मुख्य मेनू खोलें

महाप्रजापती गौतमी एक महान भिक्खूणी है जिन्होंने अर्हत पद प्राप्त किया है। भिक्खूणी बनने वाली वह पहली महालाओं में से एक है। बुद्ध का गौतम नाम गौतमी के नाम से पडा है ऐसा भी माना जाता है।

महाप्रजापती गौतमी
Prince Siddhartha with his maternal aunt Queen Mahaprajapati Gotami.JPG
राजकुमार सिद्धार्थ (गौतम बुद्ध) के साथ माता महाराणी महाप्रजापती गौतमी
धर्म बौद्ध धर्म
व्यक्तिगत विशिष्ठियाँ
राष्ट्रीयता भारतीय
जीवनसाथी शुद्धोधन
बच्चे नंद
धार्मिक जीवनकाल
गुरु गौतम बुद्ध

बौद्ध धर्म के संघ में महिलाओं के लिए प्रवेश वर्जित था, गौतमी ने सीधे गौतम बुद्ध से अनुरोध किया, और पहले भिक्खूओं के संघ में महालाओं को या भिक्खूनी वर्ग को बुद्ध द्वारा मान्यता मिली। यशोधरा और अन्य महालाओं के साथ महाप्रजापती गौतमी ने बौद्ध संघ में प्रवेश किया और भिक्खूनीयां बनी।

महामाया और महाप्रजापती गौतमी कोलिय राज्य की राजकुमारीयां और सगी बहनें थी। गौतमी बुद्ध की मौसी और दत्तक मां दोनों थी, उनकी बहन महामाया का बुद्ध को जन्म के बाद निर्वाण हो गया। महाप्रजापती गौतमी का 120 वर्ष की आयु में महापरिनिर्वाण हो गया था।

"महाप्रजापती गौतमी और उनकी पांच सौ भिक्खूनी साथियों के निर्वाण की कहानी लोकप्रिय और व्यापक रूप से फैली है और एकाधिक संस्करणों में ही अस्तित्व में थी।" यह विभिन्न जीवित विनय परंपराओं में दर्ज की गई है पाली के सिद्धांतों और Sarvastivada और Mulasarvastivada संस्करणों सहित।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें