लुधियाना (Ludhiana) भारत के पंजाब राज्य के लुधियाना ज़िले में स्थित एक नगर है। यह ऐतिहासिक नगर सतलुज नदी के किनारे सन् 1480 में बसाया गया था। इसका नाम लोधी वंश के ऊपर रखा गया।[1][2][3][4]

लुधियाना
Ludhiana
ਲੁਧਿਆਣਾ
लुधियाना नगर के दृश्य
लुधियाना नगर के दृश्य
लुधियाना is located in पंजाब
लुधियाना
लुधियाना
पंजाब में स्थिति
निर्देशांक: 30°55′N 75°51′E / 30.91°N 75.85°E / 30.91; 75.85निर्देशांक: 30°55′N 75°51′E / 30.91°N 75.85°E / 30.91; 75.85
देश भारत
प्रान्तपंजाब
ज़िलालुधियाना ज़िला
जनसंख्या (2011)
 • कुल16,18,879
भाषा
 • प्रचलितपंजाबी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
वेबसाइटludhiana.nic.in
गुरु नानक स्टेडियम
खन्ना में एक पुराना भवन
लुधियाना रेलवे स्टेशन

नामोत्पत्ति व इतिहाससंपादित करें

इसका प्राचीन नाम लोदी-आना था, जो कि लोदी वन्श के नाम पर था।[5] सतलुज नदी के किनारे स्थित यह शहर 1480 में दिल्ली की लोदी वंश द्वारा स्थापित किया गया था। प्रथम सिख युद्ध (1845) में लुधियाना में एक बड़ी लड़ाई लड़ी गयी थी।

लुधियाना अब पंजाब का सबसे अधिक आबादी वाला महानगरीय शहर है। यहाँ का प्रमुख व्यापार कपड़ा निर्माण, ऊनी वस्त्र, मशीन टूल्स, मोपेड, तथा सिलाई मशीनों के इंजीनियरिंग केंद्र हैं। इसके होज़री माल की पूर्व और पश्चिम के सभी बाजारों में काफी मांग है, और यह ऊनी वस्त्र, मशीन टूल्स, मोपेड, सिलाई मशीन और मोटर पार्ट्स को पूरी दुनिया में निर्यात करता है।

विशव प्रसिद्ध पंजाब कृषि विश्वविद्यालय लुधियाना में स्थित है। इसमें बड़े अनाज बाजार हैं, और यह ग्रामीण ओलंपिक के लिए भी प्रसिद्ध है। इस जगह के आसपास स्थित कई गुरुद्वारों का ऐतिहासिक महत्व है। एक और महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्मारक लोधी किला है, जो लगभग 500 वर्ष पुराना है, और मुस्लिम शासक सिकंदर लोदी द्वारा सतलुज नदी के तट पर बनाया गया था।

भूगोलसंपादित करें

पंजाब के मध्यवर्ती स्थित शहरों में से एक, लुधियाना सतलज नदी के किनारे पर स्थित है। यह रोपर और फतेहगढ़ साहिब की सीमाओं और पश्चिम में, फरीदकोट के क्षेत्रों को अपनी सीमाओं पर छूता है। दक्षिण की ओर से संगरूर और पटियाला का जिला है। इसकी स्थलाकृति एक जलोढ़ मैदान के प्रतिनिधि है और जिले को सतलज बाढ़ के मैदान में विभाजित करती है। (लुधियाना का इंटरैक्टिव मानचित्र)

इतिहाससंपादित करें

लुधियाना का इतिहास 1481 तक एक लंबा रास्ता तय करता है जब यह मीर होता नामक एक छोटा गांव था। प्रारंभ में १९४९ तक योध्श द्वारा शासित हुए, बाद में यह राजा समुद्रगुप्त और राजपूतों के अधीन आया। मूल लुधियानाविया वास्तव में 9 वीं शताब्दी में बहुत बाद में बसे। १९ वीं शताब्दी की शुरुआत में, यह एक छोटी अवधि के लिए महाराजा रणजीत सिंह (१८०६) के शासनकाल के तहत किया गया है। उस समय के दौरान, यह एक महत्वपूर्ण ब्रिटिश छावनी बन गया, जो पहले 1809 में अंग्रेजों ने किया था। उन्होंने महाराजा के नियंत्रण को सतलज नदी के दाहिनी किनार तक सीमित कर दिया और ब्रिटिश सैनिकों को स्थायी रूप से लुधियाना में तैनात किया गया।

लुधियाना में रुचि के स्थानसंपादित करें

गुरुद्वारा मंजी साहिब, आलमगीरसंपादित करें

लुधियाना से 10 किमी की दूरी पर, गुरुद्वारा इस जगह की याद दिलाता है जहां मुस्लिम भक्तों नबी खान और गनी खान ने गुरु गोबिंद सिंह को युद्ध के दौरान सुरक्षा के लिए भेजा था। गुरु गोबिंद सिंह जी (1666-1708), सिख गुरुओं के अंतिम, शांतिवादी सिख पंथ को एक मार्शल समुदाय में बदल दिया। उन्होंने 'खालसा' के रूप में जानेवाली अच्छी तरह से संगठित सिख सेना में दीक्षा की शुरूआत की। वहां एक सरोवर है जहां यह माना जाता है कि गुरुजी ने वंहा धरती मैं तीर कर पानी निकला था।

पीर-आई-दस्तीगिर मंदिरसंपादित करें

लुधियाना के उत्तर-पश्चिम में किले में पीर-ई-दस्तगीर का मंदिर भी शामिल है, जिसे अब्दुल कादिर गैलानी भी कहा जाता है, जो हिंदू और मुस्लिम दोनों तीर्थयात्रीों को आकर्षित करता है।

फिल्लौर क़िलासंपादित करें

यह किला महाराज रणजीत सिंह के बहादुर जनरल दीवान मोहकम चंद ने बनाया था। यह अब पुलिस प्रशिक्षण केंद्र है।

पंजाब कृषि विश्वविद्यालय संग्रहालयसंपादित करें

1962 में स्थापित विश्व प्रसिद्ध पंजाब कृषि विश्वविद्यालय शहर के बाहरी इलाके में स्थित है। यह लैंड ग्रांट कॉलेज ऑफ अमेरिका के बाद पैटर्न है। पंजाब के ग्रामीण इतिहास का संग्रहालय विश्वविद्यालय के परिसर में है। संग्रहालय की इमारत ग्रामीण पंजाब के पारंपरिक घरों के समान है। एक 100 यार्ड लंबा मार्ग, दोनों तरफ पानी के चैनलों से घूमता है, संग्रहालय के पतले नक्काशीदार दरवाजे की ओर जाता है। पुराने कांस्य के बर्तन, खेती के उपकरण आदि के प्रदर्शन हैं।

गुरुद्वारा चरण कमलसंपादित करें

लुधियाना से 35 किमी गांव माछीवाड़ा गांव में स्थित यह गुरुद्वार एक ऐसी जगह का स्मरण करता है जहां एक विशाल मुगल सेना के खिलाफ एक गुरिल्ला युद्ध लड़ते हुए श्री गुरु गोबिंद सिंह ने विश्राम किया था।

गुरुद्वारा नानकसर जगराओंसंपादित करें

यह लुधियाना से 38 किमी दूर स्थित है, सिख संत के एक उल्लेखनीय स्मारक है।

घंटा घरसंपादित करें

यह लुधियाना के बीच बाजार में स्थित है,जो की बहुत ही सुन्दर बाजार है। यहाँ प्रत्येक रविवार को एक भीड़ बाजार लगता है,जहाँ कम मूल्यो पर सामान मिलता है।

आवागमनसंपादित करें

श्रीनगर से कन्याकुमारी जाने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 5 और पकिस्तान सीमा के समीप स्थित फ़िरोज़पुर से तिब्बत सीमा तक जाने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 44 दोनो यहाँ से गुज़रते हैं।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Economic Transformation of a Developing Economy: The Experience of Punjab, India," Edited by Lakhwinder Singh and Nirvikar Singh, Springer, 2016, ISBN 9789811001970
  2. "Regional Development and Planning in India," Vishwambhar Nath, Concept Publishing Company, 2009, ISBN 9788180693779
  3. "Agricultural Growth and Structural Changes in the Punjab Economy: An Input-output Analysis," G. S. Bhalla, Centre for the Study of Regional Development, Jawaharlal Nehru University, 1990, ISBN 9780896290853
  4. "Punjab Travel Guide," Swati Mitra (Editor), Eicher Goodearth Pvt Ltd, 2011, ISBN 9789380262178
  5. "India's Manchester". BBC. २८ फरवरी २००६. मूल से 18 अगस्त 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 फ़रवरी 2018.