा:Isbn, 2011, p. 133.
  4. Vaso Seirinidou, "The Mediterranean" in Diana Mishkova, Balázs Trencsényi, European Regions and Boundaries: A Conceptual History, series European Conceptual History 3, साँचा:Isbn, 2017, p. 80
  5. Dehkhoda, Ali Akbar. ""دریای روم" entry". Parsi Wiki.
  6. "Baḥr al-Rūm" in Encyclopedia of Islam, 2nd ed
  7. David Abulafia (2011). The Great Sea: A Human History of the Mediterranean. Oxford University Press.
  8. Rappoport, S. (Doctor of Philosophy, Basel). History of Egypt (undated, early 20th century), Volume 12, Part B, Chapter V: "The Waterways of Egypt", pp. 248–257 (online). London: The Grolier Society.