मुख्य मेनू खोलें

मेजर साब 1998 में बनी हिन्दी भाषा की एक्शन फिल्म है। इसमें अमिताभ बच्चन, अजय देवगन, सोनाली बेंद्रे और आशीष विद्यार्थी मुख्य भूमिकाओं में हैं। अमिताभ बच्चन इस फिल्म के निर्माता भी है। ये फिल्म सफल रही थी।[1] इसके गीत भी लोकप्रिय रहे थे।

मेजर साब
Major Saab poster.jpg
मेजर साब का पोस्टर
निर्देशक वीरिन्द्र राज आनन्द
निर्माता अमिताभ बच्चन
लेखक रोबिन भट्ट
संतोष सरोज
अभिनेता अमिताभ बच्चन,
अजय देवगन,
सोनाली बेंद्रे,
नफ़ीसा अली
संगीतकार आनन्द राज आनन्द
प्रदर्शन तिथि(याँ) 26 जून, 1998
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

मेजर जसबीर सिंह राणा (अमिताभ बच्चन) राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में कैडेटों को प्रशिक्षित करते हैं ताकि वो अधिकारी बन जाए। वीरेन्द्र प्रताप सिंह (अजय देवगन) भारत में एक अमीर, फिर भी लापरवाह जीवनशैली जीता है। जब उसके पिता गुजर जाते हैं, तो वह पूरी संपत्ति और धन का उत्तराधिकारी होने की उम्मीद करता है। लेकिन इच्छापत्र में एक शर्त के कारण ऐसा करने में वो असमर्थ है। उसे पारिवारिक परंपराओं के अनुसार सैन्य अकादमी में शामिल होना होगा और ऐसा करने में विफलता उसके विरासत के लिये दावे को निरस्त कर देगी। इसके बाद वीरेन्द्र सेना के सभी नियमों को तोड़ने के मकसद के साथ राष्ट्रीय अकादमी में शामिल होने का फैसला करता है ताकि उसे थोड़े समय के भीतर ही निष्कासित कर दिया जाए। उसके प्रशिक्षण अधिकारी मेजर जसबीर सिंह राणा हैं, जो खुद से वीरेन्द्र को किसी भी परिस्थिति में नहीं निकालने का प्रण लेते हैं। भले ही वीरेन्द्र दो बार भाग गया लेकिन उन्होंने उसे नहीं निकाला। वह बहुत कम जानता है कि मेजर साब सख्त अनुशासनात्मक है जो उसे सीधा करने और उसे एक सैनिक बनाने के लिए दृढ़ हैं। इस प्रकार दोनों के बीच युद्ध शुरू होता है। वीरेन्द्र की योजनाएं तब बदलती हैं जब इस बीच वो एक खूबसूरत लड़की निशा (सोनाली बेंद्रे) से प्यार करने लगता है। वो अपने गैंगस्टर भाई शंकर (आशीष विद्यार्थी) के साथ बहुत अमीर तरीके से रहती है। वीरेन्द्र ने प्रशिक्षण जारी रखने का फैसला किया ताकि वह निशा के नजदीक हो सकें। इस बीच वीरेन्द्र पर सेना से हथियार चुरा लेने का आरोप लगता है और वह अपना नाम साफ़ करने की कोशिश करता है। इस बीच शंकर के पास निशा के लिये अन्य योजनाएं हैं क्योंकि वह साथी गैंगस्टर परशुराम बिहारी के बेटे विकी से उसकी शादी कराना चाहते हैं। जब निशा ने विकी के साथ अपनी सगाई के दौरान खुले तौर पर वीरेन्द्र के लिए अपना प्यार घोषित किया, तो शंकर उसे माफ कर देता है और वीरेन्द्र को उसके भविष्य के दामाद के रूप में गले लगाता है। न तो निशा और न ही वीरेन्द्र जानते हैं कि शंकर की एक भयानक योजना है जो वीरेन्द्र को गंभीर रूप से घायल करेगी और विकलांग बना देगी। तब मेजर साब वीरेन्द्र को अपना प्यार पाने में मदद करते हैं और बिगड़ैल वीरेन्द्र को बेहतरीन और बहादुर सैनिक बनाते हैं।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

क्र॰शीर्षकगीतकारसंगीतकारगायकअवधि
1."अकेली ना बाजार जाया करो"आनन्द राज आनन्दआनन्द राज आनन्दउदित नारायण5:47
2."प्यार किया तो निभाना" (उल्लसित संस्करण)आनन्द राज आनन्दआनन्द राज आनन्दअनुराधा पौडवाल, उदित नारायण5:06
3."सोणा सोणा दिल मेरा सोणा"देव कोहलीआदेश श्रीवास्तवजसपिंदर नरूला, सोनू निगम, सुदेश भोंसले6:48
4."करना है करना है प्यार"देव कोहलीआनन्द राज आनन्दअलका याज्ञिक, आनन्द राज आनन्द4:48
5."तेरे प्यार में मैं मदहोश"देव कोहलीआनन्द राज आनन्दकुमार सानु4:37
6."दीवाना बन"आनन्द राज आनन्दआनन्द राज आनन्दसुदेश भोंसले3:16
7."प्यार किया तो निभाना" (दुखी संस्करण)आनन्द राज आनन्दआनन्द राज आनन्दअनुराधा पौडवाल, उदित नारायण3:01
8."नाम क्या है"देव कोहलीआनंद-मिलिंदअलका याज्ञिक, उदित नारायण5:36
9."लगा नज्जरिया का धक्का"देव कोहलीआनन्द राज आनन्दसाधना सरगम, विनोद राठोड़5:15

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "कैंसर से जूझ रहीं सोनाली बेंद्रे, न्यू यॉर्क में चल रहा इलाज-Navbharat Times". नवभारत टाइम्स. 4 जुलाई 2018. अभिगमन तिथि 1 अक्टूबर 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें