यूरोपीय संस्कृति में कई प्रकार की राष्ट्रीय संस्कृतियाँ शामिल हैं, जिन्होंने विभिन्न यूरोपीय राष्ट्र-राज्यों के निर्माण को प्रभावित किया। यूरोपीयसंघ द्वारा अपनाई गई यूरोपीय एकीकरण की प्रक्रिया राष्ट्रीय निष्ठा और राष्ट्रीय देशभक्ति के साथ सह-अस्तित्व में है।[1]

लंदन २०१६ में गर्व-मोर्चा मार्ग पर ब्रेक्सिट विरोधी संकेत वाला एक व्यक्ति। बैनर पर लिखा है, "प्रिय यूरोप। क्षमा करना हमने जनमत संग्रह में गलती कर दी। मैं समलैंगिक + यूरोपीय होने का गर्व महसूस करता रहूँगा।"

अखिल-यूरोपीय पहचान आमतौर पर राष्ट्रीय पहचान के साथ प्रतिस्पर्धा करती है। १९९९ के यूरोबैरोमीटर सर्वेक्षण से देखा गया है कि यूरोपीयसंघ में केवल ६% यूरोपीय होने को अपनी राष्ट्रीय पहचान मानते हैं।[2] यूरोपीयसंघ ने 'यूरोप' (अर्थात यूरोपीयसंघ) के साथ पहचान बढ़ाने के कुछ प्रयास किए हैं और कुछ यूरोपीय प्रतीकों को पेश किया है, लेकिन यह कभी भी राष्ट्र-राज्यों में राष्ट्रीय पहचान को बढ़ावा देने जैसा गहन नहीं था।

यूरोपीय देशभक्ति की उम्मीदेंसंपादित करें

चुकी यूरोपीयसंघ को आमतौर पर एक राष्ट्र के रूप में नहीं देखा जाता, इसलिए राष्ट्र-राज्यों की तुलना में इसकी देशभक्ति की उम्मीद नहीं की जा सकती है। कुछ लोग इसे एक लाभ के रूप में देखते हैं क्योंकि इसकी मदद से लोगों की यूरोपीयसंघ की ओर 'संवैधानिक देशभक्ति' (युर्गन हाबरमास द्वारा बनाया गया शब्द) होगी।[3]

परंतु द्वितीय विश्वयुद्ध की समाप्ति के बाद और १९५० के दशक में ऐसे लोग थे जो मानते थे कि 'यूरोप' अपनी खुद की देशभक्ति बना कर सकता है। उस समय जर्मनी के लोगों के मन में नाज़ी प्रचार की स्मृति अभी भी मजबूत थी, और यूरोपीय देशभक्ति को मुख्य रूप से राष्ट्रीय आक्रमण के विरोध के रूप में देखा जाता था। विंस्टन चर्चिल द्वारा युद्ध के बाद के दो भाषण उस समय के विचारों को स्पष्ट करते हैं, हालांकि चर्चिल ब्रिटिश अर्थ में "यूरोपीय" का उपयोग कर रहे थे - जिसका अर्थ महाद्वीपीय यूरोप है:

"एक यूरोपीय समूह क्यों नहीं होना चाहिए जो एक अधिक बड़ी देशभक्ति की भावना दे सके?"
ज्यूरिख में विंस्टन चर्चिल, १९ सितंबर १९४६
"हम एक ऐसे यूरोप को देखने की उम्मीद करते हैं जहां हर देश के पुरुष अपनी जन्मभूमि से संबंधित यूरोपीय होने के बारे में ज्यादा सोचेंगे, और अपने जन्मस्थान के प्रति अपने प्यार और वफादारी को खोए बिना। हम आशा करते हैं कि वे इस विस्तृत क्षेत्र में जहां कहीं भी जाएंगे, जहां हम यूरोपीय महाद्वीप में कोई सीमा निर्धारित नहीं करते हैं, वे वास्तव में महसूस करेंगे कि 'यहां मैं घर पर हूं। मैं भी इस देश का नागरिक हूं।"
एम्स्टर्डम में विंस्टन चर्चिल, ९ मई १९४८

'यूरोप' पर बाहरी लोगों का नजरियासंपादित करें

भौगोलिक और सांस्कृतिक, दोनों अर्थों में 'यूरोप' शब्द की परिभाषा पर हमेशा विवाद होता रहा है, जो खासकर खुद यूरोपीय लोगों के बीच होते हैं।

अमेरिकी विचारसंपादित करें

सीआईए वर्ल्ड फैक्टबुक के आखिरी अपडेट के अनुसार संयुक्त राज्य का भी यूरोप के प्रति नजरिया बदल रहा है। इसका २००५ का संस्करण यूरोपीयसंघ के बारे में निम्नलिखित कहता है: वर्ल्ड फैक्टबुक के नवीनतम संस्करण में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हुए हैं। यूरोपीयसंघ को अब अब से एक "अन्य" इकाई के रूप में शामिल किया गया है। यूरोपीयसंघ लगातार एक देश जैसी विशेषताएं धारण कर रहा है और इसी कारण से एक अलग सूची का तैयार करना ही उपयुक्त होगा। यूरोपीयसंघ के प्रारंभिक वक्तव्य के तहत एक पूर्ण स्पष्टीकरण पाया जा सकता है।[4]

चीनी विचारसंपादित करें

यूरोपीय भविष्य के प्रति चीनी विचार बढ़ रहा है। कई वर्ष पहले प्रकाशित एक समाचारपत्र ने यूरोपीयसंघ को एक उभरती हुई महाशक्ति के रूप में देखा, जो "एक दिन चीन के सबसे बड़े व्यापार और निवेश बल के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका और जापान, दोनों से आगे निकलने के लिए तैयार है"।[5]

मध्य पूर्व में नकारात्मक प्रतिक्रियाएंसंपादित करें

'यूरोप' को एक इकाई के रूप में नकारात्मक धारणा रखने का एक उदाहरण जिलैंड्स-पोस्टन मुहम्मद कार्टून विवाद के दौरान आया था। अल-अक्सा शहीदों के ब्रिगेड ने गाजा में यूरोपीयसंघ के कार्यालयों पर छापा मारा, डेनमार्क और नॉर्वे से माफी की मांग की।[6] विरोध करने वाले फिलिस्तीनियों ने स्पष्ट रूप से कार्टून को 'यूरोप के एक गंभीर मुद्दे' के रूप में देखा, जबकि यूरोप के लोग खुद भी इस मुद्दे को गंभीर रूप से नहीं देख रहे थे। हालांकि यूरोपीयसंघ ने अंततः विवाद पर एक बयान जारी किया।

'यूरोप' का विचारसंपादित करें

एक यूरोपीय पहचान की समझ की शुरुआत एक समान यूरोपीय ऐतिहासिक आख्यान से आता है। बदले में इसे सबसे मौलिक यूरोपीय मूल्यों का स्रोत माना जाता है। आमतौर पर इस 'सामान्य इतिहास' में प्राचीन यूनान और प्राचीन रोम सभ्यता, मध्य युग का सामंतवाद, पुनर्जागरण, यूरोपीय ज्ञानोदय, १९वीं सदी का उदारवाद जैसे सकारात्मक से लेकर उपनिवेशवाद और विश्व युद्ध जैसे नकारात्मक तत्व शामिल हैं। भले ही यूरोपीय एकीकरण के समर्थक अक्सर विशेष रूप से यूरोपीय संविधान पर चर्चा में 'समान संस्कृति' की बात करते हैं, इसकी सटीक प्रकृति विवादित है। यह राजनीति और समसामयिक मामलों पर एक समान दृष्टिकोण नहीं बनाता है: यूरोपीय लोग एक-दूसरे से असहमत होते रहते हैं, जैसा कि उन्होंने हजारों वर्षों से किया है।

विशिष्ट रूप में यूरोपीय विरासत और परंपरा पश्चिमी दुनिया के कथित सामान्य इतिहास और विरासत के समान हैं। जिन देशों में यूरोपीय आप्रवास के रूप में बहुमत में आ गए, वे भी इस विरासत का दावा कर सकते हैं, और संयुक्त राज्य में धर्मनिरपेक्ष रूढ़िवादी इस पर जोर देते हैं। मॉरीशस फान डेर फीन ने इस पर बयान दिया था:[7]

"कुछ लोगों ने तर्क दिया है कि एक साझा यूरोपीय इतिहास और संस्कृति है जिसे सभी यूरोपीय साझा करते हैं और जिनकी विशेष सामग्री और तथ्य - शारलेमेन से इरास्मस तक, नेपोलियन से हिटलर तक, दांते से शेक्सपियर आदि तक - एक साझा चेतना प्रदान करने में मदद करते हैं। बेशक, कोई यह सवाल कर सकता है कि यह संस्कृति हमें पश्चिमी के बजाय यूरोपीय के रूप में किस हद तक चिह्नित करती है: उदाहरण के लिए, जर्मन या इटालियंस की तुलना में अधिक ऑस्ट्रेलियाई और अमेरिकी शायद शेक्सपियर को पढ़ते हैं।"

'समान विरासत' में कुछ विवादास्पद तत्व भी शामिल हैं, जिसका ईसाई धर्म सबसे बड़ा उदाहरण है। यूरोपीय सम्मेलन ने प्रस्तावित यूरोपीय संविधान में ईसाई धर्म और/या ईश्वर के संदर्भ को शामिल करने से इनकार कर दिया। प्रस्तावना में अंतत: अपनाए गए पाठ में लिखा है:

यूरोप की सांस्कृतिक, धार्मिक और मानवतावादी विरासत से प्रेरणा लेते हुए, जिसने मानव व्यक्ति, स्वतंत्रता, लोकतंत्र, समानता और कानून के शासन के अहिंसक और अपरिवर्तनीय अधिकारों के सार्वभौमिक मूल्यों को विकसित किया है। . .

लोकप्रिय संस्कृति में अखिल-यूरोपीय पहचानसंपादित करें

सामान्य सांस्कृतिक विरासत को आमतौर पर उच्च संस्कृति के संदर्भ में देखा जाता है। एक समकालीन अखिल-यूरोपीय संस्कृति के उदाहरणों को लोकप्रिय संस्कृतियों के कुछ रूपों तक सीमित किया गया है:

  • फुटबॉल: यूरोप का सबसे प्रसिद्ध खेल होने के नाते अधिकतर यूरोपीय फुटबॉल खिलाड़ियों को महाद्वीप के दूसरे देशों की टीम के लिए खेलते हुए पाया जा सकता है। इसके कुछ जाने माने उदाहरणों में फ़्रांस के थिएरी हेनरी (आर्सेनल) और पैट्रिक विएरा (इंटर मिलान), इंग्लैंड के डेविड बेखम (रियल मैड्रिड), जर्मनी के माइकल बल्लैक (चेल्सी) और येंस लहमान (आर्सेनल), इटली के जियानलुका ज़ामब्रोता (एफसी बार्सेलोना) और नीदरलैंड के आर्यन रोबेन (चेल्सी और बायर्न म्यूनिख), रॉबिन वन पेर्सिए (आर्सेनल) और रूद वन निस्तेलरूय (रियल मैड्रिड) शामिल हैं। उच्च यूरोपीय क्लब अक्सर एक दूसरे से यूएफा द्वारा संगठित प्रतियोगिताओं में मुकाबला करते हैं।
  • संगीत: यूरोडांस और ईडीएम, खासकर जिनमें हाउस, ट्रांस, टेकनो और यूरोपॉप शामिल हैं, अक्सर युवाओं में लोकप्रिय होते हैं। कई यूरोपीय बैंड और कलाकारों को पिछले दशक में पूरे महाद्वीप में लोकप्रियता मिली है। इनके कुछ उदाहरण रॉबी विलियम्स (ब्रिटेन), डाफ़्त पंक (फ़्रांस) और एक्वा (डेनमार्क) शामिल हैं।
  • आधुनिक संस्कृति में यूरोविज़न संगीत प्रातयोगिता यूरोप की सबसे पुरानी अखिल-यूरोप तत्वों में से एक है।[8] प्रातयोगिता को यूरोपीयसंघ नहीं बल्कि यूरोपीय प्रासंगिकता संघ चलाता है, और इसकी शुरुआत यूरोपीय आर्थिक समुदाय से भी पहले हुई थी। यह प्रातयोगिता कुछ गैर-यूरोपीय देशों के लिए भी उपलब्ध है जो ईबीयू के सदस्य हैं। भले ही इसे करोड़ों की संख्या में लोग देखते हैं और इसकी मीडिया में भी बहुत चर्चा रहती है, पश्चिमी यूरोप में इसे एक सस्ते मनोरंजन के रूप में देखा जाता है।[9] पूर्वी यूरोप में इसे गंभीरता से लिया जाता है, और इसमें भाग लेने को 'यूरोप का हिस्सा होने' के रूप में देखा जाता है, और कई बार तो इसे यूरोपीयसंघ में पहुँचने का पहला कदम भी माना जाता है।[10]
  • इलेक्ट्रॉनिक आर्ट्स की गेम बैटल्फील्ड २ ने 'यूरो फोर्स' नाम की सेना का बूस्टर पैक लाया था। इसे भविष्य के काल्पनिक सेना को दर्शाने के लिए बनाया गया था जो काफी हद तक यूरोफोर से प्रेरित थी। यह सेना यूरोपीय झंडे के साथ लड़ती थी और यूरोपीय हथियारों का इस्तेमाल करती थी जिसमें यूरोफाइटर टाइफून भी शामिल था।

यूरोपीयसंघ के साथ पहचान को जबरन बढ़ावा देने के लिए लोकप्रिय संस्कृति का उपयोग करने के प्रयास विवादास्पद रहे हैं। १९९७ में यूरोपीय आयोग ने स्कूलों में बच्चों को द रास्पबेरी आइस क्रीम वॉर नामक एक कॉमिक स्ट्रिप बाँटा। उम्मीदनुसार कई लोग इससे निराश हुए, जिसके चलते लंदन में यूरोपीयसंघ के कार्यालय ने ब्रिटेन में ऐसा करने से इनकार किया।

यह भी देखें:[1][2]

खेल में यूरोपीय टीमेंसंपादित करें

 
यूरोप ने २००४ राइडर कप जीता

यूरोप के लगभग सभी खेल राष्ट्रीय या उप-राष्ट्रीय आधार पर आयोजित किए जाते हैं। 'यूरोपीय टीमें' दुर्लभ हैं, जिसका एक उदाहरण राइडर कप है जिसमें यूरोप संयुक्त राज्य से गोल्फ में मुकाबला करता है। यूरोपीय ओलंपिक टीम बनाने का प्रस्ताव है।[11] यूरोबैरोमीटर सर्वेक्षणों के अनुसार केवल ५% उत्तरदाताओं को लगता है कि यह उन्हें 'यूरोपीय नागरिक' के रूप में अधिक महसूस कराएगा।[12]

यूरोपीय चिह्नसंपादित करें

यूरोप महाद्वीप में ऐसा कोई चिह्न नहीं है जिसे पूरे यूरोप में पहचाना जा सके, हालाकि यूरोपीयसंघ और यूरोपीय काउन्सल ने यूरोप को कुछ बुनियादी चिह्न दिए हैं जो अधिकतर देश रखते हैं। वे चिह्न हैं:

  • एक झंडा, यूरोप का झंडा – अधिकतर यूरोप का यह एक चिह्न है, जिसे काउन्सल ऑफ यूरोप ने प्रायोजित किया था (और अतः यूरोपीयसंघ ने रख लिया)
  • एक राष्ट्रगान, ओड टू जॉय – as झंडे की तरह यह काउन्सल ऑफ यूरोप के सभी सदस्य के साथ सभी यूरोपीयसंघ के सदस्य राष्ट्रों का चिह्न है
  • एक राष्ट्रीय दिवस, यूरोप दिवस (९ मई) – झंडे और राष्ट्रगान की तरह
  • एक मुद्रा, यूरो यूरो को एकता का चिह्न मानते हुए सबने प्रयोग करना शुरू किया था, ना कि किसी व्यावहारिक या आर्थिक कारण से। यूरोपीयसंघ के बाहर भी कई देश इसका इस्तेमाल करते हैं, लेकिन यूरोपीयसंघ के अंदर ऐसे कई देश हैं जो इसका इस्तेमाल नहीं करते हैं। परंतु जो देश इसका इस्तेमाल नहीं करते वे अल्पसंख्यक हैं।

.eu डोमेनसंपादित करें

.eu डोमेन को २००५ में आयोजित किया गया था जिसका उद्देश्य इंटरनेट पर यूरोपीय पहचान का नया चिह्न होना था। .eu डोमेन का आयोजन अभियान खासतौर पर "आपकी यूरोपीय पहचान" कहता है। डोमेन का प्रयोग करने वालों को यूरोपीयसंघ में होना जरूरी है।

यूरोपीय सेना और सुरक्षा बलसंपादित करें

 
यूफोर पहिएदार बख्तरबंद वाहन

राष्ट्र-राज्यों में राष्ट्रीय सशस्त्र बल अपने आप में एक एकीकृत कारक के रूप के साथ देशभक्ति के केंद्र के रूप में काम करते हैं। यूरोपीयसंघ में यह कारक अनुपस्थित है: अधिकांश सदस्य राज्य एक सैन्य गठबंधन, नाटो के सदस्य हैं, जो 'यूरोपीय' नहीं बल्कि चरित्र में अटलांटिक है। यूरोपीयसंघ बल की स्थापना २००३ में हुई थी। २००८ तक ६०,००० स्थाई व्यक्तियों का एक रैपिड रिएक्शन फोर्स बनाने का लक्ष्य रखा गया था। परंतु राष्ट्रीय संप्रभुता के बारे में चिंताओं के कारण कोई अखिल-यूरोपीय सेना नहीं है, ऐसी कोई सेना बनाने के लिए कोई यूरोपीयसंघ की अब तक कोई नीति नहीं है और वर्तमान या भविष्य में भी एक की कोई संभावना नहीं है।

इसी तरह के कारणों के लिए जुलाई १९९९ में स्थापित की गई यूरोपीय आपराधिक खुफिया एजेंसी यूरोपोल को एक यूरोपीय पुलिस नहीं बनाया गया और उसे ऐसा बनाने का कोई इरादा भी नहीं है। हालांकि इसे कभी-कभी 'यूरोपीय एफबीआई' के रूप में वर्णित किया जाता है, इसकी अपनी कोई जांच शक्ति नहीं होती है, और यह राष्ट्रीय पुलिस बलों के माध्यम से काम करती है। (एफबीआई संयुक्त राज्य में संघीय अपराधों की जांच करती है, और चूंकि कोई 'यूरोपीय आपराधिक कानून' नहीं है, इसलिए कोई तुलनीय जांच भूमिका नहीं है)।

अखिल-यूरोपीय परियोजनाएंसंपादित करें

कुछ मामलों में यूरोपीयसंघ के साथ पहचान जोड़ने को अखिल-यूरोपीय परियोजनाओं की मदद से बढ़ावा दिया जा सकता है। राष्ट्र-राज्यों ने ढांचागत और वैज्ञानिक परियोजनाओं का उपयोग करके राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देने का प्रयास किया है, जिसमें विशेष रूप से १९वीं सदी में राष्ट्रीय रेलवे नेटवर्क का निर्माण शामिल है। कुछ 'अखिल-यूरोपीय' परियोजनाएं हैं जिनमें से अधिकांश यूरोपीयसंघ तक सीमित हैं, अन्य में यूरोप के अन्य सदस्य देशों की परिषद शामिल है।

ट्रांस-यूरोपीयन नेटवर्कसंपादित करें

ट्रांस-यूरोपीयन नेटवर्क की बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में १९वीं और २०वीं सदी के राष्ट्रीय बुनियादी ढांचे के कार्यक्रमों की सबसे बड़ी समानता है। उनका उद्देश्य यूरोपीय बुनियादी ढांचे में सुधार करना है।

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसीसंपादित करें

 
यूरोप के एरियन ५ हेवी लिफ्ट लॉन्च व्हीकल ने यूरोपीय मानव रहित कार्गो को फिर से आपूर्ति करने वाले अंतरिक्ष यान अल्बर्ट आइंस्टीन एटीवी को अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन तक पहुंचाया।

यूरोपीय अंतरिक्ष अभिकरण का मुख्यालय पेरिस, फ्रांस में है। यूरोपीय अंतरिक्ष अभिकरण यूरोपीयसंघ का भाग नहीं है, और सभी यूरोपियसंघ सदस्य राज्य इस अभिकरण के सदस्य नहीं हैं। यूरोपीय अंतरिक्ष अभिकरण का अंतरिक्ष अड्डा यूरोपीयसंघ के क्षेत्र में है, भले ही यह दक्षिण-अमेरिकी महाद्वीप में स्थित है। फ्रेंच गुयाना के कुरु में गुयाना अंतरिक्ष केंद्र को प्रक्षेपण स्थल के रूप में चुना गया था क्योंकि यह भूमध्य रेखा के करीब है, जहाँ से व्यावसायिक रूप से महत्वपूर्ण परिक्रमों तक पहुंचना आसान है। एरियन ४ के युग के दौरान यूरोपीय अंतरिक्ष अभिकरण ने वाणिज्यिक अंतरिक्ष प्रक्षेपणों में बाजार के उच्च स्थिति प्राप्त की।

यूरोपीय जीपीएस: गैलीलियोसंपादित करें

यूरोपीय अंतरिक्ष अभिकरण ने गैलीलियो जीपीएस नेटवर्क के लिए आवश्यक उपग्रहों का पहला सेट लॉन्च किया है। यह मुख्य रूप से यूरोपीयसंघ द्वारा अमेरिकी सैन्य प्रौद्योगिकी[13] पर निर्भरता को कम करने की एक राजनीतिक घोषणा है और इस प्रकार इसे एक राजनीतिक बयान के रूप में देखा जा सकता है। जहाँ जीपीएस अमेरिकी सैन्य नियंत्रण के तहत संचलित होता है, वहीं दूसरी ओर गैलीलियो प्रणाली नागरिक नियंत्रण में संचालित होती है। यह उच्च ऊँचाई पर अधिक सटीक नेविगेशन और कवरेज प्रदान करता है।

एयरबस और यूरोफाइटरसंपादित करें

कई लोग तर्क देते हैं कि एयरबस की सफलता ने साबित कर दिया है कि यूरोपीय संयुक्त-परियोजनाएं संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ सफलतापूर्वक प्रतिस्पर्धा कर सकती हैं,[14] हालांकि विश्व व्यापार संगठन के साथ अभी भी कई मुद्दे हैं जो एयरबस और बोइंग के विमान परियोजनाओं के छिपे और/या अवैध अनुवृत्ति वाले वित्तपोषण के आरोपों पर बात करते हैं। वैसे तो इसे 'यूरोपीय' इसलिए वर्णित किया जाता है क्योंकि यह अमेरिकी नहीं है, लेकिन एयरबस स्वयं यूरोपीयसंघ की परियोजना नहीं है।

एयरबस की तरह यूरोफाइटर को भी इसलिए यूरोपियाई माना जाता है क्योंकि वह अमेरिकी नहीं है; उसके चार सःप्रायोजक यूरोपीय हैं और, और अन्य यूरोपीय देशों द्वारा विमान खरीदने की संभावना है। फ्रांस, स्वीडन और रूस सभी प्रतिस्पर्धी विमानों का निर्माण करते हैं।

पुस्तकेंसंपादित करें

  • २००४, द यूरोपियन ड्रीम: हाउ यूरोप्स विज़न ऑफ़ द फ्यूचर इज़ क्विटली एक्लिप्सिंग द अमेरिकन ड्रीम, जेरेमी रिफ़किन
  • २००४, द युनाइटेड स्टेट्स ऑफ़ यूरोप: द न्यू सुपरपावर एंड द एंड ऑफ़ अमेरिकन सुपरमेसी, टीआर रीड

यह भी देखेंसंपादित करें

संदर्भसंपादित करें

  1. Eurobarometer survey 2005 shows that only 17% of EU citizens often think of themselves as European in addition to their own nationality, with a low of 8% in the UK. Two-thirds of the British poll (66%) never consider themselves to be European, the EU average is 42%. Slightly less than half (46%) of EU25 citizens were 'very proud' of their nationality, but across the European Union, only 12% of those polled were 'very proud' to be European.
  2. Graph 6 in How the Europeans see themselves – Looking through the mirror with public "Archived copy". मूल से 25 March 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-07-04.सीएस1 रखरखाव: Archived copy as title (link)."The results of ordered logit analyses confirm that stronger feelings of national identity lead to lower levels of support for the EU." Sean Carey, 2002. Undivided Loyalties: Is National Identity an Obstacle to European Integration? European Union Politics, Vol. 3, No. 4, 387–413 (2002)
  3. "Building a common 'European fatherland'". मूल से 17 December 2004 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 March 2006.
  4. "CIA World Factbook – What's new". मूल से 10 May 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 March 2006.
  5. "Europe now seen as new superpower".
  6. "Fatah assaults European Union office". Wikinews. 30 January 2006.
  7. A. Maurits van der Veen, 2002. DETERMINANTS OF EUROPEAN IDENTITY: A PRELIMINARY INVESTIGATION USING EUROBAROMETER DATA.
  8. "Eurovision is something of a cultural rite in Europe." Archived 10 अप्रैल 2006 at the Wayback Machine
  9. From National Pride to Global Kitsch : the Eurovision Song Contest "संग्रहीत प्रति". मूल से पुरालेखित 18 मार्च 2008. अभिगमन तिथि 25 फ़रवरी 2022.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link), "an exercise in kitsch" , "annual kitsch extravaganza" , "an expression of post-modern kitsch" , "50 years of kitsch" , "annual festival of kitsch pop" , "showcase of good-spirited kitsch" "Archived copy". मूल से 10 April 2006 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2006-08-30.सीएस1 रखरखाव: Archived copy as title (link)
  10. "We are no longer knocking at Europe's door," declared the Estonian Prime Minister after his country's victory in 2001. "We are walking through it singing... The Turks saw their win in 2003 as a harbinger of entry into the EU, and after the Orange Revolution in Ukraine, tonight's competition is a powerful symbol of Viktor Yushchenko's pro-European inclinations." Oj, oj, oj! It's Europe in harmony. The Times, 21 May 2005. ""This contest is a serious step for Ukraine towards the EU," Deputy Prime Minister Mykola Tomenko said at the official opening of the competition." BBC, Ukrainian hosts' high hopes for Eurovision
  11. "European Olympic Team". मूल से 31 March 2006 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 February 2006.
  12. Eurobarometer 251, p 45, .
  13. "Q&A: Europe's Galileo project". 24 April 2008.
  14. "Archived copy". मूल से 18 September 2006 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 July 2016.सीएस1 रखरखाव: Archived copy as title (link)

बाहरी संबंधसंपादित करें