रंग दृष्टि (color vision) किसी जीव या यंत्र की देखने की प्रक्रिया में प्रकाश में उपस्थित भिन्न तरंगदैर्घ्यों (वेवलेंथों) या आवृत्ति (फ़्रिक्वेन्सी) का अंतर भाँपने की क्षमता होती है। अलग-अलग वस्तुएँ एक-दूसरे से भिन्न तरंगदैर्घ्यों से प्रकाश उत्पन्न या प्रतिबिम्बित करती हैं, इसलिए रंग दृष्टि तीव्रता से दृश्य समझने में बहुत लाभदायक होती है। यह भिन्न तरंगदैर्घ्य प्राणी को अलग-अलग रंग प्रतीत होते हैं। मानवों व अन्य स्तनधारियों में रंग दृष्टि उनकी आँखों के दृष्टि पटल (रेटिना) में उपस्थित शंकु कोशिकाएँ प्रदान करती हैं।[1][2]

लाल, हरे और अन्य रंगों के कैमरा फ़िल्टर

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Nathans, Jeremy; Thomas, Darcy; Hogness, David S. (April 11, 1986). "Molecular Genetics of Human Color Vision: The Genes Encoding Blue, Green, and Red Pigments". Science. 232 (4747): 193–202. Bibcode:1986Sci...232..193N.
  2. Wyszecki, Günther; Stiles, W.S. (1982). Color Science: Concepts and Methods, Quantitative Data and Formulae (2nd ed.). New York: Wiley Series in Pure and Applied Optics. ISBN 0-471-02106-7.