राजिंदर सिंह बेदी

हिंदी व उर्दू के लेखक

राजिंदर सिंह बेदी एक हिन्दी और उर्दू उपन्यासकार, निर्देशक, पटकथा लेखक, नाटककार थे। इनका जन्म 1 सितम्बर 1915 को सियालकोट, पंजाब, ब्रिटिश भारत में हुआ था, लेकिन वे विभाजन के बाद पाकिस्तान से भारत आए थे।। यह पहले अखिल भारतीय प्रगतिशील लेखक संघ के उर्दू लेखक थे। जो बाद में हिन्दी फ़िल्म निर्देशक, पटकथा लेखक, संवाद लेखक बन गए। यह पटकथा और संवाद में ऋषिकेश मुखर्जी की फ़िल्म अभिमान, अनुपमा और सत्यकाम; और बिमल रॉय की मधुमती के कारण जाने जाते हैं।[1][2] यह निर्देशक के रूप में दस्तक (1970) की फ़िल्म जिसमें संजीव कुमार और रेहना सुल्तान थे, के कारण जानते जाते हैं।[3] उन्हें विभाजन पर लिखी गई उनकी मन को 'विचलित' करने वाली दुखद कहानियों के लिए जाना जाता है।[4]

राजिंदर सिंह बेदी
150px
जन्म 01 सितम्बर 1915
सियालकोट, पंजाब, ब्रिटिश भारत
मृत्यु 1984
मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
व्यवसाय उपन्यासकार, निर्देशक, पटकथा लेखक, नाटककार

जीवनसंपादित करें

इनका जन्म 1 सितम्बर 1915 को सियालकोट, पंजाब, ब्रिटिश भारत में हीरा सिंह बेदी और सेवा दाई के घर में हुआ था।[5] यह कई वर्षों तक उर्दू में शिक्षा ग्रहण करते रहे। लेकिन यह महाविद्यालय की शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाये। विभाजन के बाद 1947 में उनका परिवार फाजिल्का, पंजाब, भारत में आ गया।

विरासतसंपादित करें

उनके याद में पंजाब सरकार ने राजिंदर सिंह बेदी पुरस्कार नाम रखा। जिसे उर्दू साहित्य में अपना योगदान देने वाले को यह पुरस्कार दिया जाता है। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास एक चादर मैली–सी के लिये उन्हें सन् १९६५ में साहित्य अकादमी पुरस्कार (उर्दू) से सम्मानित किया गया।[6]


सन्दर्भसंपादित करें

  1. Bollywood greats
  2. Urdu Studies
  3. "Emergency? No thanks". The Times of India. 16 July 2005. अभिगमन तिथि 2014-08-26.
  4. "Emergency? No thanks". The Times of India. 16 July 2005. अभिगमन तिथि 2014-08-26.
  5. Singh, Ranjit (2008). Sikh Achievers. Hemkunt Press. pp. 152–153. ISBN 978-81-7010-365-3.
  6. "अकादमी पुरस्कार". साहित्य अकादमी. अभिगमन तिथि 11 सितंबर 2016.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें