राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसन्धान और प्रशिक्षण परिषद (अंग्रेज़ी:नेशनल काउन्सिल ऑफ एड्युकेशनल रिसर्च एण्ड ट्रेनिंग, लघु:NCERT अंग्रेज़ी: National Council of Educational Research and Training) भारत सरकार द्वारा स्थापित संस्थान है जो विद्यालयी शिक्षा से जुड़े मामलों पर केन्द्रीय सरकार एवं प्रान्तीय सरकारों को सलाह देने के उद्देश्य से स्थापित की गयी है। यह परिषद भारत में स्कूली शिक्षा संबंधी सभी नीतियों पर कार्य करती है।[1] इसका मुख्य कार्य शिक्षा एवं समाज कल्याण मंत्रालय को विशेषकर स्कूली शिक्षा के संबंध में सलाह देने और नीति-निर्धारण में मदद करने का है। इसके अतिरिक्त एनसीईआरटी के अन्य कार्य हैं शिक्षा के समूचे क्षेत्र में शोधकार्य को सहयोग और प्रोत्साहित करना, उच्च शिक्षा में प्रशिक्षण को सहयोग देना, स्कूलों में शिक्षा पद्धति में लाए गए बदलाव और विकास को लागू करना, राज्य सरकारों और अन्य शैक्षणिक संगठनों को स्कूली शिक्षा संबंधी सलाह आदि देना और अपने कार्य हेतु प्रकाशन सामग्री और अन्य वस्तुओं के प्रचार की दिशा में कार्य करना।[2] इसी तरह भारत में शिक्षा से जुड़े लगभग हरेक कार्य में एनसीईआरटी की उपस्थिति किसी न किसी रूप में रहती है।

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद
संक्षेपाक्षर एन.सी.ई.आर.टी.
सिद्धांत विद्ययाऽमृतम्श्नुते
प्रकार शैक्षिक संस्थान
वैधानिक स्थिति सक्रिय
उद्देश्य शिक्षा में गुणवत्ता लाना
मुख्यालय नई दिल्ली
स्थान
सेवित
क्षेत्र
भारत
आधिकारिक भाषा
हिन्दी, English, उर्दू
निदेशक
हृषीकेश सेनापति
जालस्थल www.ncert.nic.in

कई अन्य शैक्षणिक संस्थान एनसीईआरटी के सहयोगी के तौर पर कार्यरत हैं[3], इनमें प्रमुख हैं:

  1. राष्ट्रीय शिक्षा संस्थान, नई दिल्ली
  2. केन्द्रीय शिक्षा प्रौद्योगिकी संस्थान, नई दिल्ली
  3. पं.सुंदरलाल शर्मा केन्द्रीय व्यावसायिक शिक्षा संस्थान, भोपाल
  4. क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान, अजमेर
  5. क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान, भोपाल
  6. क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान, भुवनेश्वर
  7. क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान, मैसूर
  8. उत्तर-पूर्वी क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान, शिलांग

इनके अलावा महिला शिक्षा विभाग (दि डिपार्टमेंट ऑफ वुमेन स्टडीज), जो महिला शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत है। इस दिशा में यह संस्था नीतिगत बदलाव और सलाह का आदान-प्रदान करती है। यह विभाग भी केंद्र और राज्यों के साथ मिलकर महिला शिक्षा के क्षेत्र में गत दो दशक से कार्य कर रही है। इनके अलावा, कई गैर सरकारी संस्थान भी एनसीईआरटी के साथ मिलकर शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत हैं। यह गैर सरकारी संगठन देश के सुदूर भागों में कार्यरत हैं और शिक्षा के क्षेत्र में कई काम कर चुके हैं और कर रहे हैं।[1]

एनसीईआरटी के वर्तमान निदेशक शिक्षाविद् प्रोफेसर हृृृृषीकेश सेनापति हैं। वे सितंबर 2015 से इस पद पर हैं और उनके कार्यकाल में अब तक एनसीईआरटी प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक स्तर की शिक्षा में व्यापक सुधार लाए जाने हेतु कई परिवर्तन किए हैं।

सन्दर्भ

  1. एनसीईआरटी। हिन्दुस्तान लाइव। २१ फ़रवरी २०१०
  2. कक्षा I – XII के लिए पाठ्यक्रम (एनसीईआरटी) Archived 2009-11-25 at the Wayback Machine। भारत सरकार का राष्ट्रीय पोर्टल
  3. "कॉन्स्टिटुएन्ट्स". मूल से 16 फ़रवरी 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 फ़रवरी 2010.

बाहरी कड़ियाँ