मसाई दक्षिणी केन्या और उत्तरी तंजानिया में निवास कर रहे अर्द्ध-खानाबदोश लोगों का एक नीलोटिक जातीय समूह हैं। वह महान अफ्रीकी झीलों के कई खेल पार्क के पास निवास करने और विशिष्ट रीति-रीवाज और पोशाक के कारण सबसे अच्छी ज्ञात स्थानीय आबादी हैं। वह नीलो-साहरन भाषा समूह की मां भाषा बोलते हैं। वह केन्या और तंजानिया की आधिकारिक भाषाओं, स्वाहिली और अंग्रेजी में भी शिक्षित है। केंन्या में मसाई जनसंख्या 2009 की जनगणना के अनुसार 8,41,622 है, जो 1989 की जनगणना में 3,77,089 थी।

मसाई
Bandera masai.svg
मसाई जातीय ध्वज
Mara-Young-Men-Jumping-2012.JPG
मसाई योद्धा अपना पारंपरिक खेल खेलते हुए
कुल जनसंख्या
ख़ास आवास क्षेत्र
Flag of Kenya.svg केन्या 841,622 (2009) [1]
Flag of Tanzania.svg तंजानिया 430,000 (1993) [2]
भाषाएँ
मसाई भाषा (मां)
धर्म
पारंपरिक अफ्रीकी धर्म, ईसाई धर्म
अन्य सम्बंधित समूह
अन्य निलोत जनजातियाँ

इतिहाससंपादित करें

मसाई निलोत जनजाति है। वे महान अफ्रीकी झीलों के आसपास निवास करते हैं। निलोत लोग नीलो-साहरन भाषा समूह की भाषायें बोलते हैं और पूर्वी अफ्रीका में दक्षिण सूडान के रास्ते से आयें हैं। ज़्यादातर निलोत लोग, मसाई लोग सहित अपने मवेशियों के चरवाहे हैं और योद्धाओं के रूप में वो अपनी भयानक प्रतिष्ठा के लिए प्रसिद्ध हैं। बांटू लोगों की तरह पूर्वी अफ्रीका के मसाई और ज़्यादातर निलोत लोगों ने अपने पड़ोसियों के कई रिवाजों और प्रथाओं को अपना लिया है।

अपने स्वयं के मौखिक इतिहास के अनुसार, मसाई तुर्काना झील (उत्तर पश्चिमी केन्या) के उत्तर में निचली नील घाटी से उत्पन्न हुए और 15 वीं सदी के आसपास दक्षिण पलायन शुरू किया। 17 वीं और 18 वीं सदी में वो उत्तरी केन्या और केंद्रीय तंजानिया के खुले मैदान में पहुँचे। पहले से ही इस क्षेत्र में बसे लोगो को मसाई ने बलपूर्वक विस्थापित कर दिया और जबकि बाकियों को आत्मसात कर लिया।

संस्कृतिसंपादित करें

 
ghatiya ldki

Mसाई का समाज पितृसत्तात्मक हैं, बड़े आदमियों के साथ love, कभी कभी सेवानिवृत्त हो चुके बड़े पुरुष प्रत्येक मसाई समूह के लिए सबसे प्रमुख मामलों के निर्णय लेते हैं।[3] मसाई एकेश्वरवादी हैं, एन्गई नामक देवता की पूजा करते है। मसाई धार्मिक प्रणाली में केंद्रीय मानव आकृति लैबोन है जिसकी भूमिकाओं में शामिल हैं: ओझा चिकित्सा, अटकल और भविष्यवाणी, और युद्ध में सफलता सुनिश्चित करना या पर्याप्त बारिश करवाना। कई मसाई ने ईसाई धर्म भी अपनाया लिया है।[4]

पारंपरिक मसाई जीवन शैली में अपने प्राथमिक स्रोत के तौर पर भोजन जमा करना है जो अपने मवेशियों के आसपास केंद्रित है। एक आदमी का धन और सम्मान उसके पशु और बच्चों के संदर्भ में मापा जाता है। 50 मवेशियों का झुंड सम्मानजनक है, और अधिक बच्चों हो तो बेहतर। एक आदमी के पास एक चीज़ हो और दूसरी नहीं तो उसे ग़रीब समझा जाता है।

मसाई संस्कृति में कान पालि को छेदना और खीचना आम बात है। विभिन्न सामग्री पालियों को बेंधने और खीचने के लिये इस्तेमाल की जाती हैं; कांटे, टहनियाँ, टहनियों के बंडल, पत्थर, हाथी दाँत। कम और कम मसाई, विशेष रूप से लड़के, इस रिवाज का पालन करते है। महिला दोनों कान पालि में विभिन्न रूपों के मनके गहने पहनती है और कान के शीर्ष पर छोटे भेदी।[5]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. 2009 Population & Housing Census Results
  2. Ethnologue report for language code:mas ethnologue.com, '453,000 in Kenya (1994 I. Larsen BTL) ... 430,000 in Tanzania (1993)', Gordon, Raymond G., Jr. (ed.), 2005. Ethnologue: Languages of the World, Fifteenth edition. Dallas, Tex.: SIL International
  3. "कीनियाः दुनिया की पहली महिला मसाई लड़ाका". बीबीसी हिन्दी. 1 नवंबर 2013. मूल से 19 अप्रैल 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 सितम्बर 2014.
  4. खुल्लर, डी.आर. भूगोल. टाटा मैकग्रा - हिल एज्युकेशन. पृ॰ 9.19-9.20.
  5. "मसाई लोगों के देश में". बीबीसी हिन्दी. 7 फरवरी 2005. मूल से 10 फ़रवरी 2005 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 सितम्बर 2014.

साँचा:वmश्व की जनजातियां